scriptJammu Kashmir 125 year Old Saint Lukes Church Restored In Srinagar On Christmas | क्रिसमस के मौके पर श्रीनगर में फिर से शुरू हुआ 125 पुराना सेंट ल्यूक चर्च, तीन दशक बाद खोला गया | Patrika News

क्रिसमस के मौके पर श्रीनगर में फिर से शुरू हुआ 125 पुराना सेंट ल्यूक चर्च, तीन दशक बाद खोला गया

क्रिसमस से पहले जम्मू कश्मीर पर्यटन विभाग ने ईसाई समुदाय को बड़ा तोहफा दिया है। श्रीनगर में 125 वर्ष पुराने सेंट ल्यूक्स चर्च को दोबारा खोला गया है। इस चर्च को जीर्णोद्धार के बाद 30 वर्षों में शुरू किया गया है। आतंकी हमलों की वजह से 90 के दशक में इस चर्च को बंद कर दिया गया था।

नई दिल्ली

Published: December 24, 2021 07:29:35 pm

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर ( Jammu Kashmir )में धारा 370 हटाए जाने के बाद कई बदलाव देखने को मिल रहे हैं। इस बीच घाटी से एक अच्छी खबर सामने आई है। यहां श्रीनगर ( Srinagar ) में तीन दशक यानी पूरे 30 साल बाद क्रिसमस ( Christmas ) के मौके पर एक खास चर्च को खोला गया है। ईसाई त्योहार को देखते हुए 125 वर्ष पुराने सेंट ल्यूक्स चर्च को फिर से शुरू किया गया है। ये चर्च बीते 30 वर्षों से बंद था, जिसका अब जीर्णोद्धार किया गया है और जीर्णोद्धार के बाद आम जनता के लिए भी इसे खोल दिया गया है। दरअसल इस चर्च को इस आतंकी हमलों और स्टाफ के पलायन की वजह से बंद कर दिया गया था।
889.jpg
,,,,
आतंकी हमले के बाद 90 के दशक में किया था बंद
श्रीनगर में कुल सेंट ल्यूक्स चर्च कश्मीर के सबसे पुराने चर्चों में से एक है। 1990 के दशक में आतंकवादी हमले के बाद इसे बंद कर दिया गया था, जिसे अब 30 साल बाद दोबारा खोला गया है। यह चर्च श्रीनगर की शंकराचार्य पहाड़ी की तलहटी पर बना है। चर्च खोले जाने के बाद लोग इसमें जाकर प्रार्थना कर सकेंगे।

यह भी पड़ेँः क्रिसमस-न्यू ईयर पार्टी पर अलर्ट, जश्न की पार्टियों पर लग सकती है रोक
887.jpgक्रिसमस से पहले पर्यटन विभाग का तोहफा

सेंट ल्यूक्स चर्च का जीर्णोद्धार जम्मू कश्मीर पर्यटन विभाग की ओर से किया गया है। इसे स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत दोबारा दुरुस्त किया गया है। माना जा रहा है कि इसे खोले जाने से ईसाई समुदाय के लोग काफी खुश हैं और इसे क्रिसमस से पहले एक बड़ा तोहफा माना जा रहा है।
जीर्णोंद्धार में लगे 90 लाख रुपए

इस चर्च के जीर्णोद्धार के लिए पर्यटन विभाग की ओर से 90 लाख रुपए खर्च किए गए। 1990 से पहले यहां विशाल सभा का आयोजन होता था, लेकिन कुछ सालों से यह बंद पड़ा था।
890.jpeg1896 में भी दो भाईयों ने की थी स्थापना

इस चर्च की स्थापना डॉक्टर अर्थर नेवे और उनके भाई डॉक्टर अर्नेस्ट नेवी की ओर से वर्ष 1896 में की गई थी। दोनों डॉक्टर एक मिशनरी हॉस्पिटल से जुड़े थे। इसमें टीबी के मरीजों का उपचार किया जाता था। उस वक्त इस चर्च का निर्माण ब्रिटिश इंजीनियरों ने किया था।
यह भी पढ़ेँः Christmas 2021: होगी मिडनाइट प्रेयर, जीसस क्राइस्ट का करेंगे वेलकम

1960 में सरकार को सौंप दिया चर्च


डॉक्टरों ने 1960 के दशक में इस चर्च को सरकार को सौंप दिया था। दरअसल आतंकी हमले बढ़ने की वजह से चिकित्सकों समेत अन्य स्टाफ धीरे-धीरे पलायन करने लगा था, लिहाजा डॉक्टरों ने इस चर्च को सरकार को सौंप दिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

क्या सच में बुझा दी गई अमर जवान ज्योति? केंद्र सरकार ने दिया जवाबVideo: बॉम्बे हाई कोर्ट के जज के चैंबर में मिला 5 फीट लंबा सांप, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यूदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारUP Assembly Elections 2022 : एकाएक राजनीति में उतरकर इन महिलाओं ने सबको चौंकाया, बटोरी सुर्खियांभारत के इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में Adani Group की हो सकती है धमाकेदार एंट्री, कंपनी ने ट्रेडमार्क किया दायरआखिर करहल विधानसभा सीट से ही क्यों चुनाव लड़ना चाहते हैं अखिलेश यादवUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसइंडिया गेट पर लगेगी नेता जी की मूर्ति, पीएम मोदी ने ट्वीट की तस्वीर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.