script अब होम्योपैथी,आयुर्वेद और नेचुरोपैथी में भी होगा मेडिक्‍लेम, इरडा ने जारी किया 1 अप्रैल तक गाइडलाइन तैयार करने का आदेश | insurance coverage for Ayurveda and Homeopathy Treatment IRDA issued order to prepare guidelines by April 1 | Patrika News

अब होम्योपैथी,आयुर्वेद और नेचुरोपैथी में भी होगा मेडिक्‍लेम, इरडा ने जारी किया 1 अप्रैल तक गाइडलाइन तैयार करने का आदेश

locationनई दिल्लीPublished: Feb 03, 2024 05:16:05 am

Submitted by:

Anand Mani Tripathi

AYUSH : अब आयुष से इलाज का भी बीमा होगा। भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने बीमा कंपनियों को पॉलिसी में आयुर्वेद, योग, नेचुरोपैथी, यूनानी, सिद्धा और होम्योपैथी से उपचार को भी शामिल करने के निर्देश दिए हैं।

_insurance_coverage_for_ayurveda_and_homeopathy_treatment_irda_issued_order_to_prepare_guidelines_by_april_1.png

AYUSH : अब आयुष से इलाज का भी बीमा होगा। भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने बीमा कंपनियों को पॉलिसी में आयुर्वेद, योग, नेचुरोपैथी, यूनानी, सिद्धा और होम्योपैथी से उपचार को भी शामिल करने के निर्देश दिए हैं। इरडा ने कहा कि इससे बीमा पॉलिसियों की लोकप्रियता बढ़ेगी और ज्यादा से ज्यादा लोगों को फायदा मिल सकेगा।

इरडा ने निर्देश दिए कि इसके लिए जनरल इश्योरेंस कंपनियां 1 अप्रेल, 2024 तक गाइडलाइन तैयार कर लें। यह नए वित्त वर्ष से प्रभावी हो सकेगी। इरडा ने कहा कि गाइडलाइन में कंपनियों को गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देना चाहिए। आयुष अस्पतालों में कैशलेस इलाज की व्यवस्था करनी चाहिए।

इरडा का मानना है कि कुछ साल में आयुष इलाज काफी लोकप्रिय हुआ है। ऐसे में बीमा कंपनियों को आयुष इलाज को भी अन्य इलाज की तरह लेना चाहिए। इरडा ने कहा कि बीमा कंपनियां अपने प्रोडक्ट में बदलाव कर इसेे दोबारा आम लोगों को जारी करें। जिन बीमा पॉलिसी में आयुष के इलाज को लेकर प्रतिबंध लगाए गए हैं, उसे हटाकर क्लेम स्वीकार करना चाहिए।

हाल ही जनरल इंश्योरेंस काउंसिल ने बीमा कंपनियों से कहा है कि वह उन अस्पतालों में भी कैशलेस इलाज की सुविधा दें, जो उनकी लिस्ट में शामिल नहीं होते हैं। इसके लिए वर्तमान पॉलिसी में बदलाव कर दोबारा गाइडलाइन जारी करें।

ट्रेंडिंग वीडियो