script झारखंड में अब इस दिन होगा कैबिनेट विस्तार, डिप्टी सीएम को लेकर नहीं बन पा रही सहमति! | Jharkhand Cabinet expansion on 16th february trouble regarding Deputy CM | Patrika News

झारखंड में अब इस दिन होगा कैबिनेट विस्तार, डिप्टी सीएम को लेकर नहीं बन पा रही सहमति!

locationनई दिल्लीPublished: Feb 07, 2024 08:28:15 pm

Submitted by:

Shivam Shukla

Jharkhand cabinet expansion: झारखंड में गुरुवार को होने वाले कैबिनेट विस्तार को टाल दिया गया है। अब मंत्रीमंडल का विस्तार 16 फरवरी शाम 3 बजे निर्धारित किया गया है। सामने आई जानकारी के मुताबिक, कहा जा रहा है कि सरकार में डिप्टी सीएम को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है।

Jharkhand cabinet expansion

झारखंड में चंपई सोरेन की अगुवाई नवगठित सरकार का कैबिनेट विस्तार 16 फरवरी को होगा। पहले मंत्रीमंडल का विस्तार 8 फरवरी को होना था। लेकिन, बुधवार दोपहर बाद इस कार्यक्रम को स्थगित करने की अपील की गई है। राजभवन के अनुसार, अब मंत्रियों का शपथ ग्रहण 16 फरवरी को दोपहर तीन बजे नियत किया गया है। कयास लगाए जा रहे हैं कि कैबिनेट के सदस्यों को लेकर सरकार के भीतर बात नहीं बन पाई है। कहा जा रहा है कि कैबिनेट विस्तार में उपमुख्यमंत्री को लेकर पेंच फंस रहा है। गठबंधन में जो फॉर्मूला निर्धारित किया गया है, उसके अनुसार दो उपमुख्यमंत्री बनाए जाएंगे।

हेमंत सोरेन की भाभी बन सकती हैं डिप्टी सीएम

ऐसे में झारखंड मुक्ति मोर्चा की ओर से पूर्व सीएम हेमंत सोरेन की भाभी और विधायक सीता सोरेन और छोटे भाई बसंत सोरेन में से कोई एक होगा। जबकि कांग्रेस की ओर से आलमगीर आलम के नाम पर मुहर लगाई गई है। इससे पहले मंगलवार को सीता सोरेन का बयान सामने आया था। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि कैबिनेट शामिल होने के संकेत दिए थे। उन्होंने कहा था कि सभी बाबा ( JMM मुखिया शिबू सोरेन ) तय करेंगे। अगर उनका आशिर्वाद मिलेगा तो जरूर मंत्री बनूंगी। इसके अलावा उन्होंने कहा कि दल की तरफ से उन्हें जो भी जिम्मेदारियां सौंपी जाएंगी, उसका वह ईमानदारी के साथ निर्वहन करेंगी।

ये चेहरे बन सकते हैं मंत्री

डिप्टी सीएम के अलावा झारखंड मुक्ति मोर्चा कोटे से बेबी देवी, हफीजुल हसन और जोबा मांझी को दोबारा मंत्री बनाने की सुगबुगाहट सामने आई है। हेमंत सोरेन की सरकार में रहे कांग्रेस के तीन मंत्रियों बन्ना गुप्ता, बादल पत्रलेख और रामेश्वर उरांव को भी बदलने की चर्चा चल रही है। नए मंत्रियों के नाम पर कांग्रेस के भीतर भी अभी तक सहमति नहीं बन पाई है। बता दें कि 2 फरवरी को सीएम के शपथ ग्रहण के साथ दो मंत्रियों ने भी शपथ ली थी। ऐसे में कैबिनेट में 9 सदस्यों को ही मंत्रीमंडल में शामिल किया जा सकता है।

ट्रेंडिंग वीडियो