नृशंसता के विरोध में भड़के लोग

कोलकाता। इकबालपुर में मां और दो बेटियों की नृशंस तरीके से हत्या और फिर उनके ..

By:

Published: 16 Jan 2015, 11:59 AM IST

कोलकाता। इकबालपुर में मां और दो बेटियों की नृशंस तरीके से हत्या और फिर उनके शव दुकान में दफनाने के आरोपियों के खिलाफ लोगों का गुस्सा भड़क गया। सोमवार को लोगों ने रैली निकाली, अदालत परिसर में आरोपियों के खिलाफ नारेबाजी की। आरोपियों की नृशंसता के कारण उनके लिए अदालत में कोई वकील भी खड़ा नहीं हुआ। महानगर में अलग-अलग जगहों पर लोगों का हत्याकांड को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी रहा। दोपहर को आरोपियों की अलीपुर कोर्ट में पेशी के दौरान गुस्साए लोगों ने कोर्ट परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। काले झंडे लेकर आए लोगों ने आरोपियों को फांसी पर चढ़ाने की मांग की।

लोगों के गुस्से को देखते हुए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया। इधर, अदालत ने घटना के दो आरोपियों मो. सिकंदर व मो. आमिन को 27 अप्रेल तक पुलिस हिरासत में भेजने का फैसला सुनाया। वहीं, गिरफ्तार दो नाबालिग आरोपियों को सोमवार विधाननगर स्थित बाल न्याय बोर्ड के समक्ष पेश किया गया। जहां बोर्ड ने दोनों को 22 अपे्रल तक होम में भेजने का फैसला दिया।

हथौड़े से मारा फिर गला घोंटा
हत्यारों ने पुष्पा सिंह (37), प्रदीप्ती सिंह (14)और आराधना सिंह (12) पर पहले हथौड़े से हमला किया। फिर गला दबाकर उन्हें मौत के घाट उतार दिया। मां-बेटियों के शव के पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसी बात की पुष्टि हुई है। पुलिस जांच में सामने आया है कि सम्पत्ति विवाद के कारण हुई हत्या के बाद शव स्टील के ट्रंक में रखे गए। ट्रंक मो. सिकंदर की दुकान में ले जाया गया। जहां उन्हें दफना दिया गया।

थाने से मुश्किल से निकली प्रिजन वैन
घटना से गुस्साए लोगों ने सोमवार सुबह से ही इकबालपुर थाने के सामने विरोध प्रदर्शन किया। आरोपियों को थाने से निकालने समय लोगों ने पुलिस की गाड़ी को घेर कर प्रदर्शन किया। गुस्साए लोगों ने आरोपियों को निशाना बनाने की कोशिश भी की। प्रदर्शनकारियों में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल थीं। प्रदर्शनकारी पूरी घटना के लिए पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप भी लगा रहे थे। सोमवार की शाम को इकबालपुर के लोगों ने विशाल रैली निकाली। रैली में शामिल लोग पुलिस पर असंवेदनशील होने के आरोपों वाले पोस्टर रखे हुए थे। वे आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग भी कर रहे थे।
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned