Haryana: 20 सितंबर से शुरू होंगी पहली से तीसरी की कक्षाएं

हरियाणा सरकार द्वारा जारी ताजा आदेश के मुताबिक प्रदेश में आगामी 20 सितंबर से पहली से लेकर तीसरी कक्षाओं में पढ़ाई शुरू होगी। यह ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से होगी और स्कूल आने के लिए अभिभावकों की लिखित अनुमति जरूरी होगी।

चंडीगढ़। कोरोना वायरस महामारी के बाद स्कूलों को वापस खोले जाने को लेकर तमाम राज्यों में अलग-अलग आदेश जारी किए जा चुके हैं। ज्यादातर ने 9वीं से 12वीं कक्षा तक के बच्चों के लिए स्कूलों में फिजिकल हाजिरी शुरू की है। हालांकि छोटी कक्षाओं को लेकर तमाम राज्यों की अलग-अलग राय है। हालांकि, इन सबके बीच हरियाणा ने अब घोषणा कर दी है कि प्रदेश में आगामी 20 सितंबर से पहली से तीसरी कक्षा तक के सभी स्कूलों को खोला जाएगा।

ताजा जानकारी के मुताबिक हरियाणा सरकार के शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुज्जर ने यह आदेश जारी किया है। इसके अंतर्गत आगामी 20 सितंबर से कक्षा 1 से लेकर 3 तक को फिर से शुरू किया जाएगा। यह आदेश सरकारी व निजी सभी विद्यालयों के लिए है।

यह भी पढ़ेंः अगर कोरोना की तीसरी लहर से बचना है, तो मान लीजिए सरकार की ये 4 जरूरी बातें

शिक्षा मंत्री के मुताबिक इन छात्रों को अपने अभिभावकों से लिखित सहमति लेकर आनी होगी। बच्चों को कक्षा में बैठने की अनुमति तब मिलेगी जब उनके पास माता-पिता से लिखित तौर पर स्कूल आने की मंजूरी होगी। अब तक प्रदेश के 70 फीसदी शिक्षकों का टीकाकरण हो गया है। बच्चों के पास यह विकल्प भी होगा कि वे चाहे तो कक्षाओं में ऑनलाइन हाजिरी दर्ज करें या ऑफलाइन। इस दौरान स्कूलों में कक्षाओं का संचालन शिक्षा विभाग द्वारा जारी एसओपी का पालन करते हुए किया जाएगा।

इस संबंध में हरियाणा सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए प्रदेश में सभी स्कूलों में ऑफलाइन पढ़ाई को बंद कर दिया गया था। हरियाणा में इससे पहले बीते 1 अगस्त से चौथी और पांचवीं तक की कक्षाओं को छात्रों के लिए खोल दिया गया था। जबकि इससे पहले 23 जुलाई से छठी से 12वीं तक की कक्षाओं को चालू कर दिया गया था।

ताजा आदेश के अंतर्गत स्कूलों में भौतिक रूप से हाजिर होने वाले हर छात्र-शिक्षक का रोजाना प्रवेश से पहले तापमान जांचा जाएगा। सामान्य से ज्यादा तापमान होने पर किसी भी छात्र-शिक्षक-आगंतुक को स्कूल के भीतर प्रवेश नहीं दिया जाएगा। वहीं, स्कूल के भीतर भी कोरोना संबंधी व्यवहार का पालन सुनिश्चित किया जाएगा।

इसके अलावा हरियाणा सरकार इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) द्वारा निर्मित एजुसैट यानी एजुकेशन सैटेलाइट क्लासेज भी संचालित करेगी, जिनका मकसद प्राथमिक से उच्च-शिक्षा के छात्रों के लिए पढ़ाई आसान करना है। इसके जरिये शैक्षिक सामग्री हासिल करने के लिए कक्षाओं तक पहुंच सुलभ होगी।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned