सांवलिया सेठ को चांदी की पौशाक चढ़ाने का मुद्दा गहराया

सांवलिया सेठ को चांदी की पौशाक चढ़ाने का मुद्दा गहराया

By: Virendra Rathod

Published: 14 Oct 2020, 11:48 AM IST

नीमच। सांवलिया सेठ की चांदी की स्वर्ण परत पौशाक नीमच में तैयार होने के बाद मामला चर्चा में आया। पूर्व में जानकारी सामने आई कि किसी इंदौर के व्यापारी ने गुप्तदान में पोशाक तैयार करवाई है। जिसके बाद मंदिर ट्रस्ट ने पुजारी पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया। वहीं उन्हें नोटिस भी दिया गया कि उन्होंने बिना अनुमति के पोशाक कैसे धारण करवाई।

पत्रिका को जानकारी देते हुए सांवलिया सेठ मंदिर के पुजारी द्वारकादास वैष्णव ने बताया कि सभी बाते बेबुनियाद है, वास्तविकता यह है कि पुजारी के द्वारा किसी भी यात्री से वागा प्राप्त नहीं हुआ है। बल्कि दिनांक १ अक्टूबर २०२० को पुजारी द्वारकादास ने अपने पुत्र कमलेश वैष्णव के जरिए अपने स्वयं के खर्च पर नीमच से वागा चांदी का तैयार करवाया था। जिसके लिए मंडल की किसी भी प्रकार से अनुमति की जरूरत नहीं है। क्योकि सांवलिया जी मंदिर के गर्भगृह में मूर्ति की सेवा पूजा एंव साज श्रृंगार व आरती संबंधित समस्त कार्याे का दायित्व मंदिर मंडल की परम्परा के अनुसार ओसरा पुजारी का होता है। नीमच में गोपाल सोनी से बनवाई गई पोशाक का बिल भी उनके नाम पर ही है। इंदौर के एक श्रद्धालू ने मंदिर पर पूजा करने आने के दौरान पुजारी की सहायता अनुरूप पोशाक मंदिर तक पहुंचाई थी। जिसके बाद भ्रामकता फैला दी गई कि इंदौर के व्यापारी ने पोशाक चढ़ाई है। पोशाक करीब ३ किलो ७२० ग्राम चांदी से तैयार हुई थी।

Virendra Rathod Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned