scriptrules changes from 1 january 2022 atm transaction online payment | Rules changes from 1 january 2022: नए साल से बदल जाएंगे कई नियम, जानिए आप पर क्या असर पड़ेगा | Patrika News

Rules changes from 1 january 2022: नए साल से बदल जाएंगे कई नियम, जानिए आप पर क्या असर पड़ेगा

साल 2021 के समाप्त होने में अब कुछ दिन ही शेष बचे हैं। नए साल के शुरू होते हीं कई नियम बदल जाएंगे। इन नियमों के बदलावों का सीधा असर देश के करोड़ों लोगों पर पड़ेगा। नए साल में एटीएम से मुक्त निकासी की सीमा के बाद पैसा निकालने पर आपको पहले से ज्यादा चार्ज देना होगा। ऑनलाइन डेबिट-क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करने के नियम भी बदल जाएंगे।

नई दिल्ली

Published: December 24, 2021 10:49:41 am

1 जनवरी 2022 से कई नियम बदलने वाला है। rbi के निर्देश पर यह बदलाव किए जा रहे हैं। यदि आप गूगल के एप पर वीजा या मास्टर कार्ड से भुगतान करना चाहते हैं, तो आपको अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड का हर बार पूरा डिटेल डालना होगा। गूगल अब इसे सेव नहीं करेगा। अब टोकनाइजेशन सिस्टम के तहत पैसा लिया जाएगा।
atm.jpg
अगर आपके पास RuPay, American Express, Discover या Diners Card है, और इनके जरिए आप पेमेंट करना चाहते हैं, तो इस स्थिति में कार्ड की सारी जानकारी ऑनलाइन पेमेंट के दौरान फिर से भरनी होगी। यहां भी कार्ड सेव करने का ऑप्शन आपको नहीं मिलेगा। दरअसल UPI या वॉलेट एप में सेव हुए कार्ड से हो रही लगातार ठगी को रोकने के लिए आरबीआई ने इस तरह के ऐप को कार्ड सेव करने का ऑप्शन को खत्मा कर दिया है। इसीलिये टोकनाइजेशन सिस्टम पर काम करने को कहा था।
ATM से कैश निकालने पर देना होगा ज्यादा चार्ज

1 जनवरी से एटीएम से मुक्त निकासी की सीमा के बाद पैसा निकालने पर बैंक ₹20 प्रति ट्रांजैक्शन की जगह ₹21 प्रति ट्रांजैक्शन चार्ज वसूलेगी। अभी बैंक ग्राहकों को हर महीने 5 बार फ्री अपने एटीएम से पैसा निकालने की इजाजत है| मुफ्त निकासी की सीमा खत्म होने के बाद बैंक ₹20 प्रति ट्रांजैक्शन चार्ज करती है |लेकिन 1 जनवरी से छठी बार पैसा निकालने पर 20 की जगह ₹21 चार्ज करेगी।
छह मेट्रो शहरों में अब तक पैसा निकालने पर पहले तीन ट्रांजैक्शन बिल्कुल मुफ्त है। जिसमें फाइनेंसियल और नॉनफाइनेंशियल ट्रांजैक्शन शामिल है। ग्राहकों को कोई चार्ज नहीं देना होता है। गैर मेट्रो शहरों में 5 एटीएम ट्रांजैक्शन मुफ्त है। मेट्रो शहर में फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन करने पर ₹20 प्रति ट्रांजैक्शन और 8.50 रुपये नॉन- फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन के तौर पर देना पड़ता है।
ऑनलाइन डेबिट क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल करने के भी नियम बदल जाएंगे

ऑनलाइन पेमेंट करना अब सामान्य हो गया है। ज्यादातर लोग अपने पास कैश रखने के बजाय ऑनलाइन पेमेंट करना पसंद करते हैं। चाहे वह शॉपिंग करना हो या खाना ऑर्डर करना हो या कैब बुक करनी हो, लोग ऑनलाइन ट्रांजैक्शन ही करना ज्यादा पसंद कर रहे हैं। अपने पासवर्ड डेबिट और क्रेडिट कार्ड डिटेल्स उसी पोर्टल पर सेव करके रखते हैं। जिस कारण से ऑनलाइन बैंकिंग के साथ साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी में भारी बढ़ोतरी हो रही है। इस ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम को सुरक्षित बनाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने सभी मर्चेंट और पेमेंट गेटवे से कस्टम के डेबिट और क्रेडिट कार्ड की संवेदनशील डिटेल हटाने के लिए कहा है, जो उनके पास सेव है।
नए डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के नियम एक जनवरी से अगले साल से लागू हो जाएंगे। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने मर्चेंट और पेमेंट गेटवे को लेनदेन करने के लिए एन्क्रिप्टेड टोकन का उपयोग करने के लिए भी कहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.