scriptMonsoon 2024: महाराष्ट्र-केरल तट से समुद्र तल पर बनी द्रोणिका, 10 राज्यों में पांच दिन होगी मूसलाधार बारिश | Patrika News
राष्ट्रीय

Monsoon 2024: महाराष्ट्र-केरल तट से समुद्र तल पर बनी द्रोणिका, 10 राज्यों में पांच दिन होगी मूसलाधार बारिश

Monsoon 2024: अगले पांच दिनों के दौरान कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र के घाट क्षेत्रों व कर्नाटक में भारी से बहुत भारी बारिश, 24-26 जून के दौरान तटीय कर्नाटक, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, केरल व तमिलनाडु में भारी बारिश होने की संभावना है।

नई दिल्लीJun 24, 2024 / 08:21 pm

Anand Mani Tripathi

Monsoon 2024:भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को अगले पांच दिनों के दौरान देश के पश्चिमी तट पर भारी से बहुत भारी बारिश का अनुमान लगाया है। आईएमडी ने यह भी कहा कि अगले तीन-चार दिनों के दौरान गुजरात और मध्य प्रदेश के कुछ और हिस्सों, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार के शेष हिस्सों व उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। मौसम विभाग ने कहा कि महाराष्ट्र-केरल तट से समुद्र तल पर एक द्रोणिका बनी हुई है और दक्षिण गुजरात में निचले और मध्य क्षोभमंडल स्तर पर चक्रवात जैसा हालात बना हुआ है।
इनके परिणामस्वरूप अगले पांच दिनों के दौरान कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र के घाट क्षेत्रों व कर्नाटक में भारी से बहुत भारी बारिश, 24-26 जून के दौरान तटीय कर्नाटक, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, केरल व तमिलनाडु में भारी बारिश होने की संभावना है। 24 और 25 जून को गुजरात में तथा 25 और 26 जून को सौराष्ट्र और कच्छ में विभिन्न स्थानों पर भारी वर्षा हो सकती है। 26-28 जून के दौरान गुजरात, 27 और 28 जून को केरल, तटीय कर्नाटक, दक्षिणी आंतरिक कर्नाटक, 25-28 जून के दौरान उत्तरी आंतरिक कर्नाटक तथा 25-27 जून के दौरान तटीय आंध्र प्रदेश में बारिश हो सकती है।
कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कर्नाटक, केरल, लक्षद्वीप, गुजरात, मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़ में गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-50 किमी प्रति घंटे) के साथ हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। अगले पांच दिनों के दौरान तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा, तेलंगाना, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में छिटपुट से लेकर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है। 24, 27 और 28 जून को पश्चिमी मध्य प्रदेश व विदर्भ में, 24-28 जून को मध्य प्रदेश और 26-28 जून को छत्तीसगढ़ में विभिन्न स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है।

असम में बना चक्रवात

पूर्वोत्तर असम में निचले क्षोभमंडल स्तर पर चक्रवात जैसे हालात बने हैं। बंगाल की खाड़ी से लेकर पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत में निचले क्षोभमंडल स्तर पर तेज़ दक्षिणी/दक्षिण-पश्चिमी हवाएं चल रही हैं। इसके प्रभाव में, अगले पांच दिनों के दौरान उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम, त्रिपुरा में गरज व बिजली के साथ व्यापक वर्षा होने की संभावना है।

राजस्थान में चक्रवाती परिसंचरण

दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में एक चक्रवाती परिसंचरण बना हुआ है। इसके परिणामस्वरूप अगले पांच दिनों के दौरान गंगीय पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, बिहार, झारखंड, ओडिशा में गरज, बिजली और तेज़ हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ छिटपुट से लेकर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है।

26 से 28 जून से उत्तर प्रदेश में भारी बारिश

26-28 जून के दौरान पूर्वी उत्तर प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर भारी वर्षा हो सकती है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 28 जून को, पूर्वी राजस्थान में 24, 27 और 28 जून को तथा उत्तराखंड में 27 और 28 जून को बारिश हो सकती है। पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, बिहार के कुछ इलाकों में 24 और 25 जून को तथा राजस्थान में 25-27 जून लू चलने की संभावना है। इसके बाद इसमें कमी आएगी।

Hindi News/ National News / Monsoon 2024: महाराष्ट्र-केरल तट से समुद्र तल पर बनी द्रोणिका, 10 राज्यों में पांच दिन होगी मूसलाधार बारिश

ट्रेंडिंग वीडियो