किसान आंदोलन के मद्देनजर थोक में सब्जियां लाने के लिए सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी

किसान आंदोलन के मद्देनजर थोक में सब्जियां लाने के लिए सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी

harinath dwivedi | Updated: 31 May 2018, 10:46:18 AM (IST) Neemuch, Madhya Pradesh, India


- दूध विक्रेताओं के लिए बनाए सेंटर प्वाइंट
- आज संवेदनशील क्षेत्रों में फ्लैग मार्च, वाहनों का अधिग्रहण


नीमच. प्रस्तावित किसान आंदोलन के मद्देनजर जिले में प्रशासन और पुलिस ने आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए व्यापक कार्ययोजना बनाई है। इसमें दूध और फल, सब्जी विक्रेताओं की सुरक्षा के साथ ही बाहर से सामग्री आयात के लिए वाहन और सुरक्षा भी मुहैया कराई जाएगी। पुलिस की सुरक्षा संबंधी गतिविधियां ३१ मई सुबह से प्रारंभ हो जाएगी।
सब्जी विक्रेताओं की ली बैठक-
नीमच शहर में रोजाना करीब ३०० क्विंटल सब्जी बाहर से आती है जबकि स्थानीय किसान भी सब्जियां मंडी में लाते हैं। सब्जी के लिए नागरिकों को परेशान न होना पड़े इसके लिए सब्जी विक्रेताओं की बुधवार को नीमच मंडी में पुलिस अधिकारियों ने बैठक ली। बैठक में थोक व्यापारियों ने बताया कि वे किसी भी दशा में सब्जियां मंगवाएं। व्यापारियों को यदि आवश्यकता होगी तो उनके लिए बड़े वाहन उपलब्ध कराने में मदद की जाएगी। एक साथ अधिक व्यापारी अपनी सब्जियां मंगवा सकेंगे। राजस्थान के जिन सीमावर्ती क्षेत्रों से सब्जियां आती हैं ऐसे ६ प्वाइंट पर पुलिस तैनात रहेगी। ताकि सीमा क्षेत्रों से सब्जियों के वाहनों के आने को कोई रोक न सके। जरूरत के अनुसार पुलिस इन वाहनों की पायलेटिंग भी करेगी। सब्जी मंडी में फुटकर और थोक विक्रेताओं से कहा गया कि वे किसी भी सूरत में सब्जियों की आपूर्ति बंद न करें। जहां से सब्जी मंगवानी है उसके लिए पुलिस और प्रशासन की मदद लें। दूध विक्रेताओं ने लिखित में दिया-
नीमच शहर में रोजाना करीब डेढ़ लाख लीटर दूध की खपत होती है। इसमें से राजस्थान की तीन प्रमुख डेयरियों का दूध यहां २५ हजार लीटर से अधिक आता है। जबकि सांची दूध का ३ हजार लीटर दूध रोजाना आता है। पुलिस ने बुधवार दोपहर दूध के थोक विक्रेताओं की बैठक लेकर तय किया है कि उन्हें किसी प्रकार की परेशानी नही होने दी जाएगी। ग्रामीण क्षेत्रों से जो दूध विक्रेता आते हैं उनके लिए भी सुरक्षित माहौल दिया जाएगा। दूध एकत्रिकरण के लिए जिले में ६ सेंटर बनाए गए हैं। इन सेंटरों की सभी दूध विक्रेताओं को जानकारी दी गई है। सांची दूध की ओर से करीब २० क्विंटल ड्राय मिल्क की आपूर्ति भी की जा रही है। नीमच शहर में २२ बड़ी दूध डेयरियां हैं। थोक वितरकों की दुकानों पर सुबह और शाम के समय पुलिस गश्त करेगी।
आज संवेदनशील क्षेत्रों में फ्लैग मार्च-
इधर पुलिस अतिरिक्त बल के साथ ३१ मई को जिले के प्रत्येक संवेदनशील क्षेत्र में फ्लैग मार्च निकालेगी। १४ वाहनों का अतिरिक्त अधिग्रहण किया गया है। सुबह से ग्रामीण क्षेत्रों में गश्त शुरू की जाएगी। हाइवे और बायपास तथा शहर के प्रवेश मार्गों पर पुलिस सुरक्षा के प्वाइंट लगाए जाएंगे।
जिले के तीनो उपखंडों के लिए अनुविभागीय अधिकारियों के नेतृत्व में सेक्टर मजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए हैं। १२ अधिकारियों को सेक्टर की जिम्मेदारियां दी गई हैं।


- सुरक्षा की दृष्टि से हर स्तर पर तैयारी की गई है। किसी प्रकार की असुविधा ग्रामीणों को या शहर के नागरिकों को नहीं होने दी जाएगी। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। - तुषारकांत विद्यार्थी, एसपी नीमच
-
कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए हर संभव प्रयास किए हैं। सब्जी, दूध, फल विक्रेताओं की बैठकें लेकर उन्हें निर्बाध आपूर्ति के लिए कहा गया है। बाहर से यदि सामग्री आयात करना होगी तो उसके भी पर्याप्त प्रबंध होंगे।
आंदोलन को लेकर तैयारियां एक नजर-
-प्रशासन की किसानों के साथ बैठकें- ३
- एसपी, कलेक्टर की गावों में चौपाल- ७ स्थानों पर
- दो दर्जन व्यापारियों को जिला मुख्यालय पर स्टॉक के लिए कहा गया है
- ड्राय मिल्क का स्टॉक करीब ८ क्विंटल, दूध की आपूर्ति निर्बाध कराने के प्रयास
- एसएएफ की ३ कंपनियां और जिला बल सुरक्षा के लिए होगा तैनात

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned