scriptMHA extended Covid-19 guidelines till Nov 30, check all details | गृह मंत्रालय ने 30 नवंबर तक बढ़ाईं कोविड-19 गाइडलाइंस, जानिए पूरे नियम | Patrika News

गृह मंत्रालय ने 30 नवंबर तक बढ़ाईं कोविड-19 गाइडलाइंस, जानिए पूरे नियम

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान त्योहारी सीजन को देखते हुए कोविड-19 गाइडलाइंस को आगामी 30 नवंबर तक के लिए बढ़ा दिया है। नवीनतम दिशानिर्देशों के अंतर्गत कंटेनमेंट जोन में पहले की ही तरह पाबंदियां लागू रहेंगी।

नई दिल्ली

Updated: October 28, 2021 07:54:54 pm

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्रालय (एमएचए) ने गुरुवार को देश में कोरोना वायरस से जुड़े प्रतिबंधों संबंधी अपने दिशानिर्देशों को आगामी 30 नवंबर तक के लिए बढ़ा दिया है। गृह मंत्रालय ने अपने आदेश में कहा है कि 50 प्रतिशत तक बैठने की क्षमता वाले सिनेमा, थिएटर और मल्टीप्लेक्स खोलने जैसी विभिन्न गतिविधियों की अनुमति देने वाले मौजूदा दिशानिर्देश 30 नवंबर तक कंटेनमेंट जोन के बाहर के क्षेत्रों में लागू रहेंगे। इससे पहले 30 सितंबर को जारी गतिविधियों को फिर से खोलने के दिशानिर्देश 31 अक्टूबर तक लागू होने थे। महामारी और आने वाले त्योहारी सीजन को देखते हुए यह फैसला लिया गया है।
पुंछ के जंगलों में सेना का ऑपरेशन जारी, आतंकियों को पनाह देने वाले 20 गिरफ्तार  via Patrika.Com https://bit.ly/3Gu4l8a
पुंछ के जंगलों में सेना का ऑपरेशन जारी, आतंकियों को पनाह देने वाले 20 गिरफ्तार via Patrika.Com https://bit.ly/3Gu4l8a
मंत्रालय द्वारा जारी ताजा आदेश में कहा गया है कि नवीनतम दिशानिर्देशों में कोई नया बदलाव नहीं किया गया है और सभी प्रमुख गतिविधियों की अनुमति पहले ही दी जा चुकी है, लेकिन कंटेनमेंट जोन में सख्त तालाबंदी जारी रहेगी।
मंत्रालय ने कहा कि उसने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों और प्रशासकों को सलाह दी है कि वे जमीनी स्तर पर कोविड-19 उपयुक्त व्यवहार को बड़े पैमाने पर बढ़ावा देने का प्रयास करें और मास्क पहनने, हाथ की स्वच्छता और सोशल डिस्टेंसिंग को लागू करने के उपाय करें। यहां देखें कि विस्तार के बाद क्या फिर से खोलने की अनुमति है और क्या बंद रहता है:
  • दिशानिर्देशों में कहा गया है कि केंद्र द्वारा स्वीकृत सेवाओं को छोड़कर अंतरराष्ट्रीय यात्रा बंद रहेगी।
  • दूसरी ओर राज्य और केंद्र शासित प्रदेश सरकारों को स्कूलों और कोचिंग संस्थानों को श्रेणीबद्ध तरीके से फिर से खोलने पर निर्णय लेने की छूट दी गई है।
  • दिशानिर्देशों के अनुसार, स्थिति के आकलन के आधार पर और कुछ शर्तों के अधीन संबंधित स्कूल और संस्थान प्रबंधन के परामर्श से निर्णय लिया जा सकता है। इनमें शोधार्थियों के लिए स्कूल और कोचिंग संस्थान और राज्य और निजी विश्वविद्यालय शामिल हैं जो 100 की सीमा से ऊपर छात्रों को इकट्ठा होने की अनुमति देते हैं।
  • एमएचए के दिशानिर्देशों में यह भी कहा गया है कि ऑनलाइन और डिस्टेंस एजुकेशन शिक्षण का पसंदीदा तरीका बना रहेगा और इसे प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • चुनाव वाले बिहार और जहां उपचुनाव होंगे, उन निर्वाचन क्षेत्रों में राजनीतिक सभाओं की अनुमति दी गई है, इसके नजदीकी स्थान या हॉल में और एक खुली जगह के आकार के आधार पर अधिकतम 200 लोगों की उपस्थिति के साथ अनुमति दी गई है। हालांकि, राजनीतिक सभाएं केवल कंटेनमेंट जोन के बाहर ही आयोजित की जा सकती हैं।
  • संशोधित एमएचए दिशानिर्देशों के अनुसार बंद स्थानों में शैक्षणिक और अन्य समान सभाओं को हॉल क्षमता के अधिकतम 50 प्रतिशत और 200 व्यक्तियों की अधिकतम सीमा के साथ अनुमति दी जाएगी।
  • कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर के क्षेत्रों में स्वीकृत गतिविधियों में सिनेमा, थिएटर और मल्टीप्लेक्स में उनकी बैठने की क्षमता का 50 प्रतिशत तक, बी2बी प्रदर्शनियां, खिलाड़ियों के प्रशिक्षण के लिए उपयोग किए जाने वाले स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क और इसी तरह के स्थान शामिल हैं।
  • अनलॉक के नवीनतम दिशानिर्देशों में मंत्रालय ने लोगों से अत्यधिक सावधानी बरतने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस महीने की शुरुआत में कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए शुरू किए गए जन आंदोलन का पालन करने के लिए कहा है।
कोरोना वायरस को लेकर देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा पहली बार 25 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी और इसे 31 मई तक चरणों में बढ़ाया गया था। देश में अनलॉक प्रक्रिया 1 जून को वाणिज्यिक, सामाजिक, धार्मिक और अन्य गतिविधियों को फिर से खोलने के साथ शुरू हुई थी।
मंत्रालय द्वारा यह घोषणा भारत द्वारा 100 करोड़ टीकाकरण का मील का पत्थर हासिल करने के कुछ दिनों बाद आई है। मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार बीते 24 घंटे की अवधि में भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या तीन महीने के बाद 40,000 से कम हो गई, जबकि इसी अवधि के दौरान दर्ज की गईं मौतें लगातार दूसरे दिन 500 से कम रहीं। भारत में एक दिन में 36,470 नए संक्रमण सामने आए, जबकि 488 नए लोगों की मौत के साथ मरने वालों की संख्या 1,19,502 हो गई है।
newsletter

अमित कुमार बाजपेयी

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: शतक बनाने से चूके मोईन अली, चेन्नई ने राजस्थान को जीत के लिए दिया 151 रनों का लक्ष्यसुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनOla-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारInflation Around World : महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.