scriptJharkhand mob lynching first beaten young man then set him on fire | Jharkhand Mob Lynching: लकड़ी चोरी के आरोप में युवक की पहले की पिटाई, फिर जिंदा जलाया | Patrika News

Jharkhand Mob Lynching: लकड़ी चोरी के आरोप में युवक की पहले की पिटाई, फिर जिंदा जलाया

झारखंड के सिमडेगा जिले में मॉब लिंचिंग की एक बड़ी घटना हुई है। मंगलवार को 150 लोगों की भीड़ ने लकड़ी चोरी के आरोप में एक युवक को पहले पीटा, फिर उसे जिंदा जलाकर मार डाला। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पूरे मामले का संज्ञान लिया है।

नई दिल्ली

Published: January 05, 2022 11:46:13 am

झारखंड में मॉब लिंचिंग की एक बड़ी घटना हुई है। राज्य के सिमडेगा जिले में यह घटना हुई मंगलवार को 150 लोगों की भीड़ ने एक युवक को जिंदा जलाकर मार डाला। घटना के बाद मौके पर तनाव की स्थिति है। बड़ी संख्या में पुलिस के जवान घटनास्थल पर तैनात हैं। मामले की छानबीन जारी है। भीड़ ने संजू प्रधान नाम के युवक पर खूंटकटी कानून के उल्लंघन का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि युवक पेड़ों को काटकर गैरकानूनी रूप से बेचता था। जिससे इस कानून का उल्लंघन हो रहा था। मृतक के परिजनों के मुताबिक ग्रामीणों ने युवक को घर से बाहर निकाला और उसकी पिटाई की इसके बाद उसे जिंदा जला कर मार डाला।

lynching.jpg

घटना की जानकारी मिलने पर बड़ी संख्या में पुलिस के जवान घटनास्थल पर तैनात है। मामले की छानबीन तेजी से की जा रही है। इस निर्मम हत्या से मृतक के परिजनों का बुरा हाल है। वहीं इस घटना के बदला लेने में कोई और बड़ी घटना ना हो जाए इसे लेकर इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया है। इस घटना से एक बार फिर झारखंड में लॉ एंड ऑर्डर जैसे मुद्दे पर सवाल खड़ा हो गया है।

घटना को संज्ञान में लेते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सिमडेगा डीसी को जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए हैं। सिमडेगा के एसपी डॉक्टर शम्स तबरेज ने बताया कि खूंटकटी जमीन से पेड़ काटने को लेकर युवक की हत्या की गई है। मृतक का अपराधिक इतिहास रहा है। मृतक संजीव को पीटता देख उसकी मां और पत्नी ने भीड़ से गुहार लगाई। लेकिन पिटाई करने वालों ने किसी की नहीं सुनी।

झारखंड में हाल ही में मॉब लिंचिंग रोकथाम विधेयक को विधानसभा में पारित किया गया था। मॉब लिंचिंग रोकथाम विधेयक 2021 के तैयार मसौदे के अनुसार मॉब लिंचिंग के दोषी को सश्रम आजीवन कारावास और 25 लाख रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। इसके तहत लिंचिंग का अपराध सिद्ध होने पर शुरुआत में 1 साल का कारावास हो सकता है। वहीं से बढ़ाकर 3 साल तक के लिए भी किया जा सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारCorona Vaccination: देश में 8 टीकों को मंजूरी के बावजूद लगाए जा रहे सिर्फ 3, जानें बाकी का क्या है स्टेटसपीएम मोदी आज ब्रह्मकुमारियों के 'आजादी का अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर' अभियान श्रृंखला का शुभारम्भ करेंगेओमिक्रोन वायरस के इलाज में कौन सी दवा है सही, जानिए WHO की गाइडलाइनबोर्ड ने दी बड़ी सुविधा, 10 वीं और 12 वीं की प्री बोर्ड परीक्षार्थियों को मिली रियायतआर्थिक संकट के बावजूद गहलोत सरकार के ठाठ-बाट में कमी नहीं, मंत्रियों के लिए खरीदी 30 लग्जरी गाड़ियांVideo Corona Alert: हल्के में ना लें तीसरी लहर... बडे कम्युनिटी स्प्रेड में कोरोना संक्रमणRAJASTHAN विधानसभा का Budget सत्र, भाजपा 'लॉ एंड आर्डर' के मुद्दे पर करेगी 'ATTACK '
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.