scriptFarmers Protest: किसान आंदोलन को उकसा रहा खालिस्तानी आतंकी पन्नू, कहा- ‘पाकिस्तान सीमा से हथियार उठा लो…’ | kisan andolan khalistani terrorist gurpantwant singh pannu is provoking farmers said take weapons from kartarpur border and attack msp guarantee | Patrika News

Farmers Protest: किसान आंदोलन को उकसा रहा खालिस्तानी आतंकी पन्नू, कहा- ‘पाकिस्तान सीमा से हथियार उठा लो…’

locationनई दिल्लीPublished: Feb 19, 2024 11:48:19 am

Submitted by:

Paritosh Shahi

Farmers Protest: हरियाणा बार्डर पर डटे आन्दोलनरत किसानों को खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू उकसा रहा है। आतंकी पन्नू ने किसानों को एक वीडियो जारी कर कहा कि करतारपुर सीमा पर हथियार उपलब्ध है।

khalistani_terrorist_pannu.jpg

Kisan Andolan: अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों को खालिस्तानी गुरपतवंत सिंह पन्नू उकसा रहा है। सरकार के साथ बातचीत से पहले आतंकी पन्नू ने रविवार को एक वीडियो जारी किसानों को हथियार मुहैया कराने की पेशकश की थी। पन्नू के बयान पर अभी पुलिस की तरफ से कुछ नहीं कहा गया है। फिलहाल, आंदोलन कर रहे किसानों ने सरकार की तरफ से MSP यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मिले प्रस्ताव पर चर्चा करने की बात कही है और दो दिनों के लिए ‘दिल्ली चलो’ मार्च को भी रोक दिया है।

 

किसानों से क्या बोला पन्नू

जारी वीडियो में आतंकी पन्नू ने कहा, ‘भारतीय गोलियों से लड़ने के लिए खुद हथियार उठा लें। पाकिस्तान के पास करतारपुर सीमा पर हथियार उपलब्ध हैं।’

 


किसानों के साथ बातचीत करने के बाद केंद्रीय मंत्री पियूष गोयल गोयल ने कहा कि सरकार ने सहकारी समितियों NCCF (भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी संघ मर्यादित) और NAFED (भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ) को MSP पर दालें खरीदने के लिए किसानों के साथ पांच साल का समझौता करने का प्रस्ताव दिया है।

इसमें केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि उन्होंने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर दालें और कपास खरीदने के लिए किसानों के साथ पांच साल के समझौते का प्रस्ताव रखा है। पीयूष गोयल ने आगे कहा, “नए विचारों साथ, हमने भारतीय किसान मजदूर संघ और अन्य किसान नेताओं के साथ सकारात्मक चर्चा की। किसान संघ प्रतिनिधियों ने कुछ सकारात्मक सुझाव दिए हैं, इसमें पंजाब, हरियाणा के किसानों के साथ-साथ देश के अन्य किसानों, अर्थव्यवस्था और उपभोक्ताओं को भी लाभ होगा।”

उन्होंने आगे कहा,”हमने मिलकर एक बहुत ही इनोवेटिव, आउट-ऑफ-द-बॉक्स विचार प्रस्तावित किया है। सरकार ने एनसीसीएफ (नेशनल कोऑपरेटिव कंज्यूमर्स फेडरेशन ऑफ इंडिया) और एनएएफईडी (नेशनल एग्रीकल्चरल कोऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया) जैसी सहकारी समितियों के लिए अगले पांच वर्षों में किसानों से एमएसपी पर उत्पाद खरीदने के लिए एक अनुबंध बनाने का प्रस्ताव रखा है। इसमें मात्रा की कोई सीमा नहीं होगी।”

कपास की खरीद के लिए, गोयल ने कहा, “हमने प्रस्ताव दिया कि भारतीय कपास निगम एमएसपी पर कपास की फसल खरीदने के लिए किसानों के साथ पांच साल का समझौता करेगा।”

गोयल के अलावा, मंत्रियों से बातचीत करने वाले अन्य केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा और नित्यानंद राय थे। किसान नेताओं के साथ विचार-विमर्श शुरू करने से पहले उन्होंने सेक्टर 17 के एक होटल में पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ अनौपचारिक बैठक की। प्रदर्शनकारी किसान संगठनों की एक छत्र संस्था, संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) की पंजाब इकाई ने 20 से 22 फरवरी तक भाजपा के सांसदों, विधायकों और जिला अध्यक्षों के खिलाफ दिन-रात बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है।

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो