कोरोना की आग मंदसौर में दहकने पर नीमच में क्या उठाया प्रशासन ने कदम पढ़े....

कोरोना की आग मंदसौर में दहकने पर नीमच में क्या उठाया प्रशासन ने कदम पढ़े....

By: Virendra Rathod

Published: 18 Apr 2020, 11:40 AM IST

नीमच। जिले के समीपवर्ती जिले मंदसौर, प्रतापगढ सहित अन्य जिलों में कोरोना संक्रमण की आग दहकने से जिला प्रशासन ने एतिहायत तौर पर एक बाद फिर दो दिन का पूर्णत: लॉक डाउन घोषित कर दिया। जिसके प्रथम दिन कोतवाली थाना क्षेत्र में सुबह से ही पुलिस अधिकारी ने मय पुलिसबल के शहर की सड़को पर निकले और फ्लेग मार्च निकाला औरशहरवासियों को लॉकडाउन का पालन करने की अपील की। वही पुलिस अधिकारी इस बात को लेकर भी सभी को चेता रहे है कि जो कोई आदेश का पालन नहीं करेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाही उनके द्वारा की जाएगी। वहीं मूलचंद मार्ग पर मजदूरों व मांगने वाले लोगों को बाहर देखा गया, नगर पालिका के स्वास्थ्य अधिकारी विश्वास शर्मा ने वहां पहुंचकर सभी को हटाया।

 

कोरोना की आग मंदसौर में दहकने पर नीमच में क्या उठाया प्रशासन ने कदम पढ़े....

जिले में दो दिन पूर्णत: लॉक डाउन प्रशासन के द्वारा एतिहायत के तौर पर घोषित होने के बाद शनिवार को पूर्णत: शहर में सन्नाटा पसरा रहा है। वहीं दूध डेयरी की दुकान के अलावा अन्य सभी दुकाने बंद रही। वहीं पुलिस प्रशासन ने शहर में लॉक डाउन पालना के लिए वाहनों से फ्लेग मार्च निकाला। इस दौरान जिला कलेक्टर जितेंद्र सिंह राजे, एसपी मनोज कुमार रॉय, एएसपी राजीव मिश्रा सहित प्रशासनिक व पुलिस महकमा मौजूद था। दर्जनों की तादाद में फ्लेग मार्च के दौरान एक साथ वाहन निकले। गौरतलब है कि समीपस्थ जिला मंदसौर में कोराना पोजिटिव मरीजों की संख्या बढऩे और एक पॉजिटिव मरीज की मौत होने पर नीमच में बड़ी सतर्कता जिला मुख्यालय से 16 किलोमीटर दूर स्थित हरकीयाखाल के 28 लोगो को जिला हॉस्पिटल में कोरेंटाइम में रखा गया है। क्योंकि यह सभी मंदसौर निवासी महिला के रिश्तेदार है और मृतक की अंत्येष्टि मैं शामिल हुए थे। सुरक्षा के मद्देनजर कलेक्टर जितेंद्र सिंह राजे द्वारा 19 अप्रैल तक संपूर्ण जिले को लॉक डाउन किया गया है केवल महत्वपूर्ण और आवश्यक सामग्री, पेट्रोल, दूध एव मेडिकल को ही लॉक डाउन से मुक्त रखा गया है। वहीं पुलिस भी आम जनता से लॉक डाउन का पालन करवाने में लगी हुई है। इधर नगर पालिका द्वारा भी पूरे शहर को सैनिटाइज करते हुए सड़कों व सड़कों पर लगे डिवाइडर हाथ ठेले गुमटिया, दुकाने, सडको पर खड़े वाहन आदि को भी सनराइज किया गया। एसपी ने आम लोगों से भी अपील की है कि लॉक डाउन का पालन करें और पुलिस व प्रशासन का सहयोग करें।

पड़ौसी जिले से लगी 15 सीमाएं सील
- जिले के राजस्थान से लगी सीमाए खासकर नयागांव, बघाना, जीरन, सिंगोली सहित अन्य सीमाओं को प्रशासन ने सीज कर दिया है।
- चेकिंग के लिए जिले में 85 से अधिक चेक पोस्ट और करीब 450 फिक्स प्वाइंट पर पुलिस की तैनाती है।
- लॉक डाउन के तहत सुरक्षा में 650 पुलिसकर्मी, 100 होमगार्ड और 500 एसएफ, वन विभाग, मंडी बोड्र, रक्षा समिति सदस्य, एनसीसी केडिट तैनात है
- राजस्थान बॉर्डर सीमा पर तीन नाके और जिले की समीओ से लगे 12 नाके पर नयाब तहसीलदार, पटवारी, आशा कार्यकर्ता और मेल नर्स के अलवा पुलिस और एसएफ के जवान तैनात है।

पूर्णत: लॉक डाउन में यह सख्ती
- पूर्णत: दो दिन के लॉक डाउन में सिर्फ इमरजेंसी ड्यूटी वाले सरकारी कर्मचारी ही ड्यूटी पर आ जा सकेंगे। उन्हेंं आईडी कार्ड साथ रखना होगा।
- सुबह सात बजे से ११ बजे तक सिर्फ दूध डेयरी खुली रही, दुध विक्रेताओं को घर-घर बांटने की छूट रही। मेडिकल स्टोर्स खुले रहे।
- निराश्रित मजदूरों को भोजन वितरित करने वाली सामाजिक संस्थाओं को छूट रही।
- मंदिर पर पूजा अर्चना में पूजारी के अतिरिक्त अन्य को मंदिर पर अनुमति नहीं।
- न्यूज पेपर बांटने वालों को सुबह नो बजे तक की छूट दी।
- पेट्रोल पंप खुले रहे, लेकिन सिर्फ सरकारी और जरूरी व्यवस्थाओं में लगे लोगों को ही पेट्रोल देने की छूट।

आमजन का मिल रहा पूर्ण सहयोग
पूर्णत: लॉक डाउन के दौरान आमजन व दुकानदारों का पूरा सहयोग मिला है। दुध, मेडिकल और पेट्रोल पंप के अतिरिक्त किसी को खुलने की छूट नहीं मिली। पुलिस लॉक डाउन की पालना कराने में जुटी है, उन्होंने स्वयं फ्लेग मार्च के दौरान शहर की स्थिति का जायजा लिया है, जिला पूर्णत: बंद रहा। आमजन की एतिहायत के लिए प्रशासन कदम उठा रहा है।
- जितेंद्र सिंह राजे, जिला कलेक्टर नीमच।

Virendra Rathod Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned