scriptPresident Draupadi Murmu Addresses Nation On Eve Of Independence Day | राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे' | Patrika News

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'

आज़ादी की 75वीं वर्षगांठ से एक दिन पहले आज देश की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने पहली बार देश को संबोधित किया। वह हाल में ही भारत की राष्ट्रपति निर्वाचित हुई हैं। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि 14 अगस्त के दिन को विभाजन-विभीषिका स्मृति-दिवस के रूप में मनाया जा रहा है।

नई दिल्ली

Published: August 14, 2022 08:13:06 pm

भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मी ने स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर देश को संबोधित किया। यह उनका पहला संबोधन है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का आज का संबोधन बेहद ख़ास इसलिए भी है, क्योंकि देश ‘अमृतकाल’ में है और भारत को अंग्रेज़ों से मिली आज़ादी के 75 साल पूरे हो रहे हैं। इस दौरान उन्होंने कहा कि 76वें स्वाधीनता दिवस की पूर्व संध्या पर देश-विदेश में रहने वाले सभी भारतीयों को मैं हार्दिक बधाई देती हूं। राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कहा कि 14 अगस्त के दिन को विभाजन-विभीषिका स्मृति-दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। इस स्मृति दिवस को मनाने का उद्देश्य सामाजिक सद्भाव, मानव सशक्तीकरण और एकता को बढ़ावा देना है।
President Draupadi Murmu Addresses Nation On Eve Of Independence Day
President Draupadi Murmu Addresses Nation On Eve Of Independence Day
 

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश को पहला संबोधन


25 जुलाई को 15वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने वाली पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने पहली बार देश को संबोधित किया। स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले प्रत्येक साल राष्ट्रपति देश को संबोधित करते हैं। राष्ट्रपति मुर्मू ने कहा, "15 अगस्त 1947 के दिन हमने औपनिवेशिक शासन की बेड़ियों को काट दिया था। उस शुभ-दिवस की वर्षगांठ मनाते हुए हम लोग सभी स्वाधीनता सेनानियों को सादर नमन करते हैं। उन्होंने अपना सर्वस्व बलिदान कर दिया ताकि हम सब एक स्वाधीन भारत में सांस ले सकें।"
 

स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को करेंगे साकार


राष्ट्रपति ने स्मृति दिवस को लेकर कहा,"हमारा संकल्प है कि वर्ष 2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे। 14 अगस्त के दिन को विभाजन-विभीषिका स्मृति-दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। इस स्मृति दिवस को मनाने का उद्देश्य सामाजिक सद्भाव, मानव सशक्तीकरण और एकता को बढ़ावा देना है। आज़ादी का अमृत महोत्सव मार्च 2021 में दांडी यात्रा की स्मृति को फिर से जीवंत रूप देकर शुरू किया गया। उस युगांतरकारी आंदोलन ने हमारे संघर्ष को विश्व-पटल पर स्थापित किया। उसे सम्मान देकर हमारे इस महोत्सव की शुरुआत की गई। यह महोत्सव भारत की जनता को समर्पित है।"
 

देश की बहुत सी उम्मीदें बेटियों पर टिकी


राष्ट्रपति ने महिलाओं को लेकर कहा, "अधिकांश लोकतान्त्रिक देशों में वोट देने का अधिकार प्राप्त करने के लिए महिलाओं को लंबे समय तक संघर्ष करना पड़ा था। लेकिन हमारे गणतंत्र की शुरुआत से ही भारत ने सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार को अपनाया। महिलाएं अनेक रूढ़ियों और बाधाओं को पार करते हुए आगे बढ़ रही हैं। समाजिक और राजनीतिक प्रक्रियाओं में उनकी बढ़ती भागीदारी निर्णायक साबित होगी। आज हमारी पंचायती राज संस्थाओं में निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों की संख्या चौदह लाख से कहीं अधिक है। हमारे देश की बहुत सी उम्मीदें हमारी बेटियों पर टिकी हुई हैं। समुचित अवसर मिलने पर वे शानदार सफलता हासिल कर सकती हैं। हमारी बेटियां फाइटर पायलट से लेकर स्पेस साइंटिस्ट होने तक हर क्षेत्र में अपना परचम लहरा रही हैं।"

स्वास्थ्य के क्षेत्रों में अच्छे बदलाव


स्वास्थ्य के क्षेत्र को लेकर राष्ट्रपति ने कहा, "जब दुनिया कोरोना महामारी के गंभीर संकट के आर्थिक परिणामों से जूझ रही थी तब भारत ने स्वयं को संभाला और अब पुनः तीव्र गति से आगे बढ़ने लगा है। इस समय भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ रही प्रमुख अर्थ-व्यवस्थाओं में से एक है। मने देश में ही निर्मित वैक्सीन के साथ मानव इतिहास का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू किया। पिछले महीने हमने दो सौ करोड़ वैक्सीन कवरेज का आंकड़ा पार कर लिया है। इस महामारी का सामना करने में हमारी उपलब्धियां विश्व के अनेक विकसित देशों से अधिक रही हैं। आज देश में स्वास्थ्य, शिक्षा और अर्थ-व्यवस्था तथा इनके साथ जुड़े अन्य क्षेत्रों में जो अच्छे बदलाव दिखाई दे रहे हैं उनके मूल में सुशासन पर विशेष बल दिए जाने की प्रमुख भूमिका है।"

 

देश के प्रत्येक नागिरक अपने मूल कर्तव्यों को जाने


नागरिकों को मूल कर्तव्यों के बारे में याद दिलाते हुए राष्ट्रपति ने कहा, "भारत में आज संवेदनशीलता व करुणा के जीवन-मूल्यों को प्रमुखता दी जा रही है। इन जीवन-मूल्यों का मुख्य उद्देश्य हमारे वंचित, जरूरतमंद तथा समाज के हाशिये पर रहने वाले लोगों के कल्याण हेतु कार्य करना है। देश के प्रत्येक नागरिक से मेरा अनुरोध है कि वे अपने मूल कर्तव्यों के बारे में जानें, उनका पालन करें, जिससे हमारा राष्ट्र नई ऊंचाइयों को छू सके। भारत के नए आत्म-विश्वास का स्रोत देश के युवा, किसान और सबसे बढ़कर देश की महिलाएं हैं।"
 

पर्यावरण का ध्यान रखना हमारा कर्तव्य


पर्यावरण को लेकर राष्ट्रपति ने कहा, "आज जब हमारे पर्यावरण के सम्मुख नई-नई चुनौतियां आ रही हैं तब हमें भारत की सुंदरता से जुड़ी हर चीज का दृढ़तापूर्वक संरक्षण करना चाहिए। जल, मिट्टी और जैविक विविधता का संरक्षण हमारी भावी पीढ़ियों के प्रति हमारा कर्तव्य है।" बता दें, देश सर्वोच्च संवैधानिक पद पर आसीन होने वाली मुर्मू सबसे कम उम्र की महिला हैं और आदिवासी समाज से आने वाली भी वह पहली हैं। द्रौपदी मुर्मू पहली ऐसी राष्ट्रपति हैं जिनका जन्म देश को स्वतंत्रता मिलने के बाद हुआ था।

यह भी पढ़ें

स्वतंत्रता दिवस के दिन देशभर के 1082 पुलिस जवानों को मिलेगा पदक, इसमे सबसे अधिक जम्मू कश्मीर पुलिस को

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

पाकिस्तानी आकाओं के इशारे पर भारत में आतंक फैलाने की थी साजिश, ग्रेनेड के साथ 3 आतंकी गिरफ्तारIND vs SA, 2nd T20: भारत ने साउथ अफ्रीका को 16 रनों से हराया, सीरीज पर 2-0 से कब्जाअरविंद केजरीवाल का बड़ा दावा- 'गुजरात में बनेगी आप की सरकार', IB रिपोर्ट का दिया हवालासच बोलने की सजा भुगतनी पड़ी... बिहार के कृषि मंत्री के इस्तीफे पर BJP ने नीतीश पर किया हमलाअमित शाह के जम्मू दौरे से पहले पुलवामा में आतंकी हमला, पुलिस का एक जवान शहीद, CRPF जवान जख्मीIND vs SA: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान, सभी सीनियर खिलाड़ियों को मिला आरामIAF की ताकत में होगा इजाफा, कल सेना में शामिल होगा स्वदेशी हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर, जानें इसकी खासियतIND vs SA 2nd T20: 2 गेंदबाज जो साउथ अफ्रीका को हराने में टीम इंडिया की मदद करेंगे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.