scriptChanging trend of weddings, 'Live DJ' replacing women's music | शादियों का बदल रहा ट्रेंड, महिला संगीत का स्थान ले रहे 'लाइव डीजे' | Patrika News

शादियों का बदल रहा ट्रेंड, महिला संगीत का स्थान ले रहे 'लाइव डीजे'

चकाचौंध भरे आयोजनों में सिमटकर रह गया परम्परागत महिला संगीत

नीमच

Published: May 01, 2022 09:01:37 pm

मुकेश सहारिया, नीमच. अब वैवाहिक आयोजनों में पारम्परिक गीत-संगीत का स्थान लाइव डीजे ने ले लिया है। अब आस पड़ोस की महिलाएं द्वारा महिला संगीत, हल्दी, मेहंदी में गाए जाने वाले गीत नहीं सुनाई देते हैं। उनकी जगह लाइव डीजे में सिंगर बुलाए जाने लगे हैं। युवा पीढ़ी इस कल्चर की ओर तेजी से आकर्षित हो रही है।

शादियों का बदल रहा ट्रेंड, महिला संगीत का स्थान ले रहे 'लाइव डीजे'
वैवाहिक आयोजनों में लाइव डीजे का बढ़ रहा कल्चर
युवा पीढ़ी प्रसिद्ध सिंगरों को बुला वैवाहिक आयोजनों को दे रहे भव्यता
पिछले दो साल यूं तो वैवाहिक आयोजन एक दायरे तक सिमटकर रह गए थे, लेकिन अब धूमधाम से आयोजन हो रहे हैं। समय के साथ अब शादियों में नया टें्रड चल पड़ा है। युवा पीढ़ी 'लाइव डीजे' की ओर अधिक आकर्षित हो रही है। अब तक यह कल्चर बढ़े शहरों में अधिक था, लेकिन नीमच जैसे छोटे शहर में भी इसका चलन तेजी से बढ़ा है। यूं तो वैवाहिक आयोजनों में उम्मीद से कहीं अधिक राशि खर्च हो जाती है, लेकिन आज की पढ़ी-लिखी युवा पीढ़ी नए ट्रेंड में खर्च की परवाह नहीं कर रही। बच्चे भी छोटे शहरों से बढ़े शहरों-महानगरों में पढ़ाई करने जा रहे हैं। वहां की चकाचौंध, रहन-सहन, कल्चर में रम से जाते हैं। उन्हीं सब परम्पराओं को वे अपने साथ अपने गृह नगर में भी खींचकर ला रहे हैं। बड़े शहरों में लाइव डीजे का चलन चर्म पर रहा है। युवा पीढ़ी इससे अत्यधिक प्रभावित हुई है। अब यह कल्चर महिला संगीत का विकल्प बनकर उभर रहा है। लाइव डीजे में प्रसिद्ध सिंगर बुलाए जाने लगे हैं। महंगी, हल्दी यह सब भी लाइव डीजे का हिस्सा बन गए हैं। अब आस पड़ोस की महिलाएं, रिश्तेदार आदि न महिला संगीत में गाने गाते दिखते हैं और न ही सम्पन्न परिवारों का वह हिस्सा बन पाते हैं। वैवाहिक आयोजनों की चकाचौंध में पारम्परिक रीति-रिवाज सिमटते जा रहे हैं।

अनुभव से निखरती है दुल्हन की सुंदरता
हर ब्यूटीशियन अपना बेस्ट देती है। अनुभव जितना अधिक होता है दुल्हन का शृंगार भी उतना ही अधिक निखरता है। मैं 5 से 10 हजार रुपए तक दुल्हन शृंगार के लेती हूं।
- पूजा सोनी, ब्यूटीशियन
शादियों का बदल रहा ट्रेंड
वैवाहिक आयोजनों में अब दुल्हा-दुल्हन पक्ष भव्यता को अधिक पसंद करने लगे हैं। महिला संगीत का स्थान अब लाइव डीजे ने ले लिया है। इसके लिए 3 से 15 लाख रुपए तक लोग खर्च कर रहे हैं।
- लक्की पंजवानी, नारायण साउंड एंड डेकोरेशन
शादी की सम्पूर्ण जिम्मेदारी लेते हैं
वैवाहिक आयोजन की सफलता के लिए हम पूरी तरह प्रतिबद्ध रहते हैं। गणपति पूजन से लेकर अंतिम कार्य तक की जिम्मेदारी हम लेते हैं। ग्राहक की खुशी और संतुष्टि ही हमारा महनताना होता है। 7 से 20 लाख तक के आयोजन करवा चुका हूं।
- सेंटी चौहान, वैडिंग प्लानर
बेहतर आयोजन कराना मेरा दायित्व
वैवाहिक आयोजनों को भव्यता प्रदान करने का काम मैं करता हूं। शादी समारोह को बजट अनुसार बेहतर से बेहतर कैसे किया जा सकता है यह काम मैं करता हूं। एक लाख से 12 लाख तक आयोजन करवा चुका हूं।
- पृथ्वीराज चौहान, इवेंट मैनेजमेंट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.