वाणिज्य कर विभाग की टीम ने शुरू की बसों पर कार्रवाई, सबकुछ मिला ठीक ठाक

वाणिज्य कर विभाग की टीम ने शुरू की बसों पर कार्रवाई, सबकुछ मिला ठीक ठाक

नीमच। वाणिज्य कर विभाग की टीम ने शनिवार सुबह से ही बसों की चैकिंग शुरू करने से बस संचालकों के बीच हडकंप पैदा कर दी। सुबह से शाम तक करीब 10-12 बसों की तलाशी के बाद भी टीम का सबकुछ ठीकठाक मिला। जबकि सबसे अधिक बसे लगैज ढोने के लिए उपयोग में ली जा रही है। मंडी की जींस बसों में दिल्ली तक परिवहन होती है। जिसका टैक्स बचाने के लिए कम माल बिल दर्शाया जाता है। पूर्व में भी कार्रवाई के दौरान काफी गड़बड़ मिली थी। लेकिन शनिवार की कार्रवाई में एक भी बस में टीम का गड़बड़ी नहीं मिली, जो कि उच्चाधिकारियों के लिए भी अचरज की बात है।

एसीटीओ विष्णु बघेरवाल ने बताया कि शनिवार सुबह से बसों में टैक्स चोरी की सूचना पर जांच शुरू की गई थी। बस स्टेंड व मंडी के पास लगने वाली बसों की जांच की गई। उसके बाद नयागांव पहुंचकर भी टीम ने उधर से आने वाली बसों की जांच की। खासकर अशोक, बालाजी, श्रीगणेश और अभिषेक बस ट्रेवल्स की बसों की करीब 10-12 बसों की जांच की है। इस दौरान उनको सभी माल की बिल्टी बिल पर्याप्त रूप से मिले है। इस कार्रवाई को लेकर सभी अचरज में है।

 

इधर करीब सवा करोड़ टैक्स चोरी का मामला
वस्तु एंव सेवा कर (जीएसटी) विभाग की उज्जैन और रतलाम की संयुक्त टीम ने गत बुधवार को देर रात तक शहर के प्रतिष्ठित पोस्ता व्यापारी बाबू सिंधी की हितांशी ट्रेडिंग कंपनी पर दबिश देकर स्क्रूटनी की कार्रवाई की। जांच उनके घर और गोदाम पर भी हुई। टीम ने कंपनी के मालिक के मौजूद नहीं होने के चलते सभी आवश्यक दस्तावेज जब्त कर उज्जैन साथ ले गई है। वहीं कंपनी के मालिक जयेश कुमार उर्फ बाबू सिंधी को कार्यालय पेश होने का नोटिस भी दिया गया था। उज्जैन वस्तु एवं सेवा कर के सुप्रीडेंट आशीष शर्मा ने बताया कि राजस्थान में कई प्रतिष्ठानों पर भारी टैक्स चोरी का मामला सामने आया था। उन फर्म से जयेश कुमार ने माल खरीदा था। उसी की जांच को लेकर दबिश दी गई। वहीं अभी तक स्कू ्रटनी कार्रवाई में 1 करोड़ 23 लाख के टैक्स चोरी का मामला सामने आ रहा है।

Virendra Rathod Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned