scriptFD से ज्यादा सुरक्षित ये बॉन्ड, ब्याज भी 8 फीसदी से अधिक | These bonds are safer than FD, interest is also more than 8 percent | Patrika News
राष्ट्रीय

FD से ज्यादा सुरक्षित ये बॉन्ड, ब्याज भी 8 फीसदी से अधिक

आरबीआइ फ्लोटिंग रेट सेविंग बॉन्ड के ब्याज दरों में बदलाव नहीं होता है। इससे सीधा फायदा मिलता है।

नई दिल्लीJul 03, 2024 / 07:08 am

Anand Mani Tripathi

केंद्र सरकार ने जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी) सहित 12 छोटी बचत योजनाओं के ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने भी मौजूदा छमाही जुलाई-दिसंबर 2024 के लिए फ्लोटिंग रेट सेविंग्स बॉन्ड के ब्याज यानी कूपन रेट को 8.05त्न पर बरकरार रखा है। इसके बावजूद फ्लोटिंग रेट सेविंग्स बॉन्ड ब्याज के मामले में सरकार की बहुत सारी छोटी बचत योजनाओं और बैंक एफडी जैसे फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट्स के मुकाबले ज्यादा आकर्षक है।

ऐसे निर्धारित होती है ब्याज दर

फ्लोटिंग रेट सेविंग बॉन्ड में पूरे टेन्योर के दौरान ब्याज एकसमान नहीं रहता। इस बॉन्ड पर ब्याज का निर्धारण हर छह महीने पर यानी जुलाई और जनवरी को किया जाता है। इस बॉन्ड पर ब्याज के निर्धारण के लिए नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी) को बेंचमार्क माना गया हैं। इसमें एनएससी से 35 बेसिस प्वाइंट अधिक ब्याज मिलता है। चूंकि एनएससी पर ब्याज दरें अभी 7.7त्न है, इसलिए फ्लोटिंग रेट सेविंग बॉन्ड का कूपन रेट जुलाई से दिसंबर के लिए 8.05त्न होगी।

निवेश सीमा, लॉक-इन पीरियड

निवेशकों को कम से कम 1,000 रुपए मूल्य का बॉन्ड खरीदना होता है। इसके 1000 रुपए के गुणक में ही निवेश कर सकते हैं। अधिकतम निवेश की कोई लिमिट नहीं है। बॉन्ड का लॉक-इन पीरियड 7 साल है। यानी सात साल से पहले आप इस बॉन्ड को रिडीम नहीं कर सकते। 60 साल या इससे ज्यादा उम्र के लोगों को प्रीमैच्योर रिडेम्पशन की सुविधा है। लेकिन प्रीमैच्योर रिडेम्पशन होल्डिंग पीरियड के अंतिम छह महीने के लिए देय ब्याज का 50त्न पेनल्टी वसूला जाता है।

लिक्विडिटी नहीं

इस बॉन्ड की ट्रेडिंग स्टॉक एक्सचेंज पर नहीं हो सकती। इसे किसी दूसरे व्यक्ति को ट्रांसफर भी नहीं किया जा सकता। यानी इसे जब चाहें तब बेच नहीं सकते। साथ ही इस बॉन्ड को लोन लेने के लिए कोलैटरल या सिक्योरिटी की तरह इस्तेमाल भी नहीं किया जा सकता। यानी इन्हें गिरवी रखकर लोन भी नहीं ले सकते। मतलब, आपका पैसा पूरे सात साल के लिए फंस जाता है।

किनके लिए बेहतर

वैसे निवेशक जिनकी सालाना इनकम 7 लाख रुपए से कम है, साथ ही जिन्हें सात वर्ष तक निवेश करने में कोई दिक्कत नहीं है और जो फिक्स इनकम चाहते हैं, उनके लिए यह बैंक एफडी से बेहतर विकल्प है। वैल्यू रिसर्च ने कहा, अगर आप जोखिम नहीं लेना चाहते और स्थिर रिटर्न की तलाश में हैं, तो ये बॉन्ड आपके लिए उपयुक्त हो सकते हैं।

कौन इससे बचें

अगर आप थोड़ा जोखिम उठा सकते हैं और ज्यादा कमाई की उम्मीद रखते हैं, तो यह आपके लिए नहीं हैं। थोड़ा रिस्क उठाकर अधिक रिटर्न के लिए बैलेंस्ड एडवांटेज फंड में निवेश ज्यादा बेहतर विकल्प है।

कैसे करें निवेश

आरबीआइ ने सभी सरकारी बैंकों, चुनिंदा निजी बैंकों जैसे एचडीएफसी, आइसीआइसीआइ, एक्सिस बैंक आदि को इस बॉन्ड को जारी करने के लिए अधिकृत किया है। वर्ष के दौरान कभी भी कोई भी भारतीय नागरिक इस बॉन्ड में निवेश कर सकता है। आरबीआइ के रिटेल डायरेक्ट पोर्टल के जरिए भी इसमें निवेश कर सकते हैं। ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से निवेश कर सकते हैं।

Hindi News/ National News / FD से ज्यादा सुरक्षित ये बॉन्ड, ब्याज भी 8 फीसदी से अधिक

ट्रेंडिंग वीडियो