scriptSlavery Marks Will End In Indian Army Uniform Will Change Regiments Will Also Have New Names | सेना में हटेंगे गुलामी के निशान, अलग होगी वर्दी, बदले जाएंगे रेजिमेंटों के नाम! | Patrika News

सेना में हटेंगे गुलामी के निशान, अलग होगी वर्दी, बदले जाएंगे रेजिमेंटों के नाम!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले दिनों नौसेना के नए झंडे का अनावरण किया था। इसके साथ ही उन्होंने रेड क्रॉस के जरिए अंग्रेजों की गुलामी के निशान को भी हटा दिया था। अब ये सिलसिला आगे बढ़ रहा है और सेना से अंग्रेजों की गुलामी का निशान पूरी तरह हटने जा रहा है।

नई दिल्ली

Published: September 21, 2022 12:59:18 pm

अंग्रेजों के 200 से भी ज्यादा वर्षों तक भारत को गुलाम बनाए रखा। यही नहीं उनके देश छोड़कर भागने के बाद भी कई वर्षों से उनकी हुकूमत की कई चीजें भारत के जख्मों को ताजा बनाए हुए हैं। यही वजह है कि अब देश में अंग्रेजों की गुलामी के निशान को हटाने की कवायद शुरू हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल में नौसेना के नए झंडे का अनावरण किया, जिसपर से अंग्रेजी हुकूमत की निशान रेड क्रॉस को हटा दिया गया। बताया जा रहा है कि, अब ये सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। भारतीय सेना में जारी उन सभी परिपाटियों को खत्म करने की तैयारी चल रही है, जो हमें अंग्रेजी शासन की याद दिलाती है।
Slavery Marks Will End In Indian Army Uniform Will Change Regiments Will Also Have New Names
Slavery Marks Will End In Indian Army Uniform Will Change Regiments Will Also Have New Names
जल्द की बदल सकती है भारती सेना की वर्दी
सबकुछ ठीक योजना के मुताबिक रहा तो जल्द ही भारतीय सेना की वर्दी बदल सकती है। यही नहीं आने वाले समय में सैनिकों की वर्दी, समारोहों के साथ-साथ रेजीमेंटों और इमारतों के नामों में बदलाव किया जाएगा।

इसको लेकर 22 सितंबर को यानी गुरुवार को एक अहम मीटिंग होना है। इस बैठक में सेना के एडजुटेंट जनरल प्रचलित रीति-रिवाजों, पुरानी प्रथाओं और नीतियों की समीक्षा करेंगे। माना जा रहा है कि इस बैठक में आने वाले समय में कब-कब क्या बदलाव किए जाएं इस पर भी अहम चर्चा होगी।

यह भी पढ़ें

12 दिन बर्फ में दबे रहे, एक साल जिंदगी-मौत से लड़े, आखिरकार थम गई लांस नायक की सांस

दरअसल सोशल मीडिया पर इन दिनों एक एजेंडा नोट तेजी से वायरल हो रहा है। दिग्गजों ने इसको लेकर रिएक्शन भी दिए हैं।

हालांकि सेना के सूत्रों की मानें तो सिर्फ एजेंडा नोट के प्रचलन ये तय नहीं हो जाता कि, सभी सुझावों पर अमल किया जाएगा। किसी भी परिवर्तन के क्रियान्वित में लाने से पहले उसपर विस्तार से बहस की जाएगी।

क्या है एजेंडा नोट?
समीक्षा बैठक के एजेंडा नोट के मुताबिक, यह पुराने और अप्रभावी प्रथाओं को हटाने का समय है। दरअसल सेना की वर्दी और साज-सामान में परिवर्तन लाने पर विचार किया जा रहा है। इन पर से अंग्रेजी हुकूमत की छाप को हटाने की कवादय शुरू होगी।

फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि कंधे के चारों ओर की रस्सी रहेगी या नहीं। इसके अलावा रेजिमेंटों के नाम पर भी विचार किया जाएगा। दरअसल सिख, गोरखा, जाट, पंजाब, डोगरा, राजपूत और असम जैसी इन्फैंट्री रेजिमेंटों का नाम अंग्रेजों की ओर से ही रखा गया था।

 
पीएम मोदी स्वदेशीकरण पर दे चुके जोर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद स्वदेशीकरण पर जोर दे चुके हैं। बीते वर्ष संयुक्त कमांडरों के एक सम्मेलन में उन्होंने सशस्त्र बलों में सिद्धांतों, प्रक्रियाओं और रीति-रिवाजों के स्वदेशीकरण पर जोर दिया था।

उन्होंने तीनों सेनाओं को उन प्रणालियों और प्रथाओं से छुटकारा पाने की सलाह दी थी, जिनकी उपयोगिता और प्रासंगिकता खत्म हो चुकी है। यानी इशारे में ही सही उन्होंने अंग्रेजी हुकूमत के निशान को मिटाने की बात कही थी।

यह भी पढ़ें

सेना के पीछे हटने के बावजूद चीन बना हुआ है चुनौती, नौसेना प्रमुख ने पाकिस्तान को लेकर कही ये बात

 

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

सच बोलने की सजा भुगतनी पड़ी... बिहार के कृषि मंत्री के इस्तीफे पर BJP ने नीतीश पर किया हमलाअमित शाह के जम्मू दौरे से पहले पुलवामा में आतंकी हमला, पुलिस का एक जवान शहीद, CRPF जवान जख्मीIAF की ताकत में होगा इजाफा, कल सेना में शामिल होगा स्वदेशी हल्का लड़ाकू हेलीकॉप्टर, जानें इसकी खासियतIND vs SA 2nd T20: 2 गेंदबाज जो साउथ अफ्रीका को हराने में टीम इंडिया की मदद करेंगेबिहार के कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने दिया इस्तीफा, डिप्टी सीएम को सौंपा पत्रहिमाचल पहुंचे जेपी नड्डा, BJP जिला कार्यालय का लोकार्पण करने के बाद पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ की बैठकपंजाबः लॉरेंस बिश्नोई का करीबी गैंगस्टर टीनू हिरासत से चौथी बार फरार, मूसेवाला मर्डर केस में होनी थी पूछताछकांग्रेस के तीन बड़े प्रवक्ताओं ने दिया इस्तीफा, मल्लिकार्जुन खड़गे को अध्यक्ष बनाने के लिए करेंगे प्रचार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.