scriptISRO's new rocket SSLV-D1 launched from Sriharikota Space Center | अंतरिक्ष में भारत की नई उड़ान, इसरो ने लॉन्च किया पहला SSLV-D1 | Patrika News

अंतरिक्ष में भारत की नई उड़ान, इसरो ने लॉन्च किया पहला SSLV-D1

इसरो ने भारत का नया प्रक्षेपणयान स्माल सैटेलाइट लांच व्हीकल-डेवलपमेंटल फ्लाइट 1 (एसएसएलवी-डी1) लॉन्च किया। इसरो ने सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से SSLV-D1 को पृथ्वी अवलोकन उपग्रह (EOS-02) और एक छात्र-निर्मित उपग्रहआजीदीसैट ले जाने के लिए लॉन्च किया।

नई दिल्ली

Published: August 07, 2022 09:44:57 am

इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन इसरो ने आज नया इतिहास रच दिया है। इसरो ने अपने पहले स्मॉल सेटेलाइट लॉन्च व्हीकल मिशन एसएसएलवी को लॉन्च कर दिया है। इसमें एक अर्थ ऑब्जर्वेशन सेटेलाइट और एक स्टूडेंट सेटेलाइट शामिल हैं। इसरो के अनुसार 34 मीटर लंबा और 120 टन वजनी एसएसएलवी.डी1 श्रीहरिकोटा के प्रक्षेपण केंद्र से सुबह 9.18 बजे उड़ान भरी। इसरो ने 500 किलोग्राम से कम वजन वाले उपग्रहों को पृथ्वी की कम ऊंचाई वाली कक्षा में स्थापित करने के लिए एसएसएलवी को विकसित किया है। एसएसएलवी की पहली उड़ान पूरी हो गई है। उम्मीद के मुताबिक सभी चरणों का प्रदर्शन किया। टर्मिनल चरण के दौरान Data loss देखी जाती है। इसका विश्लेषण किया जा रहा है।

SSLV-D1
SSLV-D1
दो उपग्रह भेजे गए
इस रॉकेट के जरिये बेहद कम समय व खर्च में 500 किलो तक के उपग्रह निचले परिक्रमा पथ पृथ्वी से 500 किमी ऊपर तक पर भेजे गए है। रविवार के मिशन में दो उपग्रह अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट 02 और आजादीसैट इस मिशन में भेजे कर नया इतिहास रच दिया है।
75 स्कूलों की 750 छात्राओं ने किया तैयार
आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में देश के 75 स्कूलों की 750 छात्राओं ने मिलकर आजादीसैट का निर्माण किया है। इस उपग्रह का वजन आठ किलोग्राम है। इसमें सौर पैनल, सेल्फी कैमरे हैं। इसके साथ ही लंबी दूरी के संचार ट्रांसपोंडर भी लगे हैं। यह उपग्रह छह महीने तक सेवाएं देगा। एक रिपोर्ट के अनुसार, इसके प्रक्षेपणयान की लागत 56 करोड़ रुपए है।

एसएसएलवी के फायदे
- सस्ता और कम समय में तैयार होने वाला।
- 34 मीटर ऊंचे एसएसएलवी का व्यास 2 मीटर है, 2.8 मीटर व्यास का पीएसएलवी इससे 10 मीटर ऊंचा है।
- एसएसएलवी 4 स्टेज रॉकेट है। पहली 3 स्टेज में ठोस ईंधन उपयोग होगा।
- चौथी स्टेज लिक्विड प्रोपल्शन आधारित वेलोसिटी ट्रिमिंग मॉड्यूल है जो उपग्रहों को परिक्रमा पथ पर पहुंचाने में मदद करेगा।

क्यों जरूरत पड़ी एसएसएलवी की
छोटे-छोटे सैटेलाइट्स को लॉन्च करने के लिए लंबा इंतजार किया जाता था। उन्हें बड़े सैटेलाइट्स के साथ असेंबल करके एक स्पेसबस तैयार करके उसमें भेजा जाता था। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छोटे सैटेलाइट्स काफी ज्यादा मात्रा में आ रहे हैं। उनकी लान्चिंग का बाजार बढ़ रहा है। इसलिए इसरो ने एसएसएलवी राकेट को तैयारी की है।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

सोशल मीडिया पर भी लगाम, प्रतिबंध के बाद अब PFI का ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट भी हुआ बंदअंकिता भंडारी मर्डर केस में आरएसएस नेता पर दर्ज हुआ मुकदमा, जानिए क्या है पूरा मामलाजम्मू-कश्मीर: उधमपुर धमाके की जांच के लिए फॉरेंसिक एक्सपर्ट के NIA की टीम रवाना, आतंकी साजिश की आशंका'हिम्मत हैं तो बिहार में RSS पर बैन लगाकर दिखाए', संघ पर प्रतिबंध लगाने की मांग पर गिरिराज सिंह ने लालू यादव को दी चुनौतीआज से 2 दिन के गुजरात दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी, 29 हजार करोड़ रुपए की परियोजनाओं की देंगे सौगातIND vs SA: जसप्रीत बुमराह फिर हुए चोटिल, टी20 वर्ल्ड कप से पहले भारत की मुसीबतें बढ़ीHoroscope Today 29 September: कैसा रहेगा आपके लिए नवरात्रि का चौथा दिन, पढ़ें आज का राशिफलNew CDS: रिटायर्ड ले. जनरल अनिल चौहान को मिली CDS की कमान, अजीत डोभाल के करीबी और आतंकवाद पर लगाम लगाने में हैं माहिर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.