scriptno proposal to recognise Bitcoin as currency: Nirmala Sitharaman | Cryptocurrency Bill : भारत में 'बिटकॉइन' को करेंसी के रूप में मान्यता नहीं, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने स्पष्ट किया | Patrika News

Cryptocurrency Bill : भारत में 'बिटकॉइन' को करेंसी के रूप में मान्यता नहीं, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने स्पष्ट किया

सांसद सुमलता अंबरीश और डीके सुरेश ने जब सरकार से पूछा कि "क्या सरकार के पास देश में बिटकॉइन को मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव है?" इसके जवाब में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, "नहीं, सर।"

नई दिल्ली

Published: November 29, 2021 03:21:57 pm

संसद में आज शीतकालीन सत्र की शुरुआत हो गई है। कृषि कानून, क्रिप्टोकरेन्सी समेत कुल 26 प्रस्तावों पर संसद में आने वाले दिनों में चर्चा होगी। इस बीच आज लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मल सीतारमण ने अपने जवाब में कहा कि बिटकॉइन को मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं है। इसके साथ ही मंत्रालय ने ये भी बताया कि सरकार बिटकॉइन लेने-देन पर डाटा एकत्र नहीं करती है।
13_02_2021-nirmala_sitharaman1.jpg
दरअसल, सांसद सुमलता अंबरीश और डीके सुरेश ने जब सरकार से पूछा कि "क्या सरकार के पास देश में बिटकॉइन को मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव है?" इसके जवाब में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, "नहीं, सर।"
शीतकालीन सत्र में थोल से सांसद थिरुमावलवन ने वित्त मंत्रालय से पूछा कि क्या सरकार को भारत में क्रिप्टोकरेंसी के व्यापार को लेकर जानकारी है? और क्या भारत में क्रिप्टोकरेंसी को व्यापार के लिए कानूनी रूप से अनुमति है? उन्होंने यह भी पूछा कि क्या सरकार ने भारत में कानूनी रूप से क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज को कानूनी रूप से अनुमति दी है?
इसके जवाब में वित्त मंत्रालय में राज्य मंत्री (MoS) पंकज चौधरी ने कहा, “सरकार बिटकॉइन लेने-देन पर डाटा एकत्र नहीं करती है। भारत में क्रिप्टोकरेंसी अनियंत्रित हैं। आरबीआई ने भी 31 मई, 2021 को एक सर्कुलर जारी किया था जिसमें कहा गया था कि बैंक एवं अन्य वित्तीय संस्थाएं, अपने ग्राहक को (केवाईसी), एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग (एएमएल), कॉम्बेटिंग ऑफ फाइनेंस (सीएफटी) और प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए), 2002 के मानकों को नियंत्रित करने वाले नियमों के अनुरूप क्रिप्टोकरेंसी में लेन-देन की प्रक्रियाओं को जारी रख सकती है।"
मालूम हो कि सरकार की प्रतिक्रिया तब देखने को मिल रही है जब संसद में ‘द क्रिप्टो करेंसी एंड रेगुलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बिल, 2021’ पेश करने को लेकर चर्चा है। संसद में सरकार जो बिल लाने वाली है उस बिल की सूची में दसवें नंबर पर साफ साफ लिखा है कि भविष्य में आरबीआई द्वारा जारी की जाने वाली डिजिटल करेंसी के अलावा अन्य सभी क्रिप्टो करेंसी पर प्रतिबंध लगा दिया जाएगा। इस बिल का नाम ‘द क्रिप्टो करेंसी एंड रेगुलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बिल, 2021’, है। हालांकि, पब्लिक और प्राइवेट डिजिटल करेन्सी को लेकर कोई परिभाषा स्पष्ट नहीं की गई है।
बता दें कि बिटकॉइन को 2008 में लॉन्च किया गया था। क्रिप्टोकरेन्सी एक प्रकार का डिजिटल पैसा है जो कंप्यूटर लोगरिथम पर बना है। इसका कोई रेगुलेटर नहीं है और न ही कोई इसे नियंत्रित करता है। ये सब ऑटोमेटिक होता है, परंतु स्पेशल कंप्यूटर और सोफ्टवेयर के जरिए होता है। ये करेन्सी कोई भी यूजर डिजिटल रूप से P2P नेटवर्क के माध्यम से दूसरे यूजर को ट्रांसफर कर सकता है। इसका रिकॉर्ड ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में दर्ज रहेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

विराट कोहली ने छोड़ी टेस्ट टीम की कप्तानी, भावुक मन से बोली ये बातAssembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारArmy Day 2022: सेना प्रमुख MM Naravane ने दी चीन को चेतावनी, कहा- हमारे धैर्य की परीक्षा न लेंUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंदिल्ली में लगातार दूसरे दिन कम हुए कोरोना केस, जानिए कितने मरीजों ने गंवाई जानUP Assembly Elections 2022 : भाजपा ने काटे 20 विधायकों के टिकट, 2 गये सपा में, बाकी कहां, पढ़िये खबरHaryana: सरकार का निर्देश, बिना वैक्सीन लगाए 15 से 18 वर्ष के बच्चों को स्कूल में नहीं मिलेगी एंट्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.