सूदखोरी के खिलाफ अभियान में मिल रही रोज शिकायतें

- जावद में सूदखोर के चंगुल से छुड़ाकर ६०० ग्राम चांदी दिलवाई पुलिस ने
- नीमच कलेक्टोरेट में अब तक आधा दर्जन शिकायतें प्राप्त

By: harinath dwivedi

Published: 20 Jan 2018, 10:46 PM IST

नीमच. मनासा और बघाना में सूदखोरों के प्रताडऩा के गंभीर प्रकरणों के सामने आने के बाद जिले में प्रशासन और पुलिस द्वारा सूदखोरी से मुक्ति के अभियान प्रारंभ कर दिए गए हैं। जावद में पुलिस की मध्यस्तता से एक पीडि़त को सूदखोर के चंगुल से ६०० ग्राम चांदी लेकर लौटाई गई है। इसी तरह मनासा में एक मामले की शिकायत की जांच चल रही है जबकि नीमच कलेक्टोरेट में तीन दिनों में लगभग आधा दर्जन शिकायतें सूदखोरों के खिलाफ प्राप्त हो चुकी हैं। इन शिकायतों की जांच की जा रही है। मनासा में किसान विनोद पाटीदार ने सूदखोरों से तंग आकर आत्महत्या कर ली थी, जबकि नीमच के बघाना में अवैध ब्याज वसूली से परेशान युवक चेतन शर्मा ने आत्महत्या का प्रयास किया था। इन घटनाओं के बाद प्रशासन और पुलिस ने ऑपरेशन मुक्ति को प्रभावी ढंग से लागू किया गया है।
ब्याज की वसूली के साथ रख ली थी रकम-
ग्राम कुंडला के निवासी खाकरमल पिता मांगू जी व पुत्र कैलाश व्दारा चांदी की सट वजनी 600 ग्राम गिरवी रखी थी, बदले में केवल १० हजार रुपए लिए थे। जबकि वसूली ५० हजार की जा रही थी। गाली गलोच व धमकियां भी दी जा रही थी। इस संबंध में आवेदन जावद ािाने पर दिया गया था।
मुक्ति अभियान के सहायक नोडल अधिकारी व टीआई संजय हिंडोलिया द्वारा आवदेन की जांच की। अनावेदक चौथमल से चर्चा की तो उसके भाई कारूलाल पिता जयराम निवासी मेडकी व्दारा 10 हजार रुपए नगद देना बताया। आवेदक के पुत्र कैलाश से जब पूछताछ की गई तो उसने १० हजा रुपए नकद लेना स्वीकार किया। साहूकार कारूलाल को उसका मूलधन वापस देकर खाकरमल व उसके पुत्र को उसकी चांदी की रकम वापस दिलाई गई।
कलेक्टोरेट में मिली ६ शिकायतें-
इधर कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रमसिंह द्वारा बुधवार को जिले के प्रत्येक राजस्व कार्यालय में सूदखोरी संबंधी शिकायतों के लिए लेटर बॉक्स लगवाने के निर्देश दिए गए थे। बॉक्स लगते ही सूदखोरों के खिलाफ शिकायतों की शुरूआत हो गई है। जिला मुख्याल पर लगे बॉक्स में अब तक ६ शिकायतें प्राप्त हो चुकी हैं। इन शिकायतों की जांच भी प्रारंभ कर दी गई है। जांच के आधार पर दोनो मामलों में कार्रवाई की जाएगी। तीन दिन पूर्व चुकनी गांव की एक महिला द्वारा एसडीएम कार्यालय में तीन सूदखोरों के खिलाफ शिकायत की गई है। इस मामले की भी जांच एसडीएम वंदना मेहरा के निर्देशन में की जा रही है। दोनो पक्षों के बयान इसमें लिए जाएंगे।
ओंकारेश्वर में दबिश दी लेकिन नहीं मिले आरोपी-
मनासा में किसान विनोद पाटीदार द्वारा सूदखोरों से तंग आकर आत्महत्या कर लेने के मामले में जिन पांच लोगों पर प्रकरण दर्ज किया गया है उनकी तलाश में पुलिस अब तक ९ स्थानों पर दबिश दे चुकी है। जबकि आरोपियों के मनासा क्षेत्र के सभी पतों पर दिन रात तलाश की जा रही है। हाल ही में पुलिस को दो आरोपियों के ओंकारेश्वर में होने की सूचना मिली थी, लेकिन पुलिस पहुंचती इसके पहले ही आरोपी फरार हो गए। जबकि अन्य आरोपियों की खोजबीन कोटा , मंदसौर जिले के नाहरगढ़ सहित अन्य स्थानों पर की जा चुकी है। इस बीच पता चला है कि आरोपियों की ओर से अग्रिम जमानत के लिए आवेदन न्यायालय में लगाए गए थे, हालांकि जमानत नहीं हुई है।
-
कलेक्टोरेट कार्यालय में लगे बॉक्स में जो शिकायतें प्राप्त हुई हैं, उनकी जांच करवाई जा रही है। नोडल अधिकारियों द्वारा जांच कर प्रतिवेदन कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा। जांच में आए तथ्यों के आधार पर कार्रवाई होगी। - पीएल देवड़ा, डिप्टी कलेक्टर नीमच
-
अल्हेड़ गांव में युवक द्वारा सूदखोरों से प्रताडि़त होकर आत्महत्या करने के मामले में ५ लोगों पर प्रकरण दर्ज किया गया है। आरोपियों की तलाश में कई स्थानों पर दबिश दी लेकिन वे फरार हैं। जल्द गिरफ्तारी की कोशिश की जा रह है, अलग-अलग टीमें लगाई हैं। - एलएस परमार, टीआई थाना मनासा

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned