चुनाव प्रचार सोशल मीडिया पर प्रभावी

चुनाव प्रचार सोशल मीडिया पर प्रभावी

By: Virendra Rathod

Published: 15 Nov 2018, 10:32 PM IST

नीमच। विधानसभा 2018 में नीमच जिले की सभी तीन विधानसभा सीटों पर पार्टियां सोशल मीडिया को प्रचार का प्रमुख साधन बना लिया है। इसके लिए जिले में दोनों प्रमुख दल कांग्रेस-भाजपा वाट्सएप, फेसबुक, ट्यूटर व इंस्टाग्राम में फॉलोअर्स बढ़ाने के लिए नई नियुक्तियां तक कर दी है। दोनों ही पार्टियों के आईटीसेल के पदाधिकारी सोशल मीडिया के युजर्स से जुडऩे के लिए रणनीति बनाई है। शहर में आईटी सेल के 500 व्यक्ति व 60 हजार से अधिक फॉलोअर्स हैं। कांग्रेस ने दावा किया है, उनके 90 पदाधिकारी हैं। पार्टी के 75 हजार से अधिक फ ॉलोअर्स हैं। दोनों पार्टियों के वाट्सएप ग्रुप व संगठन की नियुक्तियां की है।

 

भाजपा बूथ लेवल पर वाट्सएप ग्रुप बनाया

भाजपा आईटी सेल के प्रभारी रवि ओझा ने बताया आईटी सेल व सोशल मीडिया के लिए हमने ३ सहसंयोजक 1-1 मीडिया सह मीडिया प्रभारी, मंडल अध्यक्ष, सभी मंडलों में 15-5 लोगों की कार्यकारिणी बनाई है। इनका साथ देने के लिए 500 युवाओं की टीम तैयार की है। सीएम की योजनाओं के प्रचार-प्रसार के साथ ही लोगों से नमो एप डाउनलोड करवा रहे हैं।

 

कांग्रेस ने समस्याओं के वीडियो बनाकर कर रहे शेयर

कांग्रेस जिलाध्यक्ष आईटी सेल प्रभारी राहुल पाटीदार ने बताया पार्टी के पदाधिकारियों को समन्वयक का कार्य सौंपा गया है। अब ब्लॉक अध्यक्ष, मंडलम और जिला पदाधिकारी को सक्रिय कर आमजन को समस्या से सोशल साइटस के माध्यम से अवगत कराया जा रहा है। आईटी सेल के सदस्य स्थानीय लोगों की समस्याओं का वीडियो बनाकर पब्लिक के बीच इसे शेयर कर रहे हैं। ट्यूटर यूथ कांग्रेस हैंडल कर रही है। स्थानीय मुद्दों पर फोकस करने वाट्सएप, फेसबुक चलाने की ट्रेनिंग दे रहे हैं। हर बूथ पर 10 पदाधिकारी बनाएंगे।

 

सोशल मीडिया की गतिविधियां जुड़ेगी चुनाव व्यय में

जनसंपर्क अधिकारी जगदीश मालवीय ने बताया सोशल मीडिया की निगरानी के लिए एमसीएमसी कमेटी बनाई है। प्रत्याशी को नामांकन फार्म में ही भरना होगी कि वह किस नाम से ट्यूटर, फेसबुक अकाउंट संचालित कर रहा है। उनके अकाउंट से कौन.सी पोस्ट डाली गई है। यू-ट्यूब चेनल है तो उसमें क्या दिखाया जा रहा है। इस पर निगरानी रखने के लिए 20 कर्मचारियों की टीम तैयार की है। शेयर पोस्ट संबंधी तय मापदंड में खर्च प्रत्याशी के चुनाव व्यय में जोड़ेंगे।

 

आदर्श आचार संहिता एवं व्यय निगरानी कंट्रोल रूम बनाया

विधानसभा निर्वाचन 2018 में आदर्श आचार संहिता एवं व्यय निगरानी के लिए जिला पंचायत कार्यालय के हॉल में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कोई भी नागरिक आचार संहिता के उल्लंघन और व्यय से संबंधित शिकायत या जानकारी दे सकता है।

- कमलेश भार्गव, सीईओ जिला पंचायत नीमच।

 

 

Virendra Rathod Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned