मॉब लिचिंग पर आधारित फिल्म में नीमच के कलाकार मयंक का जलवा

मॉब लिचिंग पर आधारित फिल्म में नीमच के कलाकार मयंक का जलवा

harinath dwivedi | Updated: 01 Aug 2018, 11:12:52 AM (IST) Neemuch, Madhya Pradesh, India

-कई नाटकों में किया है मंचन

नीमच. इन दिनों मॉब्लिचिंग की घटनाएं देश भर में चर्चा का विषय बनी हुई है। गौ तस्करी के नाम पर भीड़ किसी को भी शिकार बना रही है। इसी पर आधारित फिल्म बनी है उन्माद। जिसमें नीमच के युवा कलाकार मयंक गर्ग ने अभिनय के जलवे बिखेरे हैं।
गाय के नाम पर राजनीति कर लोकतंत्र में रोटिया सेंकने वालों की हकीकत बयां करने वाली इस फिल्म में मयंक सह अभिनेता है और फिल्म में मुस्लिम युवती के भाई की भूमिका में उन्होने अभिनय की छाप छोड़ी है।फिल्म में जावेद अली, अभिनेता रघुवीर यादव, रजा हसन, पामेला जैन की अलग-अलग स्वरूपों में भूमिकाएं हैं। अमित पुडिर, निकिता विजयवर्गीय, इम्तियाज खान, अमर, कुश, ज्योति पटेल, ज्ञानप्रकाश नागर जैसे कलाकार अभिनय कर रहे है।
मंयक मूलत: थियेटर के कलाकार हैं। गांधी ने कहा था नाटक में वे गांधी का किरदार निभाकर चर्चा में आए थे। इसके अलावा लगभग 10 नाटकों में मुख्य पात्र का अभिनय किया है।फिल्म उन्माद 10 अगस्त को अखिल भारतीय स्तर पर रिलीज हो रही है। मयंक का कहना है कि फिल्म, थियेटर, सीरियल आदि समाज में फैली विकृतियों और बुराइयों को मिटाने और जागरुकता का सशक्त माध्यम हैं। मयंक नीमच के इंदिरा नगर में किराना व्यसायी दिलीपकुमार के पुत्र हैं।22 वर्षीय मयंक एमबीए की पढ़ाई कर रहे हैं।
मयंक ने बताया कि उन्माद फिल्म दो दोस्तों की कहानी है।जिसमें से एक आर्थिक संकट से जूझ रहा है उससे उबरने के लिए दूसरा मित्र उसे बैल देता है। बैल को गाय बताकर उन्माद फैलाया जाता है। सच्चे टीवी पत्रकारों की खबरों को भी कैसे दबाया जाता है वह भी इस फिल्म में दिखाया गया है।
--------------

महिला की मौत के मामले में उदयुपर के न्यायाधीश के बयान दर्ज हुए
-घासलेट डालकर जलाई गई महिला के मृत्युपूर्व कथन लिए थे
नीमच. बीसी के रुपयों के विवाद में एक महिला पर केरोसिन डालकर जला देने की घटना को लेकर राजस्थान के उदयपुर के न्यायाधीश के नीमच न्यायालय में कथन दर्ज किए गए हैं। महिला की उपचार के दौरान उदयपुर में मौत हो गई थी जबकि उदयपुर के न्यायाधीश ने मृत्यु पूर्व बयान लिए थे।
जिला लोक अभियोजन अधिकारी आरआर चौधरी ने बताया कि आरोपिया मंजू पति राजेश जाटव व रानी पिता राजेश जाटव निवासी ग्वालटोली नीमच के यहां अन्य महिलाओं के अलावा हेमा पति लोकेश भी बीसी चलाती थी। 1 दिसम्बर 2015 को बीसी की राशि हेमा को मंजू एवं रानी को देना थी जिसमें देरी हो गई थी।इसी के चलते दोनो महिलाओं ने हेमा के ऊपर घासलेट डालकर जला दिया था। जिससे वह 81 प्रतिशत तक जल गई थी। रिपोर्ट पर से आरोपिया रानी व मंजूबाई के विरूद्ध थाना नीमच केंट में अपराध दर्ज किया गया था। मृतिका हेमा को गंभीर अवस्था में जिला चिकित्सालय नीमच के इमरजेंसी वार्ड से सर्जिकल विशेषज्ञ उदयपुर को रैफर कर दिया था। जहां पर २ दिसंबर को उदयपुर के न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी नुकेश भगोरा द्वारा पुलिस के निवेदन पर महाराणा भूपाल राजकीय चिकित्सालय उदयपुर में जाकर गंभीर घायल हेमा के कथन लिये थे। जिसमें मृतिका हेमा ने बताया था कि उसे किन लोगों द्वारा घासलेट डालकर जलाया गया था। इस घटना से संबंधित प्रकरण में नीमच के अपर सत्र न्यायाधीश जसवंत सिंह यादव के न्यायालय में विचाराधीन है।जिसमें अभियोजन की ओर से जिला लोक अभियोजन अधिकारी चौधरी द्वारा उदयपुर के न्यायाधीश के बयान लिपीबद्ध करवाये गये। स्मणीय है कि घटना के समय ग्वालटोली में अशांति का माहौल उत्पन्न हो गया था। प्रकरण विचारण में है।
-----------

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned