scriptRajiv Gandhi assassination: SC notice to Centre government, Tamil Nadu on convicts' plea | राजीव गांधी हत्याकांड: दोषियों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार व तमिलनाडु को भेजा नोटिस | Patrika News

राजीव गांधी हत्याकांड: दोषियों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार व तमिलनाडु को भेजा नोटिस

Published: Sep 26, 2022 04:14:26 pm

राजीव गांधी हत्याकांड के दोषियों ने सुप्रीम कोर्ट में जल्द रिहाई के लिए याचिका की है, जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार व तमिलनाडु सरकार को नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा है।

rajiv-gandhi-assassination-sc-notice-to-centre-government-tamil-nadu-on-convicts-plea.jpg
Rajiv Gandhi assassination: SC notice to Centre government, Tamil Nadu on convicts' plea
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के 2 हत्यारों ने अपनी रिहाई के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है, जिस पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार यानी आज सुनवाई करते हुए जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस बीवी नागरत्ना ने केंद्र सरकार और तमिलनाडु सरकार को नोटिस जारी किया है। नोटिस के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में नलिनी श्रीहरन और आरपी रविचंद्रन ने द्वारा दायर याचिकाओं पर जवाब मांगा गया है।
इससे पहले मद्रास हाईकोर्ट ने मई में नलिनी श्रीहरन और आरपी रविचंद्रन की याचिका को ठुकराते हुए कहा था कि हमारे पास संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत विशेष शक्तियां नहीं हैं। इसलिए हम रिहाई का आदेश नहीं दे सकते हैं। वहीं हाईकोर्ट ने कहा था कि दोषी इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के दरवाजा खटखटा सकते हैं।
आत्मघाती हमलावर महिला के हमले में हुई थी राजीव गांधी की हत्या
21 मई 1991 की रात को राजीव गांधी लोकसभा चुनाव के प्रचार तमिलनाडु के श्रीपेरंबुदूर में कर रहे थे, तभी एक आत्मघाती महिला हमलावर राजीव गांधी के पास फूलों का हार पहनाने के बहाने आई और पैर छूने के बहाने से नीचे झूकते हुए कमर पर बंधे विस्फोटक में ब्लास्ट कर दिया।
 
अच्छे बर्ताव के कारण पेरारिवलन को सुप्रीम कोर्ट ने किया था रिहा
सुप्रीम कोर्ट ने मई 2018 में तमिलनाडु सरकार की सिफारिश पर राजीव गांधी की हत्या एक अन्य दोषी पेरारिवलन को 30 साल की सजा कटाने के बाद रिहा करने का आदेश दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने यह रिहाई का आदेश जेल में अच्छे बर्ताव को देखते हुए दिया था।
दोषियों को पहले दी गई थी मौत की सजा
शीर्ष अदालत ने साल 1999 मई में चार दोषियों पेरारिवलन, मुरुगन, संथान और नलिनी को सजा ए मौत सुनाया था। वहीं साल 2014 में इन दोषियों की दया याचिका लंबित रहने के कारण सुप्रीम कोर्ट ने पेरारिवलन, मुरुगन और संथान की सजा ए मौत को उम्रकैद में बदल दिया है। वहीं इससे पहले 2001 में नलिनी की मौत की सजा को सुप्रीम कोर्ट ने इस तर्क के आधार पर उम्रकैद में बदल दी थी कि उसकी एक बेटी है।

यह भी पढ़ें

राजीव गांधी की हत्या के दोषी ए.जी. पेरारिवलन ने जेल में रहते ली है मास्टर की डिग्री

 

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता, 22 पिस्टल और 5 मैगजीन के साथ तीन गिरफ्तारदिल्ली में श्रद्धा मर्डर जैसा एक और केस, शव के टुकड़े कर फ्रिज में रखा, मां-बेटा गिरफ्तारपायलट और गहलोत की कलह से भारत जोड़ो यात्रा पर नहीं पड़ेगा फर्क : राहुल गांधीCM भूपेश बघेल बोले- बलात्कारी को बचाने में लगी हुई है भाजपा, ED-IT को लेकर कही ये बातऋतुराज गायकवाड़ ने एक ओवर में 7 छक्के जड़कर बनाया विश्व रिकॉर्ड, युवराज को भी छोड़ा पीछेगुजरात चुनाव में 'आप' को झटका, वसंत खेतानी भाजपा में शामिल केजरीवाल निराशादिल्ली के स्कूल में बम की सूचना से मचा हड़कंप, डिस्पोजल स्क्वॉड मौके परयोगी के सभा में जाते लोगों में हुई धक्का-मुक्की, नाले में गिरे लोग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.