scriptMadras High Court Big Decision says Religious conversion does not change caste | धर्म परिवर्तन पर Madras High Court का अहम फैसला, कहा- 'धर्मांतरण से नहीं बदलती है जाति' | Patrika News

धर्म परिवर्तन पर Madras High Court का अहम फैसला, कहा- 'धर्मांतरण से नहीं बदलती है जाति'

Madras high court ने एक अहम फैसला सुनाया है। इस फैसले में कोर्ट ने कहा है कि एक धर्म से दूसरे धर्म में परिवर्तन करने पर उस व्यक्ति की जाति नहीं बदलेगी, जिससे वह पहले से संबंधित है, ये मामला एस पॉल राज का था, जो ईसाई आदि-द्रविड़ समुदाय से आते थे और उनके पास पिछड़ा वर्ग का प्रमाण पत्र था। उन्होंने जी अमुथा से शादी की, जो हिंदू अरुंथथियार समुदाय से हैं। शादी के बाद पॉल राज ने दावा किया कि यह एक अंतरजातीय विवाह था

नई दिल्ली

Published: November 26, 2021 01:53:51 pm

नई दिल्ली। देशभर में धर्म परिवर्तन ( Religious Conversion )के मुद्दे पर बहस जारी है। कई मामलों में तो धर्मांतरण के चलते बवाल भी मचा है। इस बीच मद्रास हाईकोर्ट ( Madras High Court ) ने एक अहम फैसला सुनाया है। इस फैसले में कोर्ट ने कहा है कि एक धर्म से दूसरे धर्म में परिवर्तन करने पर उस व्यक्ति की जाति नहीं बदलेगी, जिससे वह पहले से संबंधित है।
Madras High Court
हाईकोर्ट के ये फैसला एक बार फिर बहस का मुद्दा बन सकता है, क्योंकि धर्मांतरण का आरोप राजनीतिक दलों की ओर से लगातार एक दूसरे धर्म पर लगाया जाता है। शादी ब्याह में इस मुद्दे को लेकर कई बवाल हो चुका है। यही नहीं नौकरियों खास तौर पर सरकारी नौकरियों में भी धर्म परिवर्तन कर आरक्षण जैसे सुविधाओं को लेने की कोशिश की जाती है।
यह भी पढ़ेँः Delhi Air Pollution: सुप्रीम कोर्ट का सरकार से सवाल, प्रदूषण तो तेज हवा से कम हुआ, आपने क्या किया? 29 नवंबर को अगली सुनवाई

ये है मामला
दरअसल, एक व्यक्ति ने ईसाई धर्म को अपनाया और वह सरकारी नौकरियों में प्राथमिकता हासिल करना चाहता था। उसने नौकरियों में प्राथमिकता के लिए अंतरजातीय विवाह प्रमाण प्राप्त हासिल करना चाहा, लेकिन अब उसकी इस याचिका को खारिज कर दिया गया है।
ये मामला एस पॉल राज का था, जो ईसाई आदि-द्रविड़ समुदाय से आते थे और उनके पास पिछड़ा वर्ग का प्रमाण पत्र था। उन्होंने जी अमुथा से शादी की, जो हिंदू अरुंथथियार समुदाय से हैं।
शादी के बाद पॉल राज ने दावा किया कि यह एक अंतरजातीय विवाह था क्योंकि अब वह दलित नहीं बल्कि बीसी सदस्य है। पॉल ने इस बात का दावा किया कि बैकवर्ड क्लास की शेड्यूल कास्ट से शादी को अंतरजातीय विवाद के रूप में माना जाएगा।
ये कहता है कानून
बता दें कि कानून के मुताबिक, दलित व्यक्ति को धर्मांतरण करने पर उसे पिछड़े समुदाय ( बैकवर्ड क्लास) के सदस्यों के रूप में माना जाता है, न कि अनुसूचित जाति ( शेड्यूल कास्ट ) के तौर पर।
यह भी पढ़ेंः Cruise Drug Case: नवाब मलिक को कोर्ट से बड़ा झटका, नहीं कर सकेंगे वानखेड़े फैमिली पर बयानबाजी

ये बोले जज
ऐसे में न्यायधीश एसएम सुब्रमण्यम ने कहा कि केवल धर्मांतरण और BC सदस्य के रूप में उसके वर्गीकरण की वजह से एक दलित दूसरे दलित से अपनी शादी को अंतरजातीय विवाह नहीं कह सकता।
दरअसल तमिलनाडु में, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के साथ एक अगड़ी जाति के सदस्य की शादी की जाए या फिर एक बैकवर्ड क्लास सदस्य और एक अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के बीच की शादी को सरकारी नौकरियों में प्राथमिकता दी जाती है। इन्हें अंतरजातीयत शादियों के रूप में माना जाता है।
ऐसे में कई लोग धर्म परिवर्तन के जरिए इस तरह की सुविधाओं का लाभ लेने की कोशिश करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक मामले की जांच कर रहीं जस्टिस इंदु मल्होत्रा को SFJ ने दी धमकीहरक रावत की बीजेपी से छुट्टी पर सीएम पुष्कर धामी का बड़ा बयान, बोले- पार्टी पर बना रहे थे दबावपंजाब में टल सकते हैं चुनाव! चन्नी सरकार की मांग पर चुनाव आयोग की अहम बैठक आजभारत में एक दिन में कोरोना के 2.71 लाख नए मामले आए सामने, 314 की मौतPandit Birju Maharaj: कथक सम्राट पंडित बिरजू महाराज का निधन, 83 साल की उम्र में ली अंतिम सांससीएम की बड़ी घोषणा, पंचों-सरपंचों को फिर मिले ये अधिकारUP Election 2022- 'आप' ने उतारे प्रत्याशी, वाराणसी से डॉक्टर, वकील, समाजसेविका और पार्षद को टिकट, जानें सभी के बारे मेंBSP की पटरी पर दौड़ेगी 550 मेगा पास्कल से भी अधिक स्पीड में ट्रेन, रेलवे की जरूरत पर पहली बार किया तकनीक में बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.