सब्जियां भरपूर लेकिन खरीददारों का टोटा

- दो दिनों में हो सकते हैं हालात गड़बड़
- मंडी से खरीदकर गावों में ले जाने वाले फुटकर विक्रेता नहीं आ रहे

By: harinath dwivedi

Published: 04 Jun 2018, 02:11 PM IST

नीमच. किसान आंदोलन का असर सब्जी मंडी पर साफ दिखाई दे रहा है। वजह यह नहीं है कि किसानों ने मंडी में सब्जी लाना बंद कर दिया है, वजह यह है कि पर्याप्त सब्जी के खरीददारों की संख्या दिनोदिन घट रही है। राजस्थान से सब्जियों की आवक कम हो गई है, स्थानीय उत्पादक आपूर्ति भरपूर कर रहे हैं।
७ लाख रुपए प्रतिदिन का कारोबार सिमट गया ३-४ लाख पर-
जिले की सबसे बड़ी मंडी नीमच ही है। इस मंडी में थोक सब्जी आती है और यहां से फुटकर व्यापारी जिले के कई गावों में सब्जियां ले जाते हैं। सीजन के समय यहां प्रतिदिन ५ से ७ लाख रुपए का कारोबार होता है। थोक व्यापारियों की संख्या करीब २० है जबकि फुटकर सब्जी बेचने वाले यहां पर ४५० से अधिक हैं। इनमें कई ऐसे फुटकर विक्रेता हैं जो आसपास के गावों में भी यहां से सब्जियां बेचने के लिए ले जाते हैं। लेकिन किसान आंदोलन के कारण फुटकर व्यापारी मंडी में आ ही नहीं रहे हैं, स्थानीय ग्राहकों की तादाद भी दो दिनों में घटी है। जानकारों की मानें तो रोजाना की तुलना में सब्जी मंडी का कारोबार इस समय ४० प्रतिशत घट गया है। जबकि सब्जी के भावों में भी कोई बढ़ोतरी नहीं है।
नहीं आया जयपुर क्षेत्र का माल-
आंदोलन के पहले दिन राजस्थान से थोक में आने वाली सब्जियों की गाडिय़ां नीमच मंडी में पहुंची थी। लेकिन दूसरे दिन से यहां राजस्थान का माल आना बंद हो गया है। नीमच मंडी में राजस्थान के जयपुर, चौमू, भीलवाड़ा, विजयनगर, चित्तौडग़ढ़ आदि क्षेत्रों से भारी तादाद में सब्जियां आती हैं। सीजन में यहां पर १० पिकअप भरकर सब्जियां आती थी, रविवार को केवल ४ गाड़ी माल यहां आया। इसके बावजूद ग्राहकी नहीं हो रही है।
एसपी ने दिलाया सुरक्षा का भरोसा-
आंदोलन के चलते सब्जी विक्रेताओं को किसी तरह की परेशानी न हो इसके ुलिए पुलिस लगातार हर स्थिति की मॉनिटरिंग कर रही है। रविवार को प्रात: एसपी तुषारकांत विद्यार्थी ने दूध डेयरियों के अलावा सब्जी मंडी का अवलोकन किया। यहां पर सब्जियों की आवक, विक्रय आदि के बारे में विस्तृत जानकारी ली। उन्होने फुटकर और थोक व्यापारियों से विस्तृत चर्चा की। हालांकि इस दौरान सभी विक्रेताओं ने उन्हें बताया कि कहीं पर भी सब्जी के लिए कोई रोकटोक नहीं हो रही है। एसपी ने सब्जी विक्रेताओं को भरोसा दिलाया कि किसी भी प्रकार की परेशानी होने पर तत्काल पुलिस को सूचना दें। आधी रात में भी मदद की जाएगी।

- राजस्थान के जयपुर, चौमू क्षेत्र में हड़ताल के कारण वहां की सब्जियां नहीं आ रही हैं। हालांकि स्थानीय उत्पादकों की सब्जियां मंडी में पहुंच रही है, जिससे पर्याप्त आपूर्ति हो सकती है। लेकिन दिनोंदिन ग्राहक घट रहे हैं। जो फुटकर व्यापारी यहां से सब्जियां खरीदकर गावों में ले जाते थे वे नहीं आ रहे हैं। शहर के ग्राहक भी कम आ रहे हैं। स्टॉक बढ़ता जा रहा है, हाल यही रहा तो एक दो दिनों में सब्जियां खराब होने लगेंगी। - तेज सैनी, थोक सब्जी विक्रेता
-
फुटकर में सब्जी बेचने वाले सभी परेशान हो रहे हैं। ग्राहकी आम दिनों की तरह नहीं हो रही है। सब्जियों के दाम भी नहीं बढ़ेे हैं तब भी ग्राहक नहीं आ रहे हैं। कई लोगों ने आंदोलन में गड़बड़ी की आशंका में पहले से ही सब्जियां खरीदकर फ्रीज में स्टॉक कर लिया है। यह भी कम ग्राहकी का कारण हो सकता है। - किशोर माली, फुटकर सब्जी विक्रेता
-
हमने सब्जी, फलों के सभी स्टॉकिस्ट और रिटेलर को सुरक्षित वातावरण देने की कोशिश की है। जिन रास्तों से सब्जियां आती हैं उन रास्तों पर कड़े सुरक्षा इंतजाम किए हैं। कहीं कोई अप्रिय स्थिति अब तक सामने नहीं आई है, आगे भी परेशानी नहीं होने देंगे। ग्रामीण क्षेत्र के फुटकर विक्रेताओं को भी अपना कारोबार आराम से करना चाहिए। कहीं कोई दिक्कत होती है तो पुलिस हर समय तैयार है। - तुषारकांत विद्यार्थी, एसपी नीमच

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned