हड़ताल थमते ही जिले की सोसायटियों में अन्नदाताओं की कतार


-जिले में १९ केंद्रों पर समर्थन मूल्य पर खरीदा जाएगा गेहूं
-१५ मार्च से प्रारंभ होगी खरीदी, सत्यापन का भी सोमवार को रहा अंतिम दिन

By: harinath dwivedi

Published: 13 Mar 2018, 04:35 PM IST

नीमच. प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था महासंघ की हड़ताल १८ दिन बाद थमते ही सोमवार से जिले की सोसायटियों में अन्नदाताओं की कतारें लगना शुरू हो गई। कोई भावांतर भुगतान योजना के तहत अपना पंजीयन करवा रहा था, तो कोई समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए करवाए गए पंजीयन का सत्यापन कराने में जुटा था। क्योंकि मात्र दो दिन बाद ही समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी प्रारंभ हो जाएगी।
बतादें की विभिन्न मांगों के चलते प्राथमिक कृषि साख सेवा सहकारी समिति की अनिश्चितकालीन हड़ताल चल रही थी। जिसके चलते कुछ अन्नदाता भावांतर भुगतान योजना के तहत पंजीयन कराने तो कुछ समर्थन मूल्य पर गेहूं का पंजीयन कराने की बाट जोह रहे थे। लेकिन हड़ताल के चलते सभी बेबस थे, ऐसे में जैसे ही हड़ताल समाप्त होकर सोमवार को सोसायटियों के ताले खुले अन्नदाता तुरंत पहुंचे और अपने अपने काम कराने जुट गए। वैसे तो इस बार समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए करीब १३ हजार ६९३ किसानों के पंजीयन हुए थे, लेकिन हड़ताल के चलते सत्यापन का आंकड़ा १० हजार के करीब ही हो पाया था, ऐसे में हड़ताल के कारण शेष किसानों के सत्यापन में काफी दिक्कतें आई। लेकिन सत्यापन की तिथि १२ मार्च किए जाने से शेष किसानों में से अधिकतर ने सोमवार को सोयायटी खुलते ही सत्यापन भी करवाए, लेकिन फिर भी काफी किसान शेष रह गए हैं।
इन १९ केंद्रों पर होगी गेहूं की खरीदी
जिले में १५ मार्च से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी सेवा सहकारी समिति नीमच सिटी, सेवा सहकारी समिति बघाना, सेवा सहकारी समिति जीरन, विपणन सहकारी समिति जावद, सेवा सहकारी समिति बावल-जावद, सेवा सहकारी समिति शहनातलाई-सिंगोली, सेवा सहकारी समिति रतनगढ़-सिंगोली, सेवा सहकारी समिति मोरवन-जावद, सेवा सहकारी समिति मनासा, सेवा सहकारी समिति कंजार्डा-मनासा, सेवा सहकारी समिति रामपुरा-मनासा, विपणन सहाकारी समिति नीमच, सेवा सहकारी समिति जवासा-नीमच, सेवा सहकारी समिति सरवानिया महाराज, विपणन समिति मनासा, सेवा सहकारी समिति कुकड़ेश्वर, सेवा सहकारी समिति महागढ़, प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था कुंडला देथला, प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था मार्या सिंगोली में की जाएगी।
वर्जन.
हड़ताल समाप्त होते ही भावांतर भुगतान योजना के तहत पंजीयन का कार्य शुरू हो गया है। वहीं समर्थन मूल्य पर गेहूं पंजीयन के सत्यापन की तिथि भी १२ मार्च को अंतिम होने के कारण काफी संख्या में सत्यापन हुए हैं। हालांकि जिन किसानों का सत्यापन नहीं हो पाया है, उनके लिए शासन को पत्र लिखा जाएगा। भावांतर भुगतान योजना के तहत किसान २४ मार्च तक पंजीयन करा सकते हैं। वहीं १५ मार्च से समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी प्रारंभ हो जाएगी।
-पीएल नागदा, प्रबंधक, मप्र स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पो.
------------

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned