scriptNow those coming from Rajasthan to Neemuch district are not well | अब राजस्थान से नीमच जिले में आने वालों की खैर नहीं | Patrika News

अब राजस्थान से नीमच जिले में आने वालों की खैर नहीं

प्रशासनिक अधिकारी राजस्थान सीमा पर ही करेंगे यह काम

नीमच

Published: December 07, 2021 08:31:49 pm

मुकेश सहारिया, नीमच. नीमच जिले की सीमा तीन स्थानों से राजस्थान से मिलती है। जिस तेजी से राजस्थान में कोरोना संक्रमण फैल रहा है जिले में अभी से सुरक्षा के उपाय करना आवश्क हो गया है। इसके लिए जिला प्रशासन को सख्ती के साथ कोविड गाइड लाइन का पालन करना चाहिए। कलेक्टर ने इस बात को गंभीरता से लेते हुए राजस्थान सीमा से लगे चेकपोस्टों पर लोगों की जांच करने के निर्देश देने की बात कही है।

patrika_1.jpg
ओमिक्रॉन की आशंका के बीच लोग अब भी लापरवाह
प्रदेश में ओमिक्रॉन की आशंका कम है, लेकिन राजस्थान में जिस तेजी से यह संक्रमण फैल रह है इसे गंभीरता से लेने की आवश्यकता है। ऐसा नहीं कि ओमिक्रॉन के बारे में लोगों को जानकारी नहीं है। कोरोना संक्रमण के बारे में अधिकांश लोग जागरूक है। दूसरी लहर के बाद तो कोरोना नाम से ही लोग सिहर जाते हैं। इसी साल दूसरी लहर के चलते कई लोगों ने अपने सगे संबंधियों को खोया है। ऐसे में जब कोरोना की तीसरी लहर ओमिक्रॉन के रूप में सामने है फिर भी लोग लापरवाह बने हुए हैं। मंगलवार को कलेक्टोरेट में आयोजित जनसुनवाई में नाममात्र लोग ही मास्क लगाकर पहुंचे थे। आश्चर्य की बात यह है कि प्रशासनिक अधिकारी भी लापरवाह थे। शहर में भी भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में लोग बिना मास्क के घूमते दिखाई दिए। ऐसे में कोरोना संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में लोग कब आ जाएं कहा नहीं जा सकता। कोरोना से बचाव का सबसे कारगर उपाय ही मास्क है। तीसरी लहर की आशंका के बीच लोगों को मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग शुरू कर देना चाहिए।

लागू हो सकती है मास्क की अनिवार्यता
कोरोना की तीसरी लहर के बीच नीमच जिले में संक्रमण फैलने से पहले उसके रोकने के सभी उपाय करना आवश्यक है। कलेक्टर मयंक अग्रवाल ने बताया कि वे मास्क की अनिवार्यता को लेकर आदेश जारी करेंगे। पहले लोगों को मास्क के बारे में जागरूक करेंगे। इसके बाद सख्ती से पालन कराने के लिए चालानी कार्रवाई की जाएगी। कलेक्टर ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर के बीच कोविड-१९ टीकाकरण पर अधिक ध्यान दिया जा रहा है। नीमच जिले में दोनों डोज लगाने वालों की संख्या काफी कम बची है। दोनों डोज नहीं लगवाने वाले लोगों में सबसे अधिक संख्या नीमच में है। इसके लिए एक बार फिर से वॉलेटियर्स को घर घर पहुंचकर लक्ष्य पूरा किया जाएगा। नीमच में करीब २० हजार लोग बचे हैं जिन्हें दूसरा डोज लगाया जाना शेष है। इस लक्ष्य को पूरा करने पर जोर दिया जाएगा।

राजस्थान से आने वालों की करेंगे जांच
यह बात सही है कि सीमावर्ती प्रदेश राजस्थान में कोरोना संक्रमण एक बार फिर तेजी से फैल रहा है। अधिकारियों को निर्देशित करेंगे कि वे राजस्थान सीमा से लगे प्रमुख मार्गों (चेकपोस्ट) पर लोगों की जांच करेें। जिन लोगों ने कोविड के दोनों डोज नहीं लगाए हैं उन्हें मौके पर ही टीके लगाएं। जल्द की जिले में मास्क अनिवार्य किया जाएगा। पहले समझाइश देंगे। इसके बाद बिना मास्क मिलने पर चालानी कार्रवाई की जाएगी।
- मयंक अग्रवाल, कलेक्टर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.