प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा, भगवा आतंकवाद झूठी कहनी- फंसाने के लिए कांग्रेस ने रची साजिश

जमानत से छूटी साध्वी प्रज्ञा ने हाईकोर्ट को ध्यवाद देते हुए कहा कि 9 साल बाद सही लेकिन हाईकोर्ट से मुझे न्याय मिला और मुझे इलाज का मौका।

By: पुनीत कुमार

Published: 27 Apr 2017, 05:59 PM IST

साल 2008 में मालेगांव ब्लास्ट मामले में आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जमानत मिलने के 2 दिनों बाद मीडिया के सामने आईं। मीडिया को बताते हुए उन्होंने कहा कि पिछले 9 साल तक जेल में रखकर कांग्रेस उन्हें मारने की साजिश में थी। उन्होंने भगवा आतंकवाद की थ्योरी के लिए यूपीए सरकार को गंभीर आरोप लगाए। साथ ही कहा कि वर्तमान की सरकार उन्हें न्याय दिलाने की पूरी कोशिश कर रही है। 


सीएम योगी का आदेश- अयोध्या में सालों से बंद पड़ी रामलीला फिर शुरू होगी


उनका कहना कि पूर्व की यूपीए सरकार ने उनके खिलाफ साजिश रची। जिससे की उन्हें खत्म किया जा सके। साथ ही कहा कि उनके खराब सेहत की वजह मुंबई एटीएस की प्रताड़ना है। जमानत से छूटी साध्वी प्रज्ञा ने हाईकोर्ट को ध्यवाद देते हुए कहा कि 9 साल बाद सही लेकिन हाईकोर्ट से मुझे न्याय मिला और मुझे इलाज का मौका। इसके अलावा मेरा केस अभी मुंबई अदालत में चलेगा। और इसलिए मैं इसे लेकर मानसिक तौर पर बंधी हुई हूं। 



भगवा आतंकवाद शब्द का प्रोयग करते हुए उन्होंने कहा कि जो गलत कामों से जुड़े होते हैं, उनके लिए भगवा को जुर्म ही लगेगा। उनका सीधा निशाना पूर्व यूपीए सरकार के केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम पर था। उन्होंने चिदंबरम पर निशाना साधते हुए कहा कि भगवा आतंकवाद कांग्रेस का दिया हुआ नाम है। और इसके लिए इन्होंने ने ही कहानी बनाई थी। 


सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार से कहा, लोकपाल कानून में देरी न्यायसंगत नहीं


गौरतलब है कि मालेगांव में साल 2008 में हुए बम धमाके के मामले में बॉम्बे हाईकोर्ट ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को जमानत दे दी थी। लेकिन इस मामले में हाईकोर्ट ने कर्नल प्रसाद पुरोहित जमानत देने से इनकार कर दिया था। साथ ही साध्वी प्रज्ञा को 5 लाख रुपए की नीजि मुचलके पर जमानत मिलने के बाद उनका पार्सपोर्ट कोर्ट ने हृढ्ढ्र को सौंपने को कहा था। इसके अलावा ट्रायल कोर्ट में हर तारीख को आने का आदेश दिया था।

Show More
पुनीत कुमार
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned