scriptProbe into CDS chopper crash blames weather, Court Of Inquiry Finds | CDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर हादसे की वजह आई सामने, वायुसेना ने दी जानकारी | Patrika News

CDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर हादसे की वजह आई सामने, वायुसेना ने दी जानकारी

भारतीय वायुसेना को ‘ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी' ने अपनी जांच रिपोर्ट सौंपी है जिसमें 8 दिसंबर 2021 को हुए हेलीकॉप्टर दुर्घटना की जानकारी दी गई है। इस हेलीकॉप्टर क्रैश में सीडीएस बिपिन रावत और उनकी पत्नी समेत 12 अन्य की मौत हो गई थी।

Updated: January 15, 2022 08:18:45 am

पिछले साल 8 दिसम्बर को सीडीएस जनरल बिपिन रावत समेत 12 अन्य की हेलीकॉप्टर क्रैश में मौत हो गई थी। इसमें बिपिन रावत की पत्नी भी शामिल थीं। अब तीनों सेनाओं की ‘ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी' ने इस हादसे से जुड़ी रिपोर्ट सौंप दी है जिसमें हेलीकॉप्टर क्रैश की वजह मौसम में खराबी को बताया है। इस रिपोर्ट में किसी भी तरह के मकैनिकल फॉल्ट से इनकार किया गया है। इसके साथ ही रिपोर्ट में कुछ सिफारिशें भी की गई हैं जिसपर विचार किया जा रहा है।
bipin_rawat.jpg
रिपोर्ट में क्या है?

‘ट्राई-सर्विसेज कोर्ट ऑफ इंक्वायरी' की रिपोर्ट में कहा गया है कि 'दुर्घटना घाटी में मौसम में आए अप्रत्याशित परिवर्तन के कारण हुआ। तब कुन्नूर में बादलों ने पायलट के ब्यूह को ब्लॉक कर दिया था। इस कारण पायलट रास्ता फटक गया और हेलीकॉप्टर जमीन से जा टकराया।' रिपोर्ट में बताया गया है कि दुर्घटना के संभावित कारण पता लगाने के लिए सभी गवाहों से पूछताछ के साथ ही हेलीकॉप्टर का डाटा रीकॉर्डर और कोकपीट वॉयस रीकॉर्डर का विश्लेषण किया गया।

मकैनिकल फॉल्ट से इनकार

इस रिपोर्ट में किसी भी तरह के मकैनिकल फॉल्ट से इनकार किया गया है। इसके साथ ही तोड़फोड़-विध्वंस या लापरवाही को भी खारिज कर दिया गया है। इसके अलावा कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने अपनी जांच रिपोर्ट में कुछ सिफारिशें की हैं जिनकी समीक्षा की जा रही है।

कब हुई थी दुर्घटना?

बता दें कि पिछले वर्ष 8 दिसम्बर को Mi- 17 V5 हेलीकॉप्टर तमिलनाडु के कुन्नूर में क्रैश हो गया था। इस हादसे से देशभर में मातम था क्योंकि देश ने अपने पहले CDS व उनकी पत्नी समेत कई सैन्य अधिकारियों की मौत हो गई थी। सीडीएस बिपिन रावत तीनों सेनाओं के प्रमुख थे जो सेना के एकीकरण के लिए प्रयासरत थे। वो न केवल सेना के आधुनिकीकरण के लिए काम कर रहे थे बल्कि भारत को रक्ष हथियारों के लिए आत्मनिर्भर बनाना चाहते थे।

यह भी पढ़ें - जनरल Bipin Rawat की मौत से सदमे में देश, ये हो सकते हैं देश के अगले CDS


यह भी पढ़ें : अब जनरल बिपिन रावत के नाम से जाना जाएगा झांसी किले का यह मैदान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेअब एसएसबी के 'ट्रैकर डॉग्स जुटे दरिंदों की तलाश में !सूर्य ने किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल आजParliament Budget session: 31 जनवरी से शुरू होगा संसद का बजट सत्र, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाCDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर हादसे की वजह आई सामने, वायुसेना ने दी जानकारीकोविड पॉजिटिव गर्भवती महिला के पेट में कोरोना से अधिक सुरक्षित है शिशु, जानिए कैसे महामारी के दौर में सुरक्षित रखें मां और बच्चे कोबेरोजगारी के संकट से जूझ रहा मप्र, ओबीसी की स्थिति चिंताजनक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.