पुलिस अधिकारी बने शिक्षक और क्या पढ़ा रहे हैं पढें़..

पुलिस अधिकारी बने शिक्षक और क्या पढ़ा रहे हैं पढें़..

By: Virendra Rathod

Published: 05 Sep 2019, 12:23 PM IST

नीमच। पुलिस में केरियर बनाने के लिए गरीब युवा वर्ग के होनहार विद्यार्थियों के भविष्य को संजाने का कार्य पुलिस निशुल्क केरियर गाइडेंस क्लासेज कर रही है। गत वर्ष में पदस्थ एसपी तुषारकांत विद्यार्थी ने इसकी पहल ऑपरेशन ज्योति के नाम से की थी, जो युवा पुलिस में आना चाहते है। उनकों यहां पर तैयारी करवाई जाती है। अभी तक यहां से करीब 20 युवाओं का पुलिस में चयन हुआ है।

ट्रेनर पुलिसकर्मी कमल कुमार ने बताया कि पुलिस कंट्रोल रूम में सीएसपी ऑफिस के पास केरियर गाइडेंस क्लासेज सुबह ११ बजे से एक बजे तक लगाई जाती है। पूर्व में बच्चों की संख्या करीब 60 से 70 थी। जिसके बाद बीच में गेप लगने से विद्यार्थियों की संख्या कम हो गई है। अब कुल 30 विद्यार्थी आ रहे है। यहां पर सप्ताह में एसपी राकेश कुमार सगर, आरआई आनंद घुंघरवाल और सीएसपी भी बच्चों की क्लासेज लेते है। उन्हें पुलिस की बारीकियां बताते है। खासकर यहां पर सामान्य ज्ञान, रीजनल, मैथ्स की तैयारी कराई जाती है। वहीं सुबह क्रमांक 2 विद्यालय ग्राउंड में फिजिकल तैयारी भी कराई जाती है। जिससे युवा भर्ती के दौरान कहीं भी न रूके।

काफी सहयोग मिलता है
विद्यार्थी राहुल, नरेंद्र और अंशुल ने बताया कि ऑपरेशन ज्योति उनके केरियर को ज्योति देने का काम कर रहा है। नीमच में अच्छी फेकल्टी नहीं है। जिस कारण शासकीय नौकरी में युवा वर्ग के लगने चांस कम हो जाते है। हम एसपी के शुक्रगुजार है कि उन्होंने हमें अपना केरियर बनाने का एक प्लेटफार्म उपलब्ध करा रखा है। यहां पर पुलिस के अलावा एसएससी में भी कुछ स्टूडेंट का चयन हुआ है। यह काफी अच्छी पहल है। जिसके लिए यहां पर पढऩे वाला हर विद्यार्थी पुलिस विभाग का दिल से शुक्रगुजार है। गरीब बच्चे महंगी कोचिंग नहीं कर सकते है, इसीलिए गाइडेंस के अभाव में वह शासकीय नौकरी से वंचित रह जाते थे। लेकिन यहां पर अच्छी तैयारी कराई जाती है और जो मेहनत करता है, उसका शत प्रतिशत चयन होता है।

सालभर से चल रहा प्रयास
ऑपरेशन ज्योति के नाम से युवा वर्ग को केरियर गाइडेंस देकर उनके भविष्य बनाने और शासकीय नौकरी में सहायता का प्रयास पुलिस विभाग कर रहा है। यहां से काफी युवाओं ने पढ़कर नौकरी प्राप्त की है। नौकरी लगने के बाद जब विद्यार्थी यहा मिलने आता है, काफी अच्छा लगता है। यहां सभी निशुल्क है, उसकी नौकरी लगने के बाद जो खुशी मिलती है, यहीं पुलिस अधिकारियों का शुल्क है।
- राकेश मोहन शुक्ल, सीएसपी नीमच।

Virendra Rathod Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned