MP प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही किसानों को पकड़ाया 'झुनझुना'

किसाने लगाए मुख्यमंत्री पर गंभीर आरोप यहां पढ़ें पूरी खबर

By: harinath dwivedi

Published: 18 Dec 2018, 01:05 PM IST

नीमच. नीमच जिले के करीब 65 हजार किसानों ने जिला सहकारी केंद्रीय बैंक से कर्जा लिया है। कर्जा की राशि 341 करोड़ रुपए बनती है। इनमें से 80 फीसदी किसान ऐसे हैं जिन्होंने 2 लाख तक का कर्जा लिया है। इस माने से करीब ५२ हजार किसानों का लगभग 273 करोड़ रुपए का कर्जा माफ होगा। इसमें भी एक पेंच फंसा हुआ है। अब तक यह स्पष्ट नहीं है कि कांगे्रस के वादे अनुसार किन किसानों का कर्जा माफ किया जा रहा है। जिस आदेश में मुख्यमंत्री बनते ही कमलनाथ ने हस्ताक्षर किए हैं इसमें 31 मार्च 2018 की स्थिति में 2 लाख रुपए माफ करने की बात कही है। जबकि अधिकांश किसान इस समयावधि तक अपना कर्जा जमा करा देते हैं। अप्रैल माह में नया कर्ज लेते हैं। भाजपा ने कांगेस की घोषणा को किसानों के साथ किया गया छलावा बताया है।

52 हजार किसानों का होगा 2 लाख तक का कर्जा माफ
जिला सहकारी केंद्रीय बैंक नीमच-मंदसौर के नीमच जिले के क्षेत्रीय अधिकारी आरपी नागदा ने बताया कि नीमच जिले में करीब 65 हजार किसानों ने जिला सहकारी बैंक से कर्जा लिया है। इनमें करीब 52 हजार किसान ऐसे हैं जिन्होंने 2 लाख रुपए तक का ऋण किया है। करीब 13 हजार किसानों ने 2 लाख रुपए से अधिक का कर्जा लिया है। अब तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि कांग्रेस सरकार ने किन किसानों को कर्जा माफ करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में जब तक कोई आदेश नहीं आ जाता तब तक स्थिति स्पष्ट नहीं होगी।

सभी किसानों को होना चाहिए 2 लाख कर्जा माफ
नीमच विधायक दिलीपसिंह परिहार ने कहा कि सत्ता हथियाने के लिए ही कांग्रेस ने किसानों का दो लाख रुपए तक का कर्जा माफ करने की घोषणा की थी। अब किसानों को गुमराह किया जा रहा है। जब कांग्रेस ने दो लाख रुपए तक का कर्जा माफ करने की बात कही थी तो उसे पूरा करना चाहिए। इसमें बीच का रास्ता क्यों निकाला जा रहा है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शपथ ग्रहण के बाद किसानों के ऋण माफी के जिस प्रमाण पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं इससे यह प्रमाणित होता है कि कांग्रेस सभी किसानों को 2 लाख तक का कर्जा माफ नहीं करना चाहती। जब किसानों ने 28 नवंबर को कांग्रेस के पक्ष में वोट डाला है तो किसानों को नवंबर 18 तक का कर्जा माफ होना चाहिए। अब कांग्रेस अपने वादे से मुकर रही है।

किसानों के साथ कांग्रेस ने किया छलावा
मंदसौर में राहुल गांधी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही 10 दिनों में किसानों का 2 लाख रुपए तक का कर्जा माफ कर दिया जाएगा। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी अब कांग्रेस को किसानों का 2 लाख रुपए तक का कर्जा माफ करना चाहिए। इसमें किन्तु, परन्तु वाली बात कहा से आ गई। आज जो प्रमाण पत्र जारी किया गया है इसमें 31 मार्च 2018 तक का कर्जा माफ करने की बात कही है। इस समयावधि तक तो अधिकांश किसान अपना कर्जा जमा करा देते हैं। अप्रैल में फिर से कर्जा लेते हैं। प्रमाण पत्र के अनुसार तो जिन किसानों को ओवरड्यू है उनका ही कर्जा माफ किया जाना प्रमाणित हो रहा है। इससे तो ऐसा प्रतीत हो रहा है कि कांग्रेस कर्ज माफी के नाम पर किसानों के साथ छलावा कर रही है। जब कर्ज माफी बात कही थी तो सभी किसानों का 2 लाख तक का कर्जा माफ करना चाहिए। अब किसानों की ग्रेड क्यों बनाई जा रही है।
- मदनलाल राठौर, अध्यक्ष जिला सहकारी केंद्रीय बैंक नीमच-मंदसौर

10 दिन का भी इंतजार नहीं किया
मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के तुरंत बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किसानों के कर्ज माफी के प्रमाण पत्र पर हस्ताक्षर कर किसानों के विश्वास का कायम रखा है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने 10 दिन में कर्ज माफी का वादा किया था। इसे मुख्यमंत्री ने शपथ लेते की पूरा कर दिया। कांग्रेस ने जनता से जो जो वादे किए हैं उसे पूरा करेगी।
- अजीत कांठेड़, कांग्र्रेस जिलाध्यक्ष

केसीसी का ही हो रहा लोन माफ
कांग्रेस ने किसानों की कर्ज माफी की घोषणा तो की है और आज शपथ ग्रहण के साथ प्रमाण पत्र भी जारी किया है। कर्जा केवल किसान के्रडिट कार्ड (केसीसी) का लोन ही माफ किया जा रहा है। अन्य किसी किसान को इसका लाभ नहीं मिलेगा। अब सरकार ने किस आधार पर किसानों का कर्जा माफ करने का निर्णय लिया है इस संबंध में जब तक कोई आदेश प्राप्त नहीं होता है कुछ कहना जल्दबाजी होगी।
- एसके चतुर्वेदी, लीड बैंक मैनेजर

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned