VIDEO: रोजगार की उम्मीद में आए युवा, बायोडाटा लेकर किया रवाना

VIDEO: रोजगार की उम्मीद में आए युवा, बायोडाटा लेकर किया रवाना

Subodh Kumar Tripathi | Publish: Mar, 03 2019 01:50:07 PM (IST) Neemuch, Neemuch, Madhya Pradesh, India

VIDEO: रोजगार की उम्मीद में आए युवा, बायोडाटा लेकर किया रवाना

नीमच. शासन द्वारा युवाओं को रोजगार से जोडऩे के सारे दावे खोखले साबित हो रहे हैं। कहने को तो समय समय पर युवाओं के लिए रोजगार मेले का आयोजन किया जाता है। लेकिन वास्तव में रोजगार मेले केवल औपचारिक साबित हो रहे हैं। क्योंकि हर बार करीब एक हजार से अधिक युवा मेले में पहुंचते हैं। लेकिन रोजगार चंद लोगों के हाथ ही लग पाता है। क्योंकि अधिकतर कंपनियों के प्रतिनिधि केवल बॉयोडाटा लेकर युवा को चलता कर देते हैं। ऐसा ही कुछ शनिवार को आयोजित हुए जिला स्तरीय रोजगार मेले में नजर आया। कहने को तो यहां 822 युवा पहुंचे, लेकिन रोजगार चंद युवाओं के हाथ ही लगा।
जिला रोजगार कार्यायल द्वारा शनिवार को सीएसवी अग्रोहा भवन में जिला स्तरीय रोजगार मेले का आयोजन किया गया। इस मेले में युवाओं को रोजागर देने के लिए निजी कंपनियों सहित कंसलटेंसी और शासन की योजनाओं से संबंधित करीब 10 स्टॉल लगे थे। कहने को तो यह स्टॉलें युवाओं को रोजगार देने के लिए लगाई गई थी। लेकिन जब पत्रिका ने पड़ताल की तो हालात आश्चर्य जनक नजर आए। क्योंकि डायरेक्ट युवाओं को रोजगार देने वाले एक दो ही स्टॉले थी, वहीं एक दो स्टॉलें प्लेसमेंट सर्विस की थी, जो केवल युवाओं से बॉयोडाटा ले रही थी, इन युवाओं से लिए गए बॉयोडाटा के वे विभिन्न कंपनियों को भेजेंगे, जहां से जरूरत पडऩे पर उन्हें बुलाकर इंटरव्यूह लिया जाएगा, जिसमें पात्र होने के बाद उन्हें रोजगार मिलेगा। वहीं कुछ स्टॉले विभिन्न शासकीय योजनाओं की जानकारी देने के लिए लगाई थी, जैसे युवा स्वाभिमान योजना, एनआरएलएम, भारतीय स्टेट बैंक के विभिन्न नि:शुल्क प्रशिक्षण, व्यापार एवं उद्योग केंद्र आदि।
30 हजार युवा बेरोजगार, मेले में पहुंचे मात्र 822
यूं तो जिले में करीब 30 हजार से अधिक युवा बेरोजगार हैं। लेकिन रोजगार मेेले में मात्र 822 युवा ही पहुंचे। जिसमें से भी करीब 721युवाओं को ही चिन्हित किया गया। एक दिवसीय रोजगार मेले में लगी स्टॉलों पर शुरूआत में तो हर टेबल पर युवाओं की भीड़ नजर आई, लेकिन करीब एक दो घंटे बाद ही सभी स्टॉलों पर सन्नाटा नजरआने लगा, वहीं मेले में लगी कुर्सियां भी आधी से अधिक खाली थी।
कंपनी का नाम संख्या
सेफ लिमिटेड इंदौर 59
शिव शक्ति बायोटेक इंदौर 21
जेके बायो भोपाल 72
संगम स्पीनर भीलवाड़ा 87
एल एक्स 24
राज कंसलटेंसी रतलाम 371
नेटसर्च प्रायवेट लि. पुना 97
इस प्रकार उक्त युवाओं को रोजगार मेले के तहत चिन्हित किया गया, लेकिन आंकड़ों पर नजर डाले तो पता चलेगा कि जो सबसे अधिक आंकड़ा है वह कंसलटेंसी वाले का है यानि यहां केवल युवा बॉयोडाटा देकर गए हैं। जिनका चयन संबंधित कंपनी द्वारा किया जाएगा।
मैंने बीकॉम किया है। यहां प्लेसमेंट सर्विस वाले को बॉयोडटा दिया है। वे जब भी कॉल करेंगे इंटरव्यूह के लिए जाना पड़ेगा। मेले में अच्छी कंपनियों के प्रतिनिधि भी आने चाहिए, ताकि सीधे यही से युवाओं का चयन होकर उन्हें रोजगार मिले। उच्च शिक्षित युवाओं के लिए काफी कम अवसर आते हैं।
-अभिनव जैन, युवा
मैंने एमबीएक किया है। मेले में आया था कि कुछ अच्छे अवसर मिले तो बात बने, यहां केवल हमसे जानकारी ली जाती है। जबकि कपंनी के बारे में भी पूरी डिटेल होनी चाहिए, यहां बायोडाटा ले लिया है। जबकि होना यह चाहिए कि सीधे यहीं कंपनी का प्रतिनिधि आकर चयन करें, ताकि अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार मेले का लाभ मिले।
-योगेश अहीर, युवा

रोजगार मेले की जानकारी हर युवा तक पहुंचाने के लिए काफी प्रचार प्रसार किया गया था, ग्राम पंचायत स्तर तक सूचना पहुंचाई थी। चूकि हायर एज्युकेशन वाले विद्यार्थियों का कोर्स पूरा होने के साथ ही विभिन्न कंपनियां सीधे युवाओं को ले लेती है। इस कारण मेले का मुख्य उद्देश्य रहता है कि अन्य सभी युवाओं को रोजगार मिले, शनिवार को आयोजित मेले में 721 युवाओं को लाभ मिला है। हमारा प्रयास रहेगा कि अगली बार आयोजित होने वाले मेले में बड़ी कंपनियों को भी बुलाएंगे।

-शंभू मैईड़ा, प्रभारी जिला रोजगार अधिकारी नीमच

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned