scriptPatrika Interview: रिटर्न के लिए इक्विटी, महंगाई से निपटने को गोल्ड में करें निवेश : बजाज फिनसर्व एएमसी | Patrika Interview: Invest in equity for returns, invest in gold to tackle inflation: Bajaj Finserv AMC | Patrika News
राष्ट्रीय

Patrika Interview: रिटर्न के लिए इक्विटी, महंगाई से निपटने को गोल्ड में करें निवेश : बजाज फिनसर्व एएमसी

Patrika Interview: पत्रिका से खास बातचीत में बजाज फिनसर्व एएमसी के सीईओ गणेश मोहन ने कहा, निवेश तगड़े रिटर्न के लिए इक्विटी और महंगाई की चुनौती से निपटने यानी हेजिंग के लिए गोल्ड में निवेश करें।

नई दिल्लीJul 08, 2024 / 07:53 am

Shaitan Prajapat

Patrika Interview: शेयर बाजार राजनीतिक स्थिरता और पॉलिसी में निरंतरता को महत्व देते हैं, क्योंकि इनका आर्थिक विकास, कंपनियों के लाभ और बाजार की दिशा पर काफी प्रभाव पड़ता है। पत्रिका से खास बातचीत में बजाज फिनसर्व एएमसी के सीईओ गणेश मोहन ने कहा, चुनाव परिणामों वाले दिन बाजार में 6 प्रतिशत तक गिरावट आई, क्योंकि राजनीतिक स्थिरता की धारणा पर प्रश्न खड़े हो गए थे। लेकिन एनडीए की स्थिर सरकार बनने से नीतियों में निरंतरता को लेकर बाजार सहज हो गया। इसी का नतीजा है कि सेंसेक्स 80,000 के पार निकल गया है। गणेश मोहन का कहना है कि निवेश तगड़े रिटर्न के लिए इक्विटी और महंगाई की चुनौती से निपटने यानी हेजिंग के लिए गोल्ड में निवेश करें।

इस साल चांदी ने सोने से ज्यादा रिटर्न दिया, पर सिल्वर आपके मल्टी एसेट फंड का हिस्सा नहीं है। ऐसा क्यों?

अपने मल्टी एसेट फंड में हमने सभी कमोडिटीज में से गोल्ड को प्राथमिकती दी है, क्योंकि गोल्ड आपके पोर्टफोलियो में गोलकीपर की तरह काम करता है और शेयर बाजार में उठापटक, भू-राजनीतिक संकट और महंगाई के खिलाफ हेजिंग का काम करता है। इसलिए निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो का कम से कम 10 प्रतिशत गोल्ड में जरूर निवेश करना चाहिए। सोने में निवेश रिटर्न के लिए नहीं, बल्कि हेजिंग के लिए करें। सोना में बहुत अधिक रिटर्न मिलने के बावजूद यह आपके पोर्टफोलियो पर बड़ा असर नहीं डालेगा। आपको अधिक रिटर्न इक्विटी में निवेश दिलाएगा।

बाजार रिकॉर्ड ऊंचाई पर है, अभी एसेट एलोकेशन कैसा होना चाहिए?

अच्छी एसेट एलोकेशन रणनीति बाजार में उतार-चढ़ाव, टाइमिंग और बाजार के लेवल पर निर्भर नहीं करती है, बल्कि इस बात पर निर्भर करती है कि निवेशक की जरूरतें क्या हैं, जोखिम उठाने की क्षमता कितनी है और निवेश की अवधि क्या है। एक जैसी रणनीति सभी निवेशकों पर काम नहीं करती है। जो निवेशक अपनी देनदारियों के कारण ज्यादा रिस्क नहीं ले सकते, उन्हें आर्बिट्राज फंड या फिक्स्ड इनकम एसेट्स में निवेश करना चाहिए। जो निवेशक जोखिम ले सकते हैं और लंबे समय के लिए निवेश करना चाहते हैं, उनके लिए अभी लार्जकैप और फ्लेक्सी फंड्स बेस्ट हैं। मध्यम जोखिम लेने वाले निवेशक मल्टी एसेट फंड्स या बैलेंस्ड एडवांटेज फंड्स में निवेश कर सकते हैं।

स्मॉल-मिडकैप को लेकर आपकी क्या राय है?

स्मॉलकैप और मिडकैप सेगमेंट में रिकॉर्ड तेजी के बावजूद अभी बेहतर रिटर्न की गुंजाइश के साथ निवेश के अच्छे अवसर मौजूद हैं। लेकिन लार्जकैप के मुकाबले इनका वैल्यूएशन काफी बढ़ गया है। जिन निवेशकों ने स्मॉल-मिडकैप में अच्छा-खासा निवेश किया हुआ है, वे कुछ मुनाफावसूली कर मौका मिलने यानी बाजार में गिरावट आने पर इस राशि को लार्जकैप में निवेश कर सकते हैं। वहीं जिन निवेशकों ने स्मॉल-मिडकैप में निवेश नहीं किया है वे एसआइपी के जरिए लंबी अवधि के लिए स्मॉल-मिडकैप में निवेश कर सकते हैं।

पैसिव फंड्स में बढ़ी रुचि को कैसे देखते हैं?

मेरी नजर में पैसिव फंड्स की दो बड़ी कमियां हैं। ये फंड्स पिछले प्रदर्शन को देखती हैं। इन फंड्स में उन कंपनियों को जगह मिलती है जो पहले अच्छा प्रदर्शन कर चुके हैं। ये भविष्य में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद वाले शेयरों पर दांव नहीं लगा पाते, जो इंडेक्स से बेहतर रिटर्न दे सकते हैं। पैसिव फंड्स अच्छी कंपनियों और उनके मैनेजमेंट पर भी फोकस नहीं करते हैं, बल्कि उन कंपनियों में निवेश करते हैं जो उस इंडेक्स में शामिल है। इसलिए मेरा मानना है कि निवेशकों को अच्छे फंड मैनेजर वाले एक्टिव फंड में ही निवेश करना चाहिए। जितना जोखिम एक्टिव फंड में है उतना ही जोखिम पैसिव फंड में भी है। हालांकि, जो निवेशक इंडेक्स के रिटर्न से संतुष्ट हैं और सस्ता निवेश चाहते हैं, वे पैसिव फंड में निवेश कर सकते हैं।

निवेशकों को क्या सलाह देना चाहेंगे?

  • 3 से 6 महीने के खर्च लायक पैसा इमरजेंसी फंड में रखें और इसे लिक्विड फंड में निवेश करें।
  • अपने और परिवार के लिए लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस जरूर कराएं, इसका प्रीमियम भरने के लिए अगल से एसआईपी या फंड की व्यवस्था करें।
  • वित्तीय लक्ष्य के मुताबिक निवेश में अनुशासन बनाएं रखें और अपने वित्तीय सलाहकार की मदद से एसेट एलोकेशन और विड्रॉअल करें।
यह भी पढ़ें

Jio Recharge Plan: जियो रिचार्ज प्लान महंगे होने के बाद सोशल मीडिया पर शुरू हुआ बॉयकॉट, अब जियो लेकर आया 895 रुपये में साल भर का प्लान


यह भी पढ़ें

ITR Filing 2024: TDS कट गया ज्यादा तो ऐसे करें रिफंड का दावा, जानिए सबसे आसान तरीका


यह भी पढ़ें

Bank Holidays July 2024: जुलाई में इतने दिन बंद रहेंगे बैंक, यहां देखें बैंकों की छुट्टियों की लिस्ट


Hindi News/ National News / Patrika Interview: रिटर्न के लिए इक्विटी, महंगाई से निपटने को गोल्ड में करें निवेश : बजाज फिनसर्व एएमसी

ट्रेंडिंग वीडियो