घर घर जाकर परिणाम सुधारने की हो रही कवायद

प्रतिदिन करीब एक दर्जन छात्राओं के निवास पहुंच रहे शिक्षक
मिशन 1000 के तहत शत प्रतिशत लक्ष्य होसिल करने हो रहा प्रयास

नीमच. शासन ने जिले के 12 स्कूलों का मिशन 1000 के तहत चयन किया है। जिले के तीनों विकासखंडों से 4-4 स्कूलों का चयन इसके तहत किया गया है। कक्षा 10वीं और 12वीं में शत-प्रतिशत परीक्षा परिणाम लाने के लिए ही स्कूलों का चयन किया गया है। लक्ष्य हासिल करने के लिए इन स्कूलों के शिक्षक अब बच्चों के घर पहुंचकर उनका उत्साहवर्धन कर रहे हैं।
मम्मियों को किया जा रहा प्रेरित
दिनभर घर में मम्मी ही सबसे अधिक अपने बच्चों के साथ रहती हैं। वे बच्चों की दिनभर की गतिविधि के बारे में अच्छी तरह से जानती और समझती भी हैं। पढ़ाई में बच्चों को क्या परेशानी आ रही है इस बारे में वे जानती भी हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए मिशन 1000 के तहत चयनित स्कूल के शिक्षक प्रतिदिन बच्चों के घर पहुंचकर उनकी मम्मी से ही सीधे संवाद स्थापित कर रहे हैं। माता यदि कम पढ़ी लिखी हैं तो उन्हें बच्चे की पढ़ाई के प्रति रुचि कैसे बढ़ाई जाए इसकी टिप्स दी जा रही है। बच्चा पढ़ाई करते समय अकेलापन महसूस कर रहा हो तो उसके पास बैठकर उसका उत्साहवर्धन करने के लिए माता को प्रेरित किया जा रहा है। शिक्षक बच्चों के घर पहुंच रहे हैं तो परिजन भी उनकी बातों को गंभीरता से समझ रहे हैं। कमजोर बच्चों का उत्साहवर्धन करने में परिजन शिक्षकों का सहयोग कर रहे हैं।
वाट्सएप के माध्यम से दूर कर रहे समस्या
शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जावद में जिले में सबसे अधिक छात्राओं की संख्या है। इस स्कूल में कक्षा दसवीं में 104 और 12वीं में 160 छात्राएं हैं। मिशन 1000 में 100 प्रतिशत परीक्षा परिणाम लाने के लिए शिक्षक बच्चों के घर तो जा ही रहे हैं। बच्चों की समस्याओं के समाधान के लिए एक वाट्सएप गु्रप भी बनाया गया है। इस गु्रप में स्कूल के शिक्षक और कक्षा की छात्राएं जुड़ी हैं। छात्राएं अपने विषय से संबंधित समस्या को ग्रुप में डालती हैं। संबंधित शिक्षक गु्रप में ही उसका समाधान भी उपलब्ध कराते हैं। इससे भी बच्चों को परिणाम बेहतर बनाने में लाभ हो रहा है।
प्रतिदिन घर पहुंच रहे शिक्षक
शासन ने मिशन 1000 के तहत जिले के १२ स्कूलों का चयन किया है। इसके तहत हमारे स्कूल का शत प्रतिशत परीक्षा परिणाम लाने के लिए घर घर शिक्षक पहुंच रहे हैं। प्रतिदिन औसत 10 से 12 छात्राओं के घर शिक्षक जाकर उन्हें बेहतर परीक्षा परिणाम लाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।
- मुकेश जैन, प्राचार्य शाकउमावि जावद

Mukesh Sharaiya Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned