एक साल में चालीस शराबियों के कराए लाइसेंस निरस्त

एक साल में चालीस शराबियों के कराए लाइसेंस निरस्त

By: Virendra Rathod

Updated: 03 Jan 2020, 12:32 PM IST

नीमच। जिले में सड़क हादसों में मौतों का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है, जहां गत वर्ष में 87 मौत सड़क हादसे में हुई है। वहीं वर्ष 2019 में 30 नवंबर तक सड़क हादसों में 75 लोग जवान गवां चुके हैं। हादसों में अधिकांश मौत बाइक पर सवार होने वालों की होना सामने आई है। जिसमें मुख्य कारण शराब पीकर वाहन चलाना और हेलमेट न होना है। सोशल पुलिसिंग और बीमा के चलते शराब पीकर वाहन चलाने की बात पुलिस उजागर नहीं करती है।

यातायात थाना प्रभारी राम सिंह राठौर ने बताया कि हादसों में सबसे अधिक जान हैड इंजरी के कारण होती है। जिसमें पाया गया है कि 80 फीसदी बाइक चालक के सिर पर हेलमेट नहीं होता है और वह अकाल मौत का शिकार होता है। सबसे अधिक मौत हाइवे पर ही होती है। जिनमें सामने आता है कि बाइक चालक ने हेलमेट नहीं पहना था और शराब के नशे में होने के चलते दुर्घटना होना भी सबसे बड़ा कारण है। दोनों वाहनों में से एक का ड्रिङ्क्षकग ड्राइविंग करते पाया जाना होना अधिकांशत: सामने आता है। पुलिस ने वाहन चैकिंग के दौरान गत वर्ष में करीब 60 ड्रिकिंग ड्राइविंग के चालान बनाए है। जिनमें करीब 40 के आरटीओ से अनुशंषा कर लाइसेंस निरस्त करने की कार्रवाई की है।

तीन वर्ष साल में हादसों का ग्राफ
वर्ष................दुर्घटना...............घायल...............मौत
2017...............461................564..................94
2018...............3६७................470..................८७
२०१९---------३४५----------३६१----------७५

Virendra Rathod Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned