script कलकत्ता हाईकोर्ट का ममता सरकार पर बड़ा बयान, जज बोले- 'पश्चिम बंगाल में संवैधानिक ढांचा ढह रहा' | The constitutional structure is collapsing in West Bengal Calcutta High Court judge big remarks on tmc gov | Patrika News

कलकत्ता हाईकोर्ट का ममता सरकार पर बड़ा बयान, जज बोले- 'पश्चिम बंगाल में संवैधानिक ढांचा ढह रहा'

locationनई दिल्लीPublished: Jan 05, 2024 05:42:37 pm

Submitted by:

Paritosh Shahi

पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में छापेमारी करने गई प्रवर्तन निदेशालय की टीम पर जानलेवा हमला हुआ। इस मामले पर कलकता हाईकोर्ट के जज ने कहा है कि पश्चिम बंगाल में संवैधानिक ढांचा ढह रहा है।

kolkata_highcourt.jpg

पश्चिम बंगाल में शुक्रवार को तृणमूल कांग्रेस के एक नेता के आवास पर छापेमारी करने गई प्रवर्तन निदेशालय की टीम पर भीड़ ने जानलेवा हमला कर दिया गया और उनकी गाड़ियों को तोड़ दिया गया। इस मामले पर कलकत्ता हाईकोर्ट के जज अभिजीत गंगोपाध्याय ने कहा कि पश्चिम बंगाल में संवैधानिक ढांचा ढह रहा है। उन्होंने राज्यपाल पर सवाल उठाते हुए कहा कि इस मामले में सी.वी. आनंद बोस कोई बयान क्यों नहीं दे रहे हैं। न्यायमूर्ति गंगोपाध्याय ने यह टिप्पणी तब की जब हाईकोर्ट के एक वकील ने उन्हें उत्तरी 24 परगना जिले के संदेशखली में तृणमूल कांग्रेस नेता शेख साजहान के आवास पर छापा मारने की कोशिश के दौरान स्थानीय गुंडों द्वारा ईडी के अधिकारियों और केंद्रीय बलों के जवानों पर हमला किया गया।


राज्यपाल राज्य में संवैधानिक ढांचे के पतन पर कोई बयान क्यों नहीं दे रहे: गंगोपाध्याय

न्यायमूर्ति गंगोपाध्याय ने पूछा कि राज्यपाल राज्य में संवैधानिक ढांचे के पतन पर कोई बयान क्यों नहीं दे रहे हैं। उन्होंने इस मामले में राज्य पुलिस की भूमिका के बारे में भी पूछताछ की। न्यायमूर्ति गंगोपाध्याय ने सवाल किया, ''क्या राज्य पुलिस के जवान मौके पर पहुंचे? अगर जांच अधिकारियों पर ही हमला हो तो उचित जांच कैसे हो सकती है?''

क्या वे हथियार नहीं रखते? क्या वे उनका उपयोग नहीं कर सकते थे?

अदालत में मौजूद डिप्टी सॉलिसिटर जनरल को भी न्यायमूर्ति गंगोपाध्याय के सवाल का सामना करना पड़ा। न्यायमूर्ति ने कहा कि आपके लोगों को पीटा गया। क्या वे हथियार नहीं रखते? क्या वे उनका उपयोग नहीं कर सकते थे? यदि आपके दो अधिकारी घायल हो गए, तो, 200 कर्मचारी भेजे। इस तरह की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए तृणमूल कांग्रेस के राज्य प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि न्यायमूर्ति गंगोपाध्याय ऐसी टिप्पणी करके अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर जा रहे हैं।

उनकी टिप्पणियां बेहद आपत्तिजनक हैं। वह जिस कुर्सी पर बैठे हैं, उसका अपमान कर रहे हैं। उन्हें नौकरी छोड़कर राजनीति में आना चाहिए। उन्हें कलकत्ता हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश द्वारा चेतावनी दी जानी चाहिए। इस बीच, संदेशखाली में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। साजहान के समर्थकों ने शुक्रवार सुबह ही केंद्रीय एजेंसी की कार्रवाई को लेकर क्षेत्र में अपना विरोध जारी रखा है।

ट्रेंडिंग वीडियो