घर से निकलने से पहले देखें बस और ट्रेन की स्थिति

bhuvanesh pandya

Publish: Oct, 13 2017 09:42:43 (IST)

Neemuch, Madhya Pradesh, India
घर से निकलने से पहले देखें बस और ट्रेन की स्थिति

- त्यौहार के चलते बस और टे्रन में नहीं पांव रखने की जगह
- ट्रेन में नहीं मिल रहा रिजर्वेशन, बसों में भी बढ़े टिकटों के दाम

नीमच. त्यौहारों का असर अब बस और ट्रेनों में नजर आने लगा है। जहां लंबी दूरी की बसों में किराया दोगुना से अधिक लगने लगा है। वहीं टे्रनों में भी लोगों को रिजर्वेशन नहीं मिल रहा है। जहां एक ओर बसों में भीड़ बडऩे लगी है। वहीं ट्रेनों के जनरल कोच में भी दिन ब दिन यात्रियों की संख्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में अगर आप दीपावली मनाने अपने घर या अन्य कहीं जा रहे हैं। तो पहले बस और ट्रेनों की स्थिति देख लें। ताकि यात्रा के दौरान कोई परेशानी नहीं हो।
बतादें की वर्तमान में दीपावली के चलते लोग अपने घरों या अन्य स्थानों पर दीपावली मनाने के लिए जाने लगे हैं। ऐसे में बसों से लेकर ट्रेनों तक में भीड़ नजर आने लगी है। चूकि जिले के युवा नौकरी सहित पडऩे के लिए मुम्बई, पुना, बैंगलुरू, दिल्ली, जयपुर , औरंगाबाद आदि बड़े शहरों में रहते हैं। ऐसे में उन्हें दीपावली पर अपने शहर आने के लिए उन्हें ट्रेनों में रिजर्वेशन नहीं मिल रहा है। वहीं बसों में दोगुना से अधिक किराया लग रहा है। चूकि दीपावली का त्यौहार हर कोई अपने घर में ही मानता है। इस कारण उन्हें मजबूरी में दोगुना से अधिक किराया भुगतना पड़ रहा है।
स्थानीय बसों में नहीं रश
जिला मुख्यालय से इंदौर, भोपाल, उज्जैन आदि चलने वाली बसों में किराया समान्य दिनों की तरह ही वसूला जा रहा है। लेकिन वहां से जिन्हें महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, यूपी आदि के बड़े में आवाजाही करना है। उन्हें दोगुना से अधिक किराया भुगतना पड़ रहा है। ऐसे में जिन्हें दीपावली पर अपने घर आना है। उन्हें मजबूरी में दोगुना से अधिक किराया देना पड़ रहा है। क्योंकि ट्रेनों में रिजर्वेशन नहीं मिल रहे हैं। वहीं बसों में सीमित सीटें होने के कारण बस संचालकों द्वारा मनमाने किराए वसूले जा रहे हैं।
नहीं मिल रहा रिजर्वेशन, यात्रियों की संख्या भी बड़ी
बतादें की दीपावली के आगे पीछे शहर से चलने वाली कुछ ट्रेनों में लोगों को रिजर्वेशन नहीं और कुछ में वेटिंग मिल रहा है। ऐसे में लोग हर दिन तत्काल और प्रिमियम तत्काल में भी रिजर्वेशन कराने में जुटे रहते हैं। वहीं लंबी दूरी की रतलाम और चित्तोड़ से चलने वाली ट्रेनों में भी लोगों को वेटिंग ही नजर आ रही है। ऐसे में जब वे तत्काल के लिए कोशिश करते हैं तो उसमें भी सीटें चंद मिनट में ही पूरी हो जाती है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय से विभिन्न शहरों में आवाजाही करने वाले यात्रियों की संख्या भी प्रतिदिन ४ से पांच हजार के बीच चल रही है। जिसमें शनिवार से ओर भी बढ़ोतरी होने की संभावना है।
मेरा बेटा पुना में है। जो दीपावली पर आने के लिए पिछले कई दिनों से ट्रेन में रिजर्वेशन के लिए कोशिश कर रहा है। वहां से इंदौर और रतलाम तक आने वाली विभिन्न ट्रेनों में रिजर्वेशन नहीं मिला, ऐसी स्थिति में गुरुवार और शुक्रवार को तत्काल और प्रिमियम तत्काल में भी कोशिश की, लेकिन मायूसी ही हाथ लगी। चूकि दीपावली पर उसे घर तो आना ही है। इस कारण मजबूरन पुना से रतलाम तक २००० रुपए का टिकट बुक कराया है। जो सामान्य दिनों में करीब ४३० रुपए का होता है।
-मुकेश आंचलिया, शहरवासी
मुझे मेरी बेटी को औरंगाबाद से नीमच लाना था, चूकि वहां से सीधी ट्रेन सप्ताह में एक ही है। इस कारण वहां से इंदौर तक बस के माध्यम से आए। जिसमें १५०० रुपए प्रति व्यक्ति के मान से किराया वसूला गया। जबकि सामान्य दिनों में औरंगाबाद से इंदौर तक का किराया ४५० से ५०० रुपए के बीच होता है। चूकि दीपावली पर बेटी का घर आना भी जरूरी था। इसलिए अधिक किराया भी वहन किया।
-रामानुजदास पारीक, शहरवासी
------------------------

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned