'दारू' में ट्रैप हुआ रिश्वतखोर, लोकायुक्त ने पटवारी को रंगेहाथों पकड़ा

जमीन नामांतरण और पावती बनाने के एवज में मांगी थी 40 हजार रुपए की रिश्वत..

By: Shailendra Sharma

Updated: 14 Jul 2021, 05:04 PM IST

नीमच. मध्यप्रदेश में रिश्वतखोर अधिकारी कर्मचारी के पकड़ाने का सिलसिला लगातार जारी है। बुधवार को नीमच जिले के दारू गांव में उज्जैन लोकायुक्त की पुलिस ने एक पटवारी को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। पटवारी का नाम संतोष शर्मा है जिसने एक किसान से जमीन के नामांतरण और पावती बनाने के नाम पर 40 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। जैसे ही किसान रिश्वत के 10 हजार रुपए लेकर पटवारी के घर पहुंचा तो लोकायुक्त ने टीम ने पटवारी को रिश्वत लेते रंगेहाथों धरदबोचा।

ये भी पढ़ें- हाथ में कुल्हाड़ी लेकर 2 घंटे तक गांव में घूमता रहा कातिल, घरों में कैद रहे लोग

neemuch_2.jpg

शिकंजे में एक और रिश्वतखोर
बुधवार को उज्जैन लोकायुक्त टीम ने नीमच जिले के ग्राम दारू में जमीन के नामांतरण और पावती बनाने के नाम पर पटवारी को 10 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। जानकारी के अनुसार आवेदक पुरूषोत्तम पाटीदार निवासी दारू गांव को अपनी 14 आरी की भूमि का नामांतरण करवाना था, और उसके बाद पावती बनना थी। जब पुरूषोत्तम पाटीदार ने ग्राम दारू के हल्का नंबर- 2 के पटवारी संतोष शर्मा से मुलाकात की, और उनसे जमीन के नामांतरण कराने की बात कही। इस पर पटवारी संतोष शर्मा ने नामांतरण सहित अन्य कार्यो के बदले में कुल 40 हजार रूपये की मांग की। जिसकी पहली किश्त लेकर पाटीदार ने आवेदक को बुलाया था। लेकिन आवेदन के पास महज 10 हजार रूपयों की व्यवस्था थी। जिस पर आवेदक ग्राम दारू में ही मौजूद पटवारी के निवास पर रूपये लेकर पहुंचा। इसी दौरान लोकायुक्त की टीम ने
छापामार कार्रवाई की, और पटवारी संतोष शर्मा को रिश्वत लेते रंगो हाथों गिफ्तार किया।टीम द्वारा अब प्रकरण तैयार कर आगे की जांच शुरू की जाएगी। बताया जा रहा है कि आवेदक द्वारा उक्त मामले की शिकायत पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त शैलेंद्र सिंह चौहान को की थी जिस पर पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त द्वारा निरीक्षक राजेंद्र वर्मा के निर्देशन में टीम को कार्रवाई हेतु भेजा था।

देखें वीडियो- 50 साल बाद एक ही झटके में करोड़पति बन गया मजदूर

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned