scriptSC to stop freebies, may void recognition of political parties | चुनावों में राजनीतिक पार्टियों को फ्री के वादे करना पड़ सकता है भारी, सुप्रीम कोर्ट कर सकता है मान्यता रद्द | Patrika News

चुनावों में राजनीतिक पार्टियों को फ्री के वादे करना पड़ सकता है भारी, सुप्रीम कोर्ट कर सकता है मान्यता रद्द

सुप्रीम कोर्ट अब जल्द ही राजनीतिक पार्टियों के फ्री के वादों पर लगाम लगा सकता है। सुप्रीम कोर्ट में PIL दायर की गई है जिसमें केंद्र और चुनाव आयोग को चुनाव घोषणापत्र को विनियमित करने और उसमें किए गए वादों के लिए राजनीतिक दलों की जवाबदेही तय करने की मांग की गई है। इस याचिका राजनीतिक दलों की मुश्किलें बढ़ सकती है।

Updated: February 20, 2022 06:47:19 am

चुनाव पास हो तो राजनीतिक पार्टियों के हवा-हवाई वादों की सूची भी लंबी होने लगती है। अब इनके वादों पर लगाम लग सकती है। सही सुना आपने अब राजनीतिक पार्टियों द्वारा किए जाने वाले फ्री के वादों पर लगा लग सकती है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका (PIL) दायर की गई है। इस याचिका में केंद्र और चुनाव आयोग को चुनाव घोषणापत्र को विनियमित करने और उसमें किए गए वादों के लिए राजनीतिक दलों की जवाबदेही तय करने के लिए कदम उठाने की मांग की गई है। ये याचिका वकील अश्विनी कुमार ने दायर की है। वकील अश्विनी कुमार द्वारा दायर इस जनहित याचिका में चुनाव आयोग से चुनाव चिन्ह को जब्त करने और चुनावी घोषणापत्र में किए गए वादों को पूरा करने में विफल रहने वाले राजनीतिक दलों की मान्यता को रद्द करने का निर्देश देने की भी मांग की गई है।
SC to stop freebies, may void recognition of political parties
SC to stop freebies, may void recognition of political parties
इस याचिका में कहा गया है कि केंद्र और चुनाव आयोग ने अब तक राजनीतिक दलों के घोषणापत्र को विनियमित करने के लिए कदम नहीं उठाए हैं। इस जनहित याचिका में कहा गया है, "यदि राजनीतिक दल निर्वाचित हो जाता है तो चुनाव घोषणापत्र को एक विजन दस्तावेज बनाया जाए। यह राजनीतिक दल और सरकार के इरादों, उद्देश्यों और विचारों की एक प्रकाशित घोषणा है।"
इसमें आगे कहा गया है कि "राजनीतिक दलों को अतिशयोक्तिपूर्ण वादों से बचना चाहिए क्योंकि इससे वित्तीय संकट के समय राज्य के धन में रखे गए जनता के पैसे पर बोझ पड़ सकता है। घोषणापत्र में किए गए सभी वादे ही गलत ये भी तर्क गलत है, लेकिन चुनाव आयोग द्वारा दिशानिर्देश दिए जाने चाहिए। इन राजनीतिक दलों को जवाबदेह बनाने के लिए उचित कदम भी उठाए जाएं।"

इस याचिका में कोर्ट से मामले का विश्लेषण करने का भी अनुरोध किया गया है। साथ ही कहा है कि चुनाव आएओफ और केंद्र सरकार ने कोई कदम नहीं उठाए हैं जिससे अब कोर्ट ही नागरिकों की एकमात्र आशा है।

यह भी पढ़ें

फांसी की सजा को हाईकोर्ट में चुनौती देगा आतंकियों का परिवार


यह भी पढ़ें

निजी स्कूलों पर सुप्रीम कोर्ट की अवमानना का आरोप

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

पटना एयरपोर्ट पर बड़ा हादसा, निर्माण कार्य के दौरान गिरा लोहे का स्ट्रक्चर, दो मजदूरों की मौत, एक की टूटी रीढ़ की हड्डीPM मोदी तक पहुंची अल्मोड़ा की 'बाल मिठाई', स्टार शटलर लक्ष्य सेन ने ऐसा पूरा किया अपना वायदाराजस्थान में 50 हजार अपराधियों की बनेगी'कुंडली' थाना स्तर पर बनेगा डोजीयरविश्व प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हेमकुंड साहिब और लक्ष्मण मंदिर के खुले कपाट, दो साल बाद लौटी रौनकPetrol-Diesel Prices Today: केंद्र के बाद राज्यों ने घटाए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें कितनी हैं आपके शहर में कीमतेंCheapest Home Loan: ये बैंक दे रहे हैं सबसे सस्ता होम लोन, यहां देखिए पूरी लिस्टQuad Summit 2022: प्रधानमंत्री मोदी का जापान दौरा, क्वाड शिखर सम्मेलन में बाइडेन से अहम मुलाकात, जानें और किन मुद्दों पर होगी बातGama Pehlwan के 144वें जन्मदिन पर गूगल ने बनाया डूडल, एक दिन में खाते थे 6 देसी मुर्गे और 10 लीटर दूध
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.