scriptViolent clashes during Banni festival in Andhra Pradesh's Kurnool, 50 injured, 2 critical | आंध्र प्रदेश के कर्नूल में बन्नी उत्सव के दौरान हिंसक झड़प, 50 लोग घायल, 2 की हालत नाजुक | Patrika News

आंध्र प्रदेश के कर्नूल में बन्नी उत्सव के दौरान हिंसक झड़प, 50 लोग घायल, 2 की हालत नाजुक

Published: Oct 06, 2022 08:47:35 am

आंध्र प्रदेश के कर्नूल में बन्नी उत्सव के दौरान हिंसक झड़प हो गई है, जिसके कारण 50 लोग घायल हो गए हैं। घायलों में से 2 की हालत नाजुक बताई जा रही है। इसको मनाने के लिए 11 गांवों के लोग शामिल हुए थे।

violent-clashes-during-banni-festival-in-andhra-pradesh-s-kurnool-50-injured-2-critical.jpg
Violent clashes during Banni festival in Andhra Pradesh's Kurnool, 50 injured, 2 critical
देशभर में बीते दिन बुधवार का बड़े ही धूमधाम से दशहरा का त्योहार मनाया गया, लेकिन कई अप्रिय घटनाओं के कारण जश्न कम हो गया। आंध्र प्रदेश के कर्नूल जिले का प्रसिद्ध बन्नी उत्सव के दौरान हिंसक झड़प हो गई। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बन्नी उत्सव के दौरान लगभग 800 पुलिसकर्मी तैनात थे, जिनके सामने ही यह झड़प हुई। वहीं पिछले साल भी बन्नी उत्सव के दौरान लगभग 70 लोग घायल हुए थे।
दरअसल आंध्र प्रदेश के कर्नूल जिले में दशहरे के दिन हजारों संख्या में लोग एक जगह एकत्रित होकर दो देवताओं को अपने पाले में रखने के लिए एक-दूसरे के सिर पर लाठियों से वार करते हैं। लोगों का मानना है कि इससे गांव में समृद्धि आती है, लेकिन बन्नी उत्सव के दौरान हर साल हिंसा होती है। हर साल की तरह इस साल भी हिंसा हुई, जिसके कारण 50 लोग घायल हो गए जिनमें से 2 की हालत नाजुक है।
भगवान की मूर्ति को अपने साथ ले जाने के लिए होती है छीना झपटी
प्राप्त जानकारी के अनुसार यह बन्नी उत्सव मनाने की प्रथा दशकों से चली आ रही है, जिसमें लोग भगवान की मूर्ति को अपने साथ ले जाने के लिए छीना झपटी करते हैं और एक दूसरे के सिर पर लाठियों से वार करते हैं। यह मुख्य रूप से आंध्र प्रदेश के कर्नूल जिले के होलागुंडा मंडल स्थित देवरगट्टू इलाके में दशहरे के दिन मनाया जाता है। हर साल इसको मनाते हुए सिर पर चोट लगने से कई लोग बुरी तरह घायल भी हो जाते हैं, जिसके बाद भी लोग इसे हर साल मनाते हैं।
 
बारिश के बाद भी 11 गांव के लोग बन्नी उत्सव में हुए शामिल, 800 पुलिसकर्मी थे तैनात
भारी बारिश के बाद भी लगभग 11 गांवों के लोग बन्नी उत्सव में शामिल होने के लिए आए हुए थे। इन गावों के लोग दो भाग में बट गए और फिर बन्नी उत्सव की शुरुआत हुई, जिसमें भगवान की मूर्ति लेने के लिए छीना झपटी शुरू हुई। इसके बाद जब लोग एक दूसरे पर लाठी से वार कर रहे थे तभी बन्नी उत्सव हिंसक हो गया। बन्नी उत्सव में हिंसा रोकने के लिए राज्य सरकार के द्वारा लगभग 800 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था, लेकिन इसके बाद इस हर साल की तरह इस साल भी हिंसा को नहीं रोका जा सका।

यह भी पढ़ें

जहांगीरपुरी हिंसा के बाद की कार्रवाई पर अजय माकन ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- गरीब के पेट में मारी लात

 

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.