Sansad TV की हुई लॉन्चिंग, पीएम मोदी बोले- Content is Connect

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को संसद टीवी की लॉन्चिंग की। इस दौरान उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला भी मौजूद रहे।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के साथ बुधवार को संसद टीवी की लॉन्चिंग की। प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक इसके लॉन्च की तारीख अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस के अवसर पर तय की गई थी। लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी चैनलों को मिलाकर संसद टीवी की शुरुआत की गई है। यह 24 घंटे का चैनल, अपनी सामग्री के माध्यम से, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दर्शकों को लक्षित करने के उद्देश्य से लोकतांत्रिक लोकाचार और देश के लोकतांत्रिक संस्थानों के कामकाज का प्रदर्शन करेगा। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि Content in Connect.

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा, "आज का दिन हमारी संसदीय व्यवस्था में एक और महत्वपूर्ण अध्याय जोड़ रहा है। आज देश को संसद टीवी के रूप में संचार और संवाद का एक ऐसा माध्यम मिल रहा है जो देश के लोकतंत्र और जनप्रतिनिधियों की नई आवाज के रूप में काम करेगा।"

उन्होंने आगे कहा, "बदलते समय में मीडिया और टीवी चैनल्स की भूमिका भी तेजी से बदल रही है। 21वीं सदी तो विशेष रूप से संचार और संवाद के जरिए रिवोल्यूशन ला रही है। ऐसे में ये स्वाभाविक है कि हमारी संसद से जुड़े चैनल भी इन आधुनिक व्यवस्थाओं के हिसाब से खुद को ट्रान्स्फॉर्म करें।"

पीएम ने बोला, "भारत के लिए लोकतंत्र केवल एक व्यवस्था नहीं है, एक विचार है। भारत में लोकतंत्र, सिर्फ संवैधानिक स्ट्रक्चर ही नहीं है, बल्कि वो एक स्पिरिट है। भारत में लोकतंत्र, सिर्फ संविधाओं की धाराओं का संग्रह ही नहीं है, ये तो हमारी जीवन धारा है।"

उन्होंने कहा कि हमारी संसद में जब सत्र होता है, अलग अलग विषयों पर बहस होती है तो युवाओं के लिए कितना कुछ जानने सीखने के लिए होता है। हमारे माननीय सदस्यों को भी जब पता होता है कि देश हमें देख रहा है तो उन्हें भी संसद के भीतर बेहतर आचरण की, बेहतर बहस की प्रेरणा मिलती है। मुझे उम्मीद है कि संसद टीवी पर जमीनी लोकतंत्र के रूप में काम करने वाली पंचायतों पर भी कार्यक्रम बनाएं जाएंगे। ये कार्यक्रम भारत के लोकतंत्र को एक नई ऊर्जा और नई चेतना देंगे।

पीएम ने कहा कि संसद टीवी के रूप में एक नई शुरुआत हो रही है। संसद टीवी सोशल मीडिया और ओटीटी पर भी उपलब्ध होगा। यह एप्लीकेशन फॉर्मेट में भी उपलब्ध होगा। यह इसे आम भारतीय के करीब ले जाएगा। संचार में रचनात्मक लोग अक्सर 'कंटेंट इज किंग' कहते हैं। मेरे अनुभव में, 'कंटेंट इज कनेक्ट'। यह मीडिया और हमारे लोकतांत्रिक ढांचे दोनों पर लागू होता है। हमारे लोकतंत्र में सिर्फ राजनीति ही नहीं, नीतियां भी हैं।

फरवरी 2021 में, लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी को मर्ज करने का निर्णय लिया गया और मार्च में सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी रवि कपूर को इसके सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया। संसद टीवी प्रोग्रामिंग मुख्य रूप से चार श्रेणियों में होगी। इनमें- संसद और लोकतांत्रिक संस्थानों का कामकाज, शासन और योजनाओं/नीतियों का कार्यान्वयन, भारत का इतिहास और
संस्कृति और समकालीन प्रकृति के मुद्दे/हित/चिंताएं शामिल हैं।

Prime Minister Narendra Modi
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned