आचार संहिता लगते ही यहां हो रही नेताओं की गिरफ्तारियां

आचार संहिता लगते ही यहां हो रही नेताओं की गिरफ्तारियां

harinath dwivedi | Publish: Oct, 13 2018 10:44:38 PM (IST) Neemuch, Madhya Pradesh, India

- विवाद में थे कांग्रेस और भाजपा के नेता शामिल
- पुलिस से किया था आमना सामना

नीमच. आचार संहिता लगते ही कई प्रकरणों में फरार आरोपियों की शामत आ गई है। अब पुलिस के हाथों नेता भी नहीं बच रहे हैं। चार वर्ष पूर्व हुए बड़े विवाद में आरोपी बने कांग्रेस और भाजपा नेताओं की अब दनादन गिरफ्तारियां हो रही हैं। पहले तो उन्हें प्रकरण की परवाह तक नहीं थी, अब कई खुद भी सरेंडर हो रहे हैं।
गौरतलब है कि नवंबर २०१५ में ठिकरिया बांध (शिवाजी सागर जलाशय) के गेट सिंचाई विभाग द्वारा खोल दिए गए थे। इस पर बांध के किनारे बसे गावों के लोगों ने विरोध किया था। बांध का पानी खाली होने से क्षेत्र के किसानों ने अपनी फसलें सूखने की चिंता जताई थी। जबकि यहां से छोड़ा गया पानी मंदसौर जिले के और मनासा क्षेत्र के गावों तक पहुंच रहा था। सिंचाई विभाग, प्रशासन और ग्रामीणों के बीच तनाव की स्थिति निर्मित हो गई थी। उधर उच्च निर्देशों पर सिंचाई विभाग को बांध के और गेट खोलने थे तो इधर ग्रामीणों का आक्रोश बढ़ता जा रहा था। ऐसे में प्रशासन के अधिकारियों के साथ भारी पुलिस बल ठिकरिया बांध पर तैनात कर दिया गया। लेकिन आक्रोशित ग्रामीणों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। हालात यह बने कि पथराव शुरू हो गया, ऐसे में पुलिस को टियर गैस फायरिंग करना पड़ी, लाठीचार्ज भी हुआ। इस विवाद में पुलिसकर्मी और ग्रामीण भी घायल हुए थे। विरोध के चलते ठिकरिया बांध पर करीब ६ दिनों तक पुलिस बल तैनात रखा गया।
कांग्रेस और भाजपा के लोगों पर दर्ज हुए मुकदमे-
इस विवाद के दौरान भाजपा, कांग्रेस के नेता भी ग्रामीणों के समर्थन में आ गए थे। इस स्थिति में पुलिस ने लगभग १७ लोगों पर नामजद और अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया था। जिनमें कांग्रेस भाजपा के नेता और कार्यकर्ता भी शामिल थे। इस मामले में दिसंबर २०१५ में विधायक दिलीपसिंह परिहार ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को पूरे मामले की जानकारी देकर प्रकरण वापसी की मांग की थी। तब मुख्यमंत्री ने प्रकरण वापस लेने का आश्वासन दिया था। हालांकि इसमें गिरफ्तारी के बाद प्रकरण के खात्मे की एक प्रक्रिया है। लेकिन तब से लेकर अब तक गई बार गावों में पुलिस पहुंची लेकिन किसी की न तो गिरफ्तारी हो सकी और न ही किसी ने सरेंडर कर जमानत लेने की जहमत उठाई। अब जब आचार संहिता लग गई है तो उस प्रकरण के आरोपियों के नाम भी फरार आरोपियों की सूची में आ चुके हैं। ऐसे में अब बिना पुलिस के ज्यादा दबाव के भी आरोपियों की गिरफ्तारी शुरू हो गई है।
इनकी हुई गिरफ्तारी-
शुक्रवार को पुलिस ने नंदलाल राठौर को गिरफ्तार किया था। जबकि शनिवार को पुखराजसिंह, जगदीश पाटीदार, सूरजमल, सत्यनारायण, मांगीलाल की गिरफ्तारी ली गई। सभी आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हें जमानत दे दी गई है। शेष आरोपियों में कांग्रेस नेता उमरावसिंह गुर्जर, तरूण बाहेती सहित भाजपा के नेता और दोनो से जुड़े कार्यकर्ता भी शामिल है। सिटी टीआई संदीपसिंह तौमर ने बताया कि शेष आरोपियों की भी जल्द गिरफ्तारी होगी।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned