घर से स्कूल का सफर जोखिम भरा

घर से स्कूल का सफर जोखिम भरा

By: Virendra Rathod

Published: 18 Feb 2020, 06:12 AM IST

नीमच। एक तरफ तो सरकार व शिक्षा विभाग विभिन्न योजनाएं संचालित कर छात्र-छात्राओं को लाभान्वित करने का प्रयास कर रही है तो दूसरी ओर स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा भगवान भरोसे ही चल रही है। जिले के कई सरकारी व निजी स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के इंतजाम नहीं है। वहीं स्कू ल आने वाले ऑटो बच्चों को भेड़-बकरी की तरह लाद कर जान जोखिम में डालकर स्कू ल लाते हैं।

घर से स्कूल का सफर जोखिम भरा

नहीं लगे सीसीटीवी कैमरे
जिले के नामी स्कूलों में तो सीसीटीवी कैमरे हैं, लेकिन कैमरे बंद होने से बच्चों की सुरक्षा नहीं हो पा रही है। इसी तरह छोटे स्तरीय स्कूलों में तो सीसीटीवी कैमरे तक नहीं है, जबकि सुरक्षा के लिए सीसीटीवी स्कूल के सभी गेट व जगह पर जरूरी है। इन नामी स्कूलों में पुलिस भी विद्यार्थियों की सुरक्षा व्यवस्था का निरीक्षण नहीं करती है। कोई घटना होने के बाद पुलिस स्कूलों में सुरक्षा उपकरणों व व्यवस्थाओं को देखती है।

सुरक्षा प्रबंधों में कमी
जिलेभर के ज्यादातर स्कूलों में छात्रों की सुरक्षा का इंतजाम संतोषजनक नहीं है। हर स्कूल में एक सुरक्षित स्थान का होनाए खेल के मैदान में चिकित्सक और चोट लगने पर इलाज की व्यवस्था अनिवार्य है। इसी तरह बिजली से सुरक्षा की व्यवस्था भी होनी ही चाहिए। चाहे प्राइवेट हों या सरकारी, दोनों ही स्कूलों में सुरक्षा के तय मानकों के प्रति उदासीनता देखी जाती है।

ऑटो चालकों की दादागिरी
यातायात नियमों के चलते प्रावधान है कि एक ऑटो में तीन सवारी और स्कू ली बच्चे अधिक से अधिक पांच या छह बैठा सकते है। लेकिन नियमों का कहीं पालन नहीं हो रहा है। ऑटो चालक मनमर्जी मुताबिक एक ऑटो में १० से १५ बच्चों को भरकर लेकर जा रहें हैं। ऑटो में अंदर पटिया लगा रखा है और पीछे लगेज पर भी पटिया लगाकर भेड़-बकरी की तरह भर लेते है। वहीं इतना भी नहीं चलता है तो ऑटो चालक अपनी सीट के आस-पास दोनों तरफ भी बच्चांें को बिठा लेते है। जिससे उनके पैर लटके बाहर जाते है। उसके बाद बच्चे के बस्तों को भी साइड में काफी टांग दिया जाता है। जिससे पास से गुजर रहे वाहन से टकराने का खतरा बना रहता है।

संस्था प्रधानों को देंगे निर्देश
जिले में कम्प्यूटरीकृत स्कूलों में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। स्कूलों में विद्यार्थियों की सुरक्षा के लिए संस्था प्रधानों को निर्देश दिए जाएंगे।
केएल बामनिया, प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी नीमच।

अभियान चलाकर करेंगे कार्रवाई
यातायात पुलिस बच्चों के लेकर संवेदनशील है, लगातार अधिक सवारी भरने वाले ऑटो चालकों पर कार्रवाई की जाती है। फिर अभियान चलाकर लगातार इन पर कार्रवाई की जाएगी। वहीं शालाओं प्रधान को भी निर्देशित किया जाएगा।
- राम सिंह राठौर, थाना प्रभारी यातायात थाना नीमच।

Virendra Rathod Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned