scriptTonga Volcano Eruption what can have an effect on India too | टोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असर | Patrika News

टोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असर

टोंगा ज्वालामुखी विस्फोट से वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है। स्मिथसोनियन ग्लोबल वॉल्कैनिज्म प्रोग्राम की ज्वालामुखी एक्सपर्ट जैनिन क्रिपनर के मुताबिक जब ज्वालामुखी का वेंट यानी धरती से अंदर से जुड़ी हुई नली पानी के अंदर होती है तो उसके बारे में समझ पाना मुश्किल होता है। वहीं इस विस्फोट का भारत में भी असर देखने को मिला

नई दिल्ली

Published: January 20, 2022 11:59:14 am

न्यूजीलैंड के पास दक्षिणी प्रशांत महासागर में इतना भयानक ज्वालामुखी विस्फोट हुआ कि धरती के चारों ओर हवा के दबाव की एक लहर यानी Shock wave दो बार दौड़ गई। ये शॉकवेव उत्तरी अफ्रीका में जाकर खत्म हुई और फिर वहां से वापस उठी तो ज्वालामुखी तक आ गई। इस ज्वालामुखी का नाम है टोंगा। इसके धमाके की आवाज 2300 किलोमीटर दूर तक साफ तौर पर सुनाई दी। भारत में इसकी दूरी मापे तो दिल्ली से लेकर चेन्नई तक इसकी आवाज सुनाई दी। इस शॉकवेव के चलते 4 फीट ऊंची लहरों की सुनामी भी आई, जिससे काफी नुकसान हुआ है। वहीं भारत में भी इस टोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का असर देखने को मिला।
Tonga Volcano Eruption what can have an effect on India too
Tonga Volcano Eruption what can have an effect on India too
टोंगा से छोटे बाहरी द्वीपों में सुनामी और समुंद्र में ज्वालामुखी फटने से काफी नुकसान हुआ है। ज्वालामुखी विस्फोट के बाद 22 किलोमीटर ऊपर तक राख और धुएं का गुबार उठा। विस्फोट के बाद मशरूम जैसी आकृति बनी। समुद्र के अंदर एक बड़ा गड्ढा बन गया, जिससे सुनामी को ताकत मिली। विस्फोट और उसकी लहर अंतरिक्ष में चक्कर लगा रहे सैटेलाइट्स ने भी कैद की।

यह भी पढ़ें

कांगो में फटा ज्चालामुखी पर्वत, सड़कों पर आया लावा, दहशत में शहर


वैज्ञानिकों की बढ़ी चिंता

इस जोरदार ज्वालामुखी विस्फोट से वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है। स्मिथसोनियन ग्लोबल वॉल्कैनिज्म प्रोग्राम की ज्वालामुखी एक्सपर्ट जैनिन क्रिपनर के मुताबिक जब ज्वालामुखी का वेंट यानी धरती से अंदर से जुड़ी हुई नली पानी के अंदर होती है तो उसके बारे में समझ पाना मुश्किल होता है।

वैज्ञानिकों का कहना है इस वजह से फिलहाल उनके पास जानकारी का अभाव है। यही वजह है कि वे ज्यादा भविष्यवाणी नहीं कर सकते। ये बात चिंता बढ़ाने वाली है, क्योंकि वैज्ञानिक जब तक आगे क्या होने वाला इसकी जानकारी हासिल नहीं कर लेते, तब तक इससे निपटने का तरीका भी निकालना मुश्किल है।
वैज्ञानिकों की मानें तो शॉक वेव सिर्फ जमीन या समुद्र में नहीं थी। इसका असर वायुमंडल में भी था। यह शॉक वेव आवाज की गति से पूरी धरती पर फैली थी।
इस वजह से हुआ विस्फोट

वैज्ञानिकों की मानें तो Tonga Volcano इससे पहले साल 2014 में फटा था। लेकिन बीते 30 से ज्यादा दिनों से यह गड़गड़ा रहा था। धरती के केंद्र से मैग्मा धीरे-धीरे ऊपर आ रहा था। मैग्मा का तापमान करीब 1000 डिग्री सेल्सियस था। जैसे ही ये ज्वालामुखी 20 डिग्री सेल्सियस वाले समुद्री पानी से मिला, ज्वालामुखी में तेज विस्फोट हुआ।
भारत में दिखा असर

भारत में टोंगा ज्वालामुखी का हल्का ही सही असर दिखाई दिया। आईआईटी मद्रास के पीएचजी स्कॉलर एस वेंटरमन ने अपने घर में लगाए छोटे से मौसम स्टेशन में काम करने के दौरान बैरौमीटर में उतार चढ़ाव देखा। उनके मुताबिक यह बहुत अजीब सा था और उन्हें लगा कि उनके उपकरण में कोई समस्या है।

यह भी पढ़ें

ज्वालामुखी से निकला लावा तो बनी खेतोलाई में अनूठी भू-संरचना



वहीं यह प्रभाव बहुत थोड़ी देर के लिए था लेकिन अचानक था। वेंकटरमन ने तुरंत अपने सक्रिय चेन्नई के वेदर ब्लॉगिंग कम्यूनिटी में इसकी जानकारी दी और बेंगलुरू में भी संपर्क किया जहां पर भी असर देखने को मिला, जो 20 मिनट के अंतराल के बाद वहां पहुंचा।

वेंकटरामन के मुताबिक इन तरंगों को भारत में अलग मौसम केंद्रों ने भी महसूस किया था. लेकिन उनका समय दूरी के अनुसार अलग अलग था। हालांकि इस ज्वालामुखी विस्फोट के लंबी दूरी के प्रभाव आने वाले समय में अध्ययन से सामने आंएंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभकिसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामसूर्य-बुध की युति से बनेगा ‘बुधादित्य’ राजयोग, जानिए किसकी चमकेगी किस्मत?दिल्ली के सरकारी स्कूलों में सिर्फ 15 दिन का समर वेकेशन, जानिए प्राइवेट स्कूलों को लेकर क्या हुआ फैसला17 मई से 3 राशि वालों के खुलेंगे भाग, मंगल का मीन में गोचर दिलाएगा अपार सफलता2023 तक मीन राशि में रहेगा 'जुपिटर ग्रह', 3 राशियों की धन-दौलत में करेगा जबरदस्त वृद्धिगेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटलजमकर बिकी Tata की ये किफायती SUV! एडवांस फीचर्स और 5 स्टार सेफ़्टी के आगे फेल हुएं सभी

बड़ी खबरें

चिंतन शिविर को लेकर बोले सचिन पायलट, 'मंथन के बाद नए स्वरूप में सामने आएगी कांग्रेस'हिजाब विवाद के बीच अब मेरठ में कुर्ता पजामा पर बवाल, परीक्षा देने आए छात्र को पीटाडॉ. माणिक साहा बने त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री, 11 महीने बाद ही राज्य में होना है विधानसभा चुनावIPL 2022 KKR vs SRH Live Updates: आंद्रे रसल के तूफान में उड़ा हैदराबाद, कोलकाता ने 54 रनों से जीता मैच7th Pay Commission: सरकार ने की इन सरकारी कर्मचारियों की पेंशन में 13% बढ़ोतरीकौन हैं माणिक साहा जो होंगे त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्रीबिहार में नितिन गडकरी ने कोईलवर सिक्सलेन पुल का किया उद्धाटन, नीतीश कुमार को नहीं दिया निमंत्रणमुठभेड़ के 12 घंटे के अंदर शिकारियों के घरों पर चलाया बुलडोजर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.