यहां पढ़ें क्यों अन्नदाता कर रहे इस एसएमएस का इंतजार

यहां पढ़ें क्यों अन्नदाता कर रहे  इस एसएमएस का इंतजार

harinath dwivedi | Publish: Dec, 08 2018 10:32:15 PM (IST) Neemuch, Neemuch, Madhya Pradesh, India

यहां पढ़ें क्यों अन्नदाता कर रहे इस एसएमएस का इंतजार

नीमच. भावांतर भुगतान योजना शुरू हुए डेढ़ माह से अधिक समय बीत चुका है। इस दौरान अन्नदाता करीब पौने दो लाख से अधिक क्ंिवटल उपज बेच चुका है। लेकिन आश्चर्य की बात है कि अभी तक किसी भी किसान के खाते में फ्लेट रेट की राशि नहीं आई है। ऐसे में हर दिन अन्नदाता मोबाईल में एसएमएस आने का इंतजार कर रहा है। लेकिन उनके मोबाईल में भुगतान आने की घंटी नहीं बज रही है।
बतादें की जिले में भावांतर भुगतान योजना के तहत 20 अक्टूबर से मक्का और सोयाबीन की खरीदी प्रारंभ हो गई थी। जिसके तहत दोनों उपज चाहे किसी भी रेट बिके अन्नदाता को फ्लेट रेट के रूप में 500 रुपए प्रति क्ंिवटल के मान से राशि मिलना है। योजना के तहत खरीदी प्रारंभ हुए करीब डेढ़ माह से अधिक का समय बीत चुका है। लेकिन अभी तक एक भी किसान के खाते में फ्लेट रेट की राशि नहीं आई है।
डेढ़ माह में 8 करोड़ 82 लाख रुपए
20 अक्टूबर से 6 दिसंबर तक अन्नदाता जिलेभर की तीनों मंडियों में करीब 1 लाख 20 हजार 14 ङ्क्षक्वटल सोयाबीन बेच चुके हैं। वहीं मक्का इसी अवधि में करीब 56 हजार 428 क्ंिवटल बेच चुके हैं। इस मान से अभी तक दोनों उपज मिलाकर कुल 1 लाख 76 हजार 442 क्ंिवटल उपज किसान बेच चुका है। चूकि उन्हें दोनों उपजों में फ्लेट रेट के रूप में 500 रुपए क्ंिवटल के मान से मिलना है। इसलिए अभी तक किसानों को देने के लिए 8 करोड़ 82 लाख 21 हजार रुपए हो चुके हैं। लेकिन अभी तक एक भी किसान के खाते में फ्लेट रेट की राशि नहीं आई है। चूकि जैसे ही राशि ऑनलाइन खाते में जारी होगी, वैसे ही अन्नदाता के मोबाईल में मैसज आएगा। लेकिन अभी तक एक भी किसान के पास मैसेज नहीं पहुंचा है।

चुनाव और आचार संहिता के चलते नहीं आई अभी तक राशि
जानकारों की माने तो निश्चित ही भावांतर भुगतान योजना के तहत आने वाली राशि चुनाव और आचार संहिता के चलते नहीं आई है। अन्यथा अभी तक अधिकतर किसानों के खाते में फ्लेट रेट की राशि 500 रुपए प्रति ङ्क्षक्वटल के मान से आ चुकी होती। चूकि अब चुनाव भी पूर्ण हो चुके हैं। ऐसे में अन्नदाता भी उम्मीद कर रहे हैं कि शीघ्र ही मोबाईल में मेसेज की घंटियां बजने लगेगी।
मैं 25 नवंबर को सोयाबीन बेचकर गया था, 40 क्ंिवटल सोयाबीन बेची थी, इस बार भी करीब 16-17 बोरी सोयाबीन बेचने आया हूं, लेकिन भावांतर भुगतान की राशि अभी तक खाते में नहीं आई है। सुना था चुनाव के चलते कोई हलचल नहीं थी, लेकिन अब चुनाव भी हो गए हैं इसलिए शीघ्र ही राशि आनी चाहिए।
-चर्तुभुज गोस्वामी, किसान
मैं पिछले माह मक्का बेचकर गया था, काफी दिन हो गए, लेकिन अभी तक भावांतर भुगतान योजना के तहत आने वाली राशि नहीं आई है। मैं रोज ही मेसेज का इंतजार करता हूं। लेकिन अभी तक राशि नहीं आई।
-श्याम जोशी, किसान

भावांतर भुगतान योजना के तहत किसानों को दी जाने वाली फ्लेट राशि के संबंध में अभी तक कोई आदेश निर्देश नहीं आए है। चूकि फ्लेट रेट की राशि मिलना तो है लेकिन दिशा निर्देश आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।
-एनएस रावत, उप संचालक कृषि

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned