अंतिम संस्कार की प्रक्रिया से परे होकर किया देहदान

अंतिम संस्कार की प्रक्रिया से परे होकर किया देहदान

harinath dwivedi | Publish: Jul, 13 2018 12:29:11 PM (IST) Neemuch, Madhya Pradesh, India

महिलाएं भी आगे आ रही हैं देहदान करने
लायंस क्लब के माध्यम से अब तक 26 देहदान हुए
पारसी समाज की बुजुर्ग महिला ने भी की देहदान की घोषणा

नीमच. पुरूष प्रधान समाज में महिलाओं को जिस दृष्टिकोण से देखा जाता है यह सर्वविदित है। अब इन धारणाओं को धता बताते हुए महिलाओं ने देहदान के क्षेत्र में भी पुरूषों के समतुल्य अपना स्थान बनाने में सफलता प्राप्त की है। अब बड़ी संख्या में महिलाएं देहदान के फार्म भरने आगे आ रही हैं।
पासरी समुदाय की महिला ने की घोषणा
कुछ समुदायों में आज भी रक्तदान और देहदान करना वर्जित है। ऐसे में पारसी समुदाय की बुजुर्ग महिला ने देहदान की घोषणा कर एक अनुकर्णीय पहल की है। लायंस क्लब के पूर्व अध्यक्ष प्रकाश रामनानी ने बताया कि नीमच धीरे धीरे नेत्रदान की नगरी के साथ देहदान की नगरी के रूप में भी चर्चित होता जा रहा है। अब तक कुल 26 लोगों के देहदान लायंस क्लब को प्राप्त हो चुके हैं। सभी देह मेडिकल साईंस में शोध के लिए उदयपुर मेडिकल कॉलेज भिजवाए जा चुके हैं। एक जुलाई 2016 से 30 जून 2017 के सत्र में 9 लोगों की देह क्लब को प्राप्त हुई है। यह एक रिकार्ड है। आज तक किसी भी क्लब को एक ही सत्र में इतनी बड़ी मात्रा में देहदान प्राप्त नहीं हुए है। इसके साथ ही क्लब को अब तक ४४ लोगों ने देहदान के लिए स्वैच्छा से फार्म भरकर दिए हैं। इनमें महिलाओं की संख्या भी है। पारसी समुदाय की करीब 83 साल की सक्रिय समाजसेविका सोनू जॉल भी लायंस क्लब के माध्यम से अपनी देहदान की घोषणा कर चुकी हैं। इस समुदाय की ओर से यह पहला देहदान है। सिंधी समुदाय की ओर से भी करीब ५ महिलाओं ने सामूहिक रूप से स्वैच्छा से देहदान की घोषणा की है। प्रकाश रामनानी ने बताया कि नेत्रदान और देहदान के क्षेत्र में हमारे परिवार का नाम लिम्का बुक में भी दर्ज है। रामनानी परिवार की ओर से अब तक 18 लोगों ने नेत्रदान और दो लोगों देहदान किए हैं। परिवार की ओर से पहले नेत्रदान वर्ष 1987 में डा. जेडी रामनानी का हुआथा। नीमच के प्रसिद्ध चिकित्सक डा. कमलकुमार चौरडिय़ा ने भी देहदान कर लोगों को इसके लिए प्रेरित किया था।
विश्व में प्रसिद्ध है नीमच
जब भी कहीं नीमच का नाम लिया जाता है तो उसे नेत्रदान और देहदान की नगरी के रूप में संबोधित किया जाता है। यह हमारे लिए गर्व की बात है। पहले नेत्रदान और अब देहदान के क्षेत्र में नीमच विश्व प्रसिद्ध हो गया है। अब तक लायंस क्लब के माध्यम से २२०० जोड़ी नेत्रदान हो चुके हैं। २६ के करीब देहदान भी प्राप्त हुए हैं। मानवता की सेवा के लिए देहदान एक अनुकर्णीय मिसाल है। मेडिकल शोध के लिए देह उपलब्ध नहीं होती हैं। ऐसे में जो व्यक्ति देहदान की घोषणा करता है वो सीधे सीधे मानवता का संदेश देता है।
- सुनील शर्मा, अध्यक्ष लायंस क्लब नीमच

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned