Coal Crisis: गृह मंत्री अमित शाह की हाई लेवल बैठक, ऊर्जा मंत्रालय के नए निर्देश

देश में कोयला संकट की खबरों के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को ऊर्जा और कोयला मंत्री समेत कई उच्चाधिकारियों संग बैठक कर हालात की समीक्षा की। वहीं, ऊर्जा मंत्रालय ने अब विद्युत वितरण कंपनियों को एनर्जी अकाउंटिंग करना अनिवार्य कर दिया है।

नई दिल्ली। देश में घटते कोयले के भंडार की बढ़ती चिंताओं के बीच सोमवार का दिन हलचल भरा रहा। केंद्र सरकार के तमाम मंत्रालय इस संकट से निपटने के लिए कमर कसते दिखे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ऊर्जा मंत्री आरके सिंह, कोयला मंत्री प्रह्लाद पटेल के साथ दोनों मंत्रालयों के शीर्ष अधिकारियों के साथ नॉर्थ ब्लॉक में एक उच्च स्तरीय बैठक की। वहीं, ऊर्जा मंत्रालय ने सोमवार को बिजली वितरण कंपनियों को समय-समय पर ऊर्जा लेखांकन करना अनिवार्य कर दिया है।

सूत्रों ने बताया कि यह उच्च स्तरीय बैठक तकरीबन एक घंटा तक चली। इस दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की और बैठक में मौजूद सभी लोगों से देशभर के थर्मल पावर प्लांट को कोयले की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने को कहा। कोयला मंत्रालय ने आश्वस्त किया कि बिजली संयंत्रों की मांग को पूरा करने के लिए देश में पर्याप्त कोयला उपलब्ध है। बैठक में नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनटीपीसी) के शीर्ष अधिकारी भी मौजूद दिखे।

केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने इससे पहले रविवार को बिजली संयंत्रों को आश्वासन दिया था कि कोयले की आपूर्ति का स्टॉक खपत से अधिक हो गया है। यह ईंधन स्टॉक की स्थिति को धीरे-धीरे सुधारने में मदद करेगा।

अमित शाह

इसके अलावा कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने भी कोयले की कमी के कारण बिजली गुल होने के आरोपों से इनकार किया है। ऊर्जा मंत्रालय ने जोर देकर कहा कि अंतर-मंत्रालयी उप-समूह सप्ताह में दो बार कोयला भंडार की स्थिति की निगरानी कर रहा है।

इस बीच, दिल्ली के बिजली मंत्री सत्येंद्र जैन ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय राजधानी को पहले की आधी बिजली मिल रही थी। उन्होंने कहा, "दिल्ली को 4,000 मेगावाट बिजली मिलती थी लेकिन अब उसे आधी भी नहीं मिल रही है.. ज्यादातर बिजली संयंत्रों में कोयले की कमी है। किसी भी बिजली संयंत्र में कोयले का स्टॉक 15 दिन से कम नहीं होना चाहिए। स्टॉक केवल दो से तीन दिनों के लिए बचा है। एनटीपीसी ने अपने संयंत्रों की उत्पादन क्षमता को 50-55 प्रतिशत तक सीमित कर दिया है।"

वहीं, पंजाब, छत्तीसगढ़, दिल्ली और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अपने-अपने राज्यों में बिजली संयंत्रों को कोयले और गैस की आपूर्ति बढ़ाने की मांग की है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि कई मुख्यमंत्रियों ने केंद्र सरकार को कोयले की कमी के कारण बिजली संयंत्रों की गंभीर स्थिति के बारे में लिखा है। उन्होंने कहा, "स्थिति गंभीर है और कई मुख्यमंत्रियों ने केंद्र सरकार को इसके बारे में लिखा है। हम सभी मिलकर स्थिति को सुधारने के लिए काम कर रहे हैं।"

सुपर क्रिटिकल हालत में Rajasthan के बिजलीघर, कोयला मंत्रालय ने 40 प्रतिशत अधिक कोयला खनन की दी अनुमति

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी संभावित कोयले की कमी के मुद्दे को हरी झंडी दिखाई। कुमार ने सोमवार को कहा, "यह सच है कि एक समस्या है। हमारी आवश्यकता के अनुसार, या तो हम इसे एनटीपीसी से प्राप्त करते हैं या निजी कंपनियों से। लेकिन आपूर्ति अब प्रभावित है। कुछ कारण हैं जिनके कारण ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई है। यह न केवल बिहार में हैं, लेकिन हर जगह हैं।"

एनर्जी अकाउंटिंग अनिवार्य की गई

दूसरी तरफ, बिजली क्षेत्र में चल रहे सुधारों के तहत एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में ऊर्जा मंत्रालय ने सोमवार को बिजली वितरण कंपनियों को समय-समय पर ऊर्जा लेखांकन (एनर्जी अकाउंटिंग) करना अनिवार्य कर दिया है। ऊर्जा मंत्रालय द्वारा एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, "इस संबंध में, ऊर्जा संरक्षण (ईसी) अधिनियम, 2001 के प्रावधानों के तहत ऊर्जा मंत्रालय के अनुमोदन से ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) द्वारा विनियम जारी किया गया था।"

कोयला प्रबंधन में फेल अफसर : बिजलीघरों में कोयले का 25 दिन का स्टॉक जरूरी, पर अब भी एक-दो दिन का ही

नोटिफिकेशन के मुताबिक, एक प्रमाणित ऊर्जा प्रबंधक के माध्यम से 60 दिनों के भीतर वितरण कंपनियों ( DISCOMs) द्वारा त्रैमासिक ऊर्जा लेखांकन निर्धारित किया जाना सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही एक स्वतंत्र मान्यता प्राप्त ऊर्जा लेखा परीक्षक द्वारा वार्षिक ऊर्जा लेखा परीक्षा भी की जाए और इन दोनों रिपोर्टों को सार्वजनिक डोमेन में प्रकाशित किया जाए।

ऊर्जा लेखांकन रिपोर्ट उपभोक्ताओं की विभिन्न श्रेणियों द्वारा बिजली की खपत और विभिन्न क्षेत्रों में ट्रांसमिशन और डिस्ट्रीब्यूशन हानियों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान करेगी। यह सबसे ज्यादा नुकसान और चोरी के क्षेत्रों की पहचान करेगा और सुधारात्मक कार्रवाई को सक्षम करेगा। यह उपाय नुकसान और चोरी के लिए अधिकारियों पर जिम्मेदारी तय करने में भी सक्षम होगा।

Amit Shah
Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned