कबड्डी को क्यों मिल रही है लोकप्रियता?

 कबड्डी को क्यों मिल रही है लोकप्रियता?

| Publish: Jan, 16 2015 12:10:00 PM (IST) राष्ट्रीय

भारत के अपने स्वदेशी खेल कबड्डी को इन दिनों मिल रही लोकप्रियता का पूरा श्रेय देश के अग्रणी प्रायोजकों एवं टेलीविजन प्रसारणकर्ताओं को जाता है।

नई दिल्ली। भारत के अपने स्वदेशी खेल कबड्डी को इन दिनों मिल रही लोकप्रियता का पूरा श्रेय देश के अग्रणी प्रायोजकों एवं टेलीविजन प्रसारणकर्ताओं को जाता है।

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की तर्ज पर शुरू हुए फुटबॉल एवं हॉकी की लीग प्रतियोगिताओं के बाद अब कबड्डी की भी एक नहीं दो-दो लीग प्रतियोगिताओं का आगाज हो चुका है। दोनों ही प्रतियोगिताएं कबड्डी की लोकप्रियता बढ़ाने एवं उसे प्रचारित-प्रसारित करने वाली हैं।

लंबे समय तक कबड्डी को गंवई एवं ओलंपिक के लिए अनुपयुक्त खेल माना जाता रहा। एशियाई खेलों में कबड्डी को जगह दिलाने के लिए भारत ने कठिन संघर्ष किया, तथा 1990 में एशियाई खेलों का हिस्सा बनने के बाद से अब तक हर संस्करण में कबड्डी का बादशाह बना हुआ है।

उद्यमियों और बॉलीवुड की हस्तियों को अचानक कबड्डी में एक लोकप्रिय खेल के रूप में स्थापित होने की क्षमता दिखाई दी। यहां तक कि कुछ का तो मानना है कि कबड्डी टी-20 क्रिकेट को भी चुनौती दे सकता है।

प्रो कबड्डी लीग को लगभग आईपीएल की तर्ज पर ही शहर आधारित फ्रेंचाइजी के स्वरूप वाला रखा गया है, जिसमें ब्रांड वैल्यू को तरजीह दी गई है। दूसरी ओर वल्र्ड कबड्डी लीग अप्रवासी भारतीय नागरिकों को ध्यान में रखकर बनाया गया है।

बॉलिवुड के जाने-माने अभिनेता अभिषेक बच्चन, यूटीवी के संस्थापक रॉनी स्क्रूवाला और रिटेल कारोबार के अग्रणी उद्यमी किशोर बियानी ने प्रो कबड्डी लीग की फ्रेंचाइजी मालिक बने। वहीं वल्र्ड कबड्डी लीग से भी बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार, अभिनेत्री सोनाक्षी सिंह और रैप गायक यो यो हनी सिंह का नाम जुड़ा।

प्रो कबड्डी लीग का 26 जुलाई को मुंबई में दर्शकों से खचाखच भरे स्टेडियम में आगाज हो गया, जबकि वल्र्ड कबaी लीग का लंदन के ओ2 स्टेडियम में नौ अगस्त को अक्षय कुमार के रंगारंग कार्यक्रम के साथ आगाज होने वाला है।

कबड्डी की इन दोनों प्रतियोगिताओं के समक्ष लेकिन जो सबसे बड़ी समस्या थी, वह टेलीविजन चैनलों पर जगह पाना। यह समस्य इसलिए भी दुष्कर थी क्योंकि कबaी ऎसा खेल है, जिसकी देश के शहरी इलाकों में खास लोकप्रियता नहीं है।

वल्र्ड कबड्डी लीग शुरू करने की प्रेरणा कबड्डी विश्व कप को मिली लोकप्रियता से मिली। कबड्डी विश्व कप की शुरूआत पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने ही शुरू की थी।

प्रो कबड्डी लीग के लिए पहल करने वाले चारू शर्मा ने कहा कि 2006 और 2010 में हुए एशियाई खेलों में कबड्डी के लिए कमेंट्री करने के दौरान उनके दिमाग में यह विचार कौंधा।

दोनों ही प्रतियोगिताओं का हालांकि स्वरूप पूरी तरह भिन्न है। प्रो कबड्डी लीग जहां अंतर्राष्ट्रीय ककबड्डी स्पर्धा के नियमों के तहत खेली जाएगी, वहीं वल्र्ड कबड्डी लीग पूरी तरह पंजाबी देसी स्वरूप में आयोजित की जाएगी।

बहरहाल कबड्डी की इन दोनों लीग प्रतियोगिताओं से मनोरंजन, प्रसारण एवं उद्योग जगत की अनेक हस्तियां जुड़ चुकी हैं, तथा अब वे इसे एक लाभ देने वाले खेल के रूप में प्रचारित-प्रसारित करने में जुट गई हैं।

ऎसे में आने वाले दिनों में देश के युवाओं की जुबान पर कबड्डी, कबड्डी... सुनाई पड़े तो आश्चर्य नहीं।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned