लाखों रुपए सिग्रल पर खर्च के बाद भी नियमों दिखा रहें ठेंगा

लाखों रुपए सिग्रल पर खर्च के बाद भी नियमों दिखा रहें ठेंगा

Mahendra Kumar Upadhyay | Publish: Apr, 11 2019 11:49:31 AM (IST) Neemuch, Neemuch, Madhya Pradesh, India

- लोगों को नहीं पता सिग्रल के नियम
- कुछ दिन पहले सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान समझाइश का नहीं लोगों पर असर

नीमच। शहर में लाखों रुपए की लागत से नगर पालिका द्वारा ट्रेफिक सिग्रल लगाए गए है, लेकिन इनके होन या न होने का कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। हालात यह है कि सिग्रल पर वाहन चालकों को ध्यान ही नहीं रहता है। वह रेड सिग्रल में भी चौराहा पार करते है और दुर्घटना की संभावना बनी रहती है।
कमल चौक चौराहे पर हालत यह हैकि यहां पर एक यातायात पुलिसकर्मी तैनात है, लेकिन छतरी की व्यवस्था नहीं होने के कारण वह भी तेज धूप में इधर-उधर नदारद हो जाता है, उसके बाद मनमर्जी मुताबिक यातायात चलता है। रेड सिम्रल की कोई परवाह नहीं करता है। मानो वाहन चालकों को यातायात नियमों के बारे में कुछ पता ही नहीं है।

शहर में नहीं ट्रेफिक पार्क
शहर में ट्रेफिक पार्क भी बनने की योजना है, लेकिन अभी तक इस योजना को अमली जामा नहीं पहनाया गया है। जबकि मध्यप्रदेश में कई शहरों में ट्रेफिक पार्क बनकर तैयार है, स्कूली बच्चों को यातायात नियमों के बारे में वहां विस्तृत से समझाया जाता है। जिससे आने वाली पीढ़ी यातायात नियमों के प्रति जागरूक रहें।

लोगों में जागरूकता का अभाव
यातायात नियम लोगों की सुरक्षा के लिए बने है, नियमों की अवहेलना वाले हादसों का शिकार होते हैं। यातायात पुलिस नियमों की अवहेलना करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करती है। रेड सिग्रल क्रास में भी लगातार चालान काटकर जुर्माना कार्रवाई की जा रही है, लेकिन लोग समझने को तैयार नहीं है। पुलिसकर्मी को भी चौराहे पर तैनात रहने की हिदायत दी जाएगी।
-राम सिंह राठौर, प्रभारी यातायात थाना नीमच।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned